BREAKING NEWS

विश्व में कोरोना मरीजों का बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के पार◾महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद शरद पवार ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात ◾दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾लॉकडाउन, अनुच्छेद 370 खत्म करना, राम मंदिर ट्रस्ट बड़ी उपलब्धियों में शामिल : गृह मंत्रालय ◾हिन्दुस्तान में बहुत सारे लोग कष्ट में हैं और भाजपा सरकार जश्न मना रही है : प्रियंका गांधी वाड्रा ◾लद्दाख सीमा तनाव पर रक्षामंत्री बोले- चीन से डिप्लोमैटिक और मिलिट्री लेवल पर चल रही है बातचीत ◾लॉकडाउन 5.0 लागू करने पर पीएमओ में महामंथन, गृहमंत्री अमित शाह ने की पीएम मोदी से मुलाकात◾कोरोना के बढ़ते केसों से घबराएं नहीं, महामारी से चार कदम आगे है आपकी सरकार : CM केजरीवाल◾मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ पर कांग्रेस ने कसा तंज, ‘बेबस लोग, बेरहम सरकार’ का दिया नारा ◾मोदी जी की इच्छा शक्ति की वजह से सरकार ने साहसिक लड़ाई लड़ी एवं समय पर निर्णय लिये : नड्डा ◾कोविड-19 पर पीएम मोदी का आह्वान - 'लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं'◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर कांग्रेस, भाजपा के निशाने पर केजरीवाल सरकार◾राम मंदिर , सीएए, तीन तलाक, धारा 370 जैसे मुद्दों का हल दूसरे कार्यकाल की प्रमुख उपलब्धियां : PM मोदी ◾बीस लाख करोड़ रूपये का आर्थिक पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम : PM मोदी◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का खौफ जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब ◾कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए◾कोविड-19 : देश में अब तक 5000 के करीब लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 73 हजार के पार ◾मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरे होने पर अमित शाह, नड्डा सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾PM मोदी का देश की जनता के नाम पत्र, कहा- कोई संकट भारत का भविष्य निर्धारित नहीं कर सकता ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

यस बैंक की शाखाओं और एटीएम के बाहर ग्राहकों की जुटी भीड़, कैश न मिलने से गुस्साए लोग

यस बैंक संकट से जहां शेयर बाजार में हड़कंप मचा हुआ है वहीं आम आदमी इस बात से घबरा गए है कि कहीं उनकी जिंदगी भर की जमा पूंजी डूब ना जाये। दिल्ली से लेकर मुंबई तक, बड़े शहरों से लेकर कस्बों तक लोग यस बैंक की सैकड़ों शाखाओं और एटीएम के बाहर जमा है और जल्द से जल्द पैसा निकलना चाहते है। 

शुक्रवार को मुंबई, ठाणे, नागपुर जैसे शहरों में ग्राहकों की परेशानी तब से और बढ़ी है, जब आरबीआई ने गुरुवार देर शाम नकदी निकासी पर नियंत्रण व अन्य उपायों को लागू कर दिया। गुरुवार देर शाम से ही ग्राहकों में नकदी निकासी के लिए घबराहट जैसा माहौल दिखाई दिया और वे एटीएम पर पहुंचने लगे, लेकिन जल्द ही एटीएम खाली हो गए। इसे लेकर उनमें नाराजगी रही। 

यह स्थिति खास तौर से उपनगरीय और आवासीय इलाकों में रही। यही नजारा शुक्रवार को दक्षिण मुंबई, बांद्रा, कुर्ला कांप्लेक्स, अंधेरी, लोअर परेल में भी दिखाई दिया। इसके अलावा ग्राहकों ने कहा कि कुछ यूपीआई लेनदेन जो यस बैंक पीएसपी पर हैं, कथित तौर पर नहीं चल रहे हैं। सभी प्रकार के खाते नेटबैंकिंग के माध्यम से भी पहुंच से बाहर हैं, और कई फिनटेक कारोबारी बुरी तरह से प्रभावित हैं। 

मुंबईकर खास तौर से परेशान है, क्योंकि आरबीआई के आदेश सोमवार को लोकप्रिय होली त्योहार के पहले आए हैं। इसके एक पखवाड़े बाद गुड़ी पड़वा है और परीक्षा के सीजन के दौरान नकदी का होना बेहद जरूरी है और सप्ताहांत में हजारों लोगों ने अपनी योजनाएं बनाई हैं। 

एक ग्राहक विजय पी. सिंह ने कहा कि वह कांदिवली उपनगर के एटीएम में तड़के एक बजे के करीब गए और देखकर चकित रह गए कि करीब 25 लोग लाइन में लगे थे। सिंह ने  कहा, "मैं दहिसर-मलाड के बीच करीब तीन-चार दूसरे एटीएम पर भी गया और वही हालात रहे और आखिरकार मैं खाली हाथ सुबह चार बजे घर लौट आया.. ऑनलाइन लेनदेन भी नहीं हो रहा है और भीड़ से भरी शाखाओं से बहुत कम उम्मीद है।"

नवी मुंबई के विनोद पांडा से भी बातचीत की। चिंतित पांडा ने कहा, "अधिकारियों ने मुझसे कहा कि मुझे कुछ आपात स्थिति साबित करनी होगी, जैसे कि चिकित्सा या शैक्षिक शुल्क का भुगतान करना आदि ..उन्होंने कहा कि सभी समस्याएं अगले महीने तक बहाल हो जाएंगी, लेकिन भरोसा दिया कि ऑनलाइन सुविधा आज के बाद चालू हो जाएगी।"

यस बैंक की देश भर में 1,000 से अधिक शाखाएं और 1,800 से अधिक एटीएम हैं, जो बीती रात संकट के शुरू होने के बाद से प्रभावित हैं। 

यस बैंक संकट पर बोली वित्त मंत्री सीतारमण- नहीं डूबेगा जमाकर्ताओं का एक भी पैसा