BREAKING NEWS

Today's Corona Update : देश में कोरोना संक्रमण के सामने आए 15,510 नए मामले, 106 मरीजों की मौत◾दुनिया में कोरोना मरीजों की संख्या 11.4 करोड़ से अधिक, 25.3 लाख से ज्यादा मरीजों की मौत◾डोनाल्ड ट्रंप ने किया बड़ा ऐलान, कहा- नई पार्टी शुरू करने की योजना नहीं, रिपब्लिकन का दूंगा साथ ◾देश में आज से कोरोना वैक्सीन का दूसरा चरण शुरू, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को लग रहा है टीका ◾TOP - 5 NEWS 01 MARCH : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾PM मोदी ने एम्स में लगवाई कोरोना वैक्सीन, देश को कोविड-19 से मुक्त बनाने की अपील की ◾वैज्ञानिक नवाचार के लिए हब के रूप में उभर रहा भारत : जितेंद्र सिंह ◾कोरोना योद्धाओं के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं : हर्षवर्धन◾राज्य, जिलों को कोविड-19 टीकाकरण केंद्रों का पूर्व पंजीकरण को-विन 2.0 पर कराना होगा ◾वाम, कांग्रेस व आईएसएफ गठबंधन ने जनहित सरकार पर दिया जोर, पहले दिन दिखी दरार ◾अमित शाह ने तमिलनाडु, पुडुचेरी में तमिल भाषा और संस्कृति की सराहना की ◾जम्मू-कश्मीर : फारूक अब्दुल्ला का बड़ा बयान, बोले- चाहता हूं कांग्रेस मजबूत हो◾कृषि कानून वापस नहीं होगा तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा : राकेश टिकैत◾गणतंत्र दिवस हिंसा के लिए केजरीवाल ने केंद्र को ठहराया जिम्मेदार, कहा- तीनों कृषि कानून किसानों के डेथ वारंट◾महाराष्ट्र सरकार के वन मंत्री संजय राठौड़ ने दिया इस्तीफा, टिकटॉक स्टार की आत्महत्या के बाद उठ रहे थे सवाल◾भाजपा के शासन में अमीरी-गरीबी की खाई बढ़ी, कांग्रेस सत्ता में आएगी तो न्याय योजना को किया जाएगा लागू : राहुल◾किसान आंदोलन को धार देने की जुगत में लगी BKU, मार्च महीने में होगी दर्जन भर महापंचायत◾ मन की बात के कार्यक्रम में मोदी ने तमिल भाषा न सीख पाने को बताया अपनी कमी◾BJP अध्यक्ष नड्डा 2 दिवसीय दौरे पर पहुंचे वाराणसी, CM योगी समेत कई पार्टी नेताओं ने किया स्वागत◾मन की बात : PM मोदी बोले- जल सिर्फ जीवन ही नहीं, आस्था और विकास की धारा भी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

विवादों में घिरे दीप सिद्धू का पलटवार, कहा - मैं गहरे भेद खोल दूंगा तो इन्हे भागने का रास्ता नहीं मिलेगा

गणतंत्र दिवस को किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले पर धार्मिक झंडा लगाए जाने की घटना के बाद आलोचना का सामना कर रहे अभिनेता तथा कार्यकर्ता दीप सिद्धू ने किसान नेताओं द्वारा लगाए गए आरोपों पर पलटवार किया है। 

विवादों में घिरे सिद्धू ने किसान नेताओं को आगाह किया, ‘‘आप इतने अहंकार और ईष्या से भरे हो कि आप किसी की भी नहीं सुन रहे। जो निर्णय किया गया, उसे सभी को स्वीकार करना चाहिए।’’ उसने कहा, ‘‘यदि मैं गहरे भेद खोल दूंगा तो (किसान नेताओं के पास) भागने के लिए के लिए कोई रास्ता नहीं होगा।’’ 

सिद्धू (36) ने दावा किया कि ट्रैक्टर परेड के दौरान युवा उस रास्ते पर जाने के लिये राजी नहीं थे, जिस पर किसान नेता और दिल्ली पुलिस के बीच सहमति बनी थी। उसने दावा किया कि 26 जनवरी को लोग ''खुद ही'' लाल किले की ओर निकल पड़े और अनेक लोगों ने वह रास्ता नहीं पकड़ा जो किसान नेताओं ने तय किया था। 

सिद्धू ने ''भाजपा तथा आरएसएस का आदमी'' होने के किसान नेताओं के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि ''आरएसएस या भाजपा को कोई आदमी लाल किले पर 'निशान साहिब' लगाएगा?, कम से कम इतना तो सोचना चाहिये।'' 

गौरतलब है कि जिस समय लाल किले पर धार्मिक और किसान झंडे लगाए गए तब सिद्धू वहीं पर मौजूद था। इस घटना के बाद जबदस्त आक्रोश फैल गया था। 

सिद्धू ने उन किसान नेताओं के दावों को खारिज कर दिया, जिन्होंने उस पर प्रदर्शनकारियों को उकसाने और लाल किले की ओर ले जाने का आरोप लगाया था। सिद्धू ने फेसबुक पर अपलोड किये गए अपने ताजा वीडियो में कहा, ''मैं इस दुष्प्रचार और मेरे खिलाफ फैलाई जा रही घृणा को देख रहा हूं।'' 

सिद्धू ने 25 जनवरी की रात क्या हुआ था, उसकी जानकारी देते हुए कहा कि युवकों और कई अन्य लोगों ने किसान नेताओं को बताया था कि उन्होंने (किसान नेताओं) ने उन्हें (युवकों को) 26 जनवरी को दिल्ली में प्रदर्शन करने के लिये बुलाया था और अब उन्होंने अंतिम समय में अपने रुख में बदलाव किया है। 

सिद्धू ने कहा कि वह लालकिले का दरवाजा तोड़े जाने के बाद वहां पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि वहां हजारों लोग पहुंच चुके थे, लेकिन कोई किसान नेता वहां नहीं था। सिद्धू ने दावा किया इस दौरान किसी ने न तो हिंसा की और न ही सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। 

सिद्धू ने कहा कि उन्होंने अपना विरोध जताने के लिये निशान साहिब और किसानों का झंडा लगाया था। उन्होंने कहा, ''अगर आप कह रहे हैं कि ऐसा करके मैं गद्दार बन गया हूं तो उस समय वहां मौजूद सभी लोग गद्दार हुए। '' सिद्धू ने कहा, ''अगर आप उन सभी चीजों को ठीकरा एक आदमी के सिर फोड़ रहे हैं और मुझे गद्दार करार दे रहे हैं तो आपको खुद पर शर्म आनी चाहिये।'' 

गौरतलब है कि बुधवार को किसान नेताओं ने सिद्धू को ''गद्दार'' बताते हुए राज्य में उसके बहिष्कार का आह्वान किया था। किसान नेताओं ने उसे सरकार का ''एजेंट'' करार दिया था।

2-3 उद्योगपतियों के लिए काम कर रहे हैं PM, किसान बिल की डिटेल को समझेंगे तो पूरे देश में होगा आंदोलन : राहुल