BREAKING NEWS

दिल्ली में मासूम बच्चे से दरिंदगी, दुष्कर्म के बाद प्राइवेट पार्ट में डाली रॉड ◾अरविंद केजरीवाल का गुजरात में बड़ा ऐलान, संविदा कर्मियों को नियमित करने का किया वादा◾जनता की सेवा नहीं करना चाहती... सिर्फ सत्ता का सुख भोगना चाहती है कांग्रेस : अनुराग ठाकुर◾हिमाचल प्रदेश : कुल्लू में खाई में गिरा ट्रैवलर, 7 लोगों की मौत, PM मोदी ने जताया दुख◾गहलोत गुट के विधायकों के तेवर से नाराज हुई सोनिया गांधी, सीएम के इन समर्थकों पर होगी कार्रवाई◾दिल्ली : कई दिनों से हो रही बारिश के चलते अब कुछ जगहों पर पड़ने लगा है कोहरा ◾देशभर में शारदीय नवरात्रों की धूम, वैष्णों देवी मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़◾'आप किसी को बेवकूफ नहीं बना रहे हैं ...', अमेरिका पर भड़के विदेश मंत्री जयशंकर◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना के 4,129 नए मामले दर्ज़, 20 लोगों की मौत ◾राजस्थान में सियासी हलचल तेज, गहलोत गुट के विधायकों ने पार्टी आलाकमान के सामने रखी तीन शर्त◾आज का राशिफल (26 सितंबर 2022)◾राजस्थानः 80 से ज्यादा विधायकों का इस्तीफा, गिर जाएगी गहलोत की सरकार? समझें पूरा गेमप्लान◾Election 2024: विपक्षी एकता की राह में कांग्रेस बनेगी रोड़ा? KCR और ममता बनर्जी का नहीं मिल रहा साथ◾Ind Vs Aus 3rd T20 Match: कोहली-हार्दिक ने किया कमाल, ऑस्ट्रेलिया को रौंदकर भारत ने 2-1 से जीती सीरीज◾अध्यक्ष बनने से पहले गहलोत ने गांधी परिवार को दिखायी ताक़त, दिल्ली से आया फोन, बोले- कुछ नहीं है बसकी बात ◾बांग्लादेश में हिंदू श्रद्धालुओं को मंदिर ले जा रही नौका पलटी, 24 की मौत ◾अंकिता हत्याकांडः सीएम धामी के आश्वासन के बाद NIT घाट पर हुआ अंकिता भंडारी का अंतिम संस्कार ◾HP News: सोमवार को हिमाचल प्रदेश का दौरा करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ◾गैंगवार से दहल जाती राजधानी, समय रहते पुलिस ने योजना बनाने के आरोप में चार को किया गिरफ्तार ◾Narendra Modi: मोदी का ट्वीट- इजराइलियों को पीएम ने यहूदी नववर्ष की शुभकामनाएं दी ◾

विवादों में घिरे दीप सिद्धू का पलटवार, कहा - मैं गहरे भेद खोल दूंगा तो इन्हे भागने का रास्ता नहीं मिलेगा

गणतंत्र दिवस को किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले पर धार्मिक झंडा लगाए जाने की घटना के बाद आलोचना का सामना कर रहे अभिनेता तथा कार्यकर्ता दीप सिद्धू ने किसान नेताओं द्वारा लगाए गए आरोपों पर पलटवार किया है। 

विवादों में घिरे सिद्धू ने किसान नेताओं को आगाह किया, ‘‘आप इतने अहंकार और ईष्या से भरे हो कि आप किसी की भी नहीं सुन रहे। जो निर्णय किया गया, उसे सभी को स्वीकार करना चाहिए।’’ उसने कहा, ‘‘यदि मैं गहरे भेद खोल दूंगा तो (किसान नेताओं के पास) भागने के लिए के लिए कोई रास्ता नहीं होगा।’’ 

सिद्धू (36) ने दावा किया कि ट्रैक्टर परेड के दौरान युवा उस रास्ते पर जाने के लिये राजी नहीं थे, जिस पर किसान नेता और दिल्ली पुलिस के बीच सहमति बनी थी। उसने दावा किया कि 26 जनवरी को लोग ''खुद ही'' लाल किले की ओर निकल पड़े और अनेक लोगों ने वह रास्ता नहीं पकड़ा जो किसान नेताओं ने तय किया था। 

सिद्धू ने ''भाजपा तथा आरएसएस का आदमी'' होने के किसान नेताओं के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि ''आरएसएस या भाजपा को कोई आदमी लाल किले पर 'निशान साहिब' लगाएगा?, कम से कम इतना तो सोचना चाहिये।'' 

गौरतलब है कि जिस समय लाल किले पर धार्मिक और किसान झंडे लगाए गए तब सिद्धू वहीं पर मौजूद था। इस घटना के बाद जबदस्त आक्रोश फैल गया था। 

सिद्धू ने उन किसान नेताओं के दावों को खारिज कर दिया, जिन्होंने उस पर प्रदर्शनकारियों को उकसाने और लाल किले की ओर ले जाने का आरोप लगाया था। सिद्धू ने फेसबुक पर अपलोड किये गए अपने ताजा वीडियो में कहा, ''मैं इस दुष्प्रचार और मेरे खिलाफ फैलाई जा रही घृणा को देख रहा हूं।'' 

सिद्धू ने 25 जनवरी की रात क्या हुआ था, उसकी जानकारी देते हुए कहा कि युवकों और कई अन्य लोगों ने किसान नेताओं को बताया था कि उन्होंने (किसान नेताओं) ने उन्हें (युवकों को) 26 जनवरी को दिल्ली में प्रदर्शन करने के लिये बुलाया था और अब उन्होंने अंतिम समय में अपने रुख में बदलाव किया है। 

सिद्धू ने कहा कि वह लालकिले का दरवाजा तोड़े जाने के बाद वहां पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि वहां हजारों लोग पहुंच चुके थे, लेकिन कोई किसान नेता वहां नहीं था। सिद्धू ने दावा किया इस दौरान किसी ने न तो हिंसा की और न ही सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। 

सिद्धू ने कहा कि उन्होंने अपना विरोध जताने के लिये निशान साहिब और किसानों का झंडा लगाया था। उन्होंने कहा, ''अगर आप कह रहे हैं कि ऐसा करके मैं गद्दार बन गया हूं तो उस समय वहां मौजूद सभी लोग गद्दार हुए। '' सिद्धू ने कहा, ''अगर आप उन सभी चीजों को ठीकरा एक आदमी के सिर फोड़ रहे हैं और मुझे गद्दार करार दे रहे हैं तो आपको खुद पर शर्म आनी चाहिये।'' 

गौरतलब है कि बुधवार को किसान नेताओं ने सिद्धू को ''गद्दार'' बताते हुए राज्य में उसके बहिष्कार का आह्वान किया था। किसान नेताओं ने उसे सरकार का ''एजेंट'' करार दिया था।

2-3 उद्योगपतियों के लिए काम कर रहे हैं PM, किसान बिल की डिटेल को समझेंगे तो पूरे देश में होगा आंदोलन : राहुल