छत्तीसगढ़ सरकार ने आचार संहिता के मद्देनजर चुनाव आयोग से भाजपा विधायक भीमा मंडावी हत्याकांड की जांच के लिये न्यायिक जांच समिति गठित करने की अनुमति मांगी है। मंडावी की नौ अप्रैल को दंतेवाड़ा जिले में माओवादियों ने हत्या कर दी थी।

सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) ने 10 अप्रैल को राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को इस संबंध में पत्र लिखा था। जीएडी ने रविवार को को यह जानकारी दी।

कुमारस्वामी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार, मोदी को ‘परसेंटेज बैकग्राउंड’ वाला PM बताया

हमले के समय मंडावी अपने चुनाव अभियान के तहत बचेली शहर से कुवाकोंडा की ओर जा रहे थे। घटना के समय उनके दो सुरक्षा वाहन पीछे चल रहे थे।

पत्र ने कहा गया है ‘इस मामले में एक न्यायिक जांच पैनल गठित किया जाना प्रस्तावित है। चूंकि लोकसभा चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता लागू है, इसलिए 10 अप्रैल को राज्य के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में न्यायिक जांच समिति के गठन के लिए चुनाव आयोग की अनुमति लेने की सिफारिश की गई थी।’