BREAKING NEWS

राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- किसी भी आतंकवादी या नौकरशाह ने अपना बच्चा आतंकवाद में नहीं खोया◾PMC बैंक घोटाला : 24 अक्टूबर तक बढ़ी आरोपी राकेश वधावन और सारंग वधावन की हिरासत◾सोशल मीडिया अकाउंट को आधार से जोड़ने के सभी मामले सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर◾मोदी से मिले नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी, PM ने मुलाकात के बाद किया ये ट्वीट ◾J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र का दिवाली तोहफा, 31 अक्टूबर से मिलेगा 7th पेय कमीशन का लाभ ◾राजनाथ सिंह बोले- नौसेना ने यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्कता बरती कि 26/11 दोबारा न होने पाए◾राज्यपाल जगदीप धनखड़ का बयान, बोले-ऐसा लगता है कि पश्चिम बंगाल में किसी प्रकार की सेंसरशिप है◾भारतीय सेना ने पुंछ में LoC के पास मोर्टार के तीन गोलों को किया निष्क्रिय◾INX मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पी.चिदंबरम को मिली जमानत◾गृहमंत्री अमित शाह का आज जन्मदिन, PM मोदी सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट करेगा तय, समझौता या फैसला !◾पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में भर्ती◾Exit Poll : महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा की प्रचंड जीत के आसार◾अनुच्छेद 370 हटाने के भारत के उद्देश्य का करते हैं समर्थन, पर कश्मीर में हालात पर हैं चिंतित : अमेरिका◾चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾गृह मंत्री अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र से 6,600 करोड़ रुपये की सहायता मांगी ◾पाकिस्तान ने भारत के साथ डाक सेवा बंद की, भारत ने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन बताया ◾सरकार ने सियाचिन को पर्यटकों के लिए खोलने का फैसला किया : राजनाथ सिंह ◾

देश

दिल्ली : डॉक्टरों की हड़ताल पर न्यायालय के आदेश के उल्लंघन को लेकर अवमानना याचिका दायर

नयी दिल्ली : उच्चतम न्यायालय में एक गैर सरकारी संगठन(एनजीओ) ने याचिका दायर कर केंद्र और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के खिलाफ अवमानना कार्यवाही करने की मांग की है। याचिका में दलील दी गई है कि डॉक्टरों के हड़ताल पर जाने के बारे में शीर्ष न्यायालय के पूर्व के एक आदेश का कथित तौर पर उल्लंघन किया गया है। 

गौरतलब है कि शीर्ष न्यायालय ने नवंबर 2014 में कहा था, ‘‘हम अपनी सिर्फ यह इच्छा प्रकट करेंगे कि लोगों की जान बचा कर ईश्वर के दूत के रूप में काम करने वाले डॉक्टरों को किसी भी कारण हड़ताल का सहारा नहीं लेना चाहिए, बल्कि हर वक्त दक्षता और पूरी गंभीरता के साथ अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए।’’ शीर्ष न्यायालय ने यह टिप्पणी करने के दौरान डॉक्टरों को हड़ताल पर जाने से नहीं रोका था। 

‘पीपुल फॉर बेटर ट्रीटमेंट’ नाम के एनजीओ ने दलील दी कि देश के उच्चतम न्यायालय के बार- बार और स्पष्ट अपील के बावजूद देश भर के डॉक्टरों का हड़ताल पर जाना, अस्पताल की नियमित सेवाओं को बाधित करना और असहाय रोगियों की पीड़ा बढ़ाना जारी है। एनजीओ ने कहा है कि पश्चिम बंगाल में पिछले महीने डॉक्टर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए...आईएमए की पहल पर 17 जून को देश भर में डॉक्टर हड़ताल पर चले गए जिससे पूरे देश में चिकित्सा सेवाएं चरमरा गई, जैसा कि मीडिया में खबरें आई थी।