BREAKING NEWS

ED ने चिदंबरम के खिलाफ जांच का दायरा बढ़ाया ◾LIVE : सीबीआई ने पी चिदंबरम को किया गिरफ्तार, CBI मुख्यालय में हो रही पूछताछ !◾वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्द्धमान ने मिग 21 उड़ाना किया शुरू◾मैं कानून से छिप नहीं रहा था, आशा है कि एजेंसियां कानून का सम्मान करेंगी : चिदंबरम◾राजनीतिक प्रतिशोध के तहत हो रही है कार्रवाई : कार्ती चिदंबरम ◾चिदंबरम पर उसी मामले में लटक रही है तलवार जिसमें उनके बेटे को जाना पड़ा था जेल◾चिदंबरम ईमानदार हैं तो भाग क्यों रहे हैं : श्रीकांत◾पी चिदंबरम मामले पर बोले अखिलेश : सरकार से लड़ना है तो कागज की लड़ाई जीतनी पड़ेगी ◾Modi सरकार की कंपनियों को बड़ी राहत, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दी इसकी जानकारी !◾अनुच्छेद 370 हटने से पाक अधिकृत कश्मीर लेना आसान नहीं : अखिलेश◾प्रियंका ने PM मोदी पर साधा निशाना , कहा - सरकार के दावों की पोल खोल रहे हैं औद्योगिक संस्थाओं के विज्ञापन◾TOP 20 NEWS 21 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾INX मीडिया मामले में चिदंबरम की याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾SC में अयोध्या मामले की सुनवाई, हिंदू पक्ष के वकील ने रामलला को बताया नाबालिग◾सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम की याचिका पर तत्काल सुनवाई से किया इनकार ◾PM मोदी ने जाम्बिया के राष्ट्रपति से की बातचीत, खनन और कारोबारी सहयोग पर दिया जोर ◾राहुल का केंद्र पर वार, कहा-चिदंबरम के चरित्रहनन के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही मोदी सरकार◾चिदंबरम के बचाव में प्रियंका, बोली-केंद्र की असफलताओं को उजागर करने की भुगत रहे है सजा◾उत्तर प्रदेश : योगी कैबिनेट का हुआ विस्तार, 23 मंत्रियो ने ली शपथ ◾कश्मीर मामले पर ट्रंप ने फिर की मध्यस्थता की पेशकश, कहा- PM मोदी से करूंगा बात◾

देश

दवा खरीदी में भ्रष्टाचार पर सीबीआई जांच की मांग

रायपुर : नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने सीएम को दूसरा पत्र लिखा है। सिंहदेव ने दवा खरीदी में भ्रष्टाचार पर सीबीआई जाँच की मांग की है साथ ही सिंहदेव ने अपनी इस पत्र में सरकार के पीपीपी मॉडल पर करारा तंज कसा है। इस मॉडल को औचित्यहीन बताया है। इसके पूर्व में आज ही टीएस ने सीएम को पत्र लिखकर वेदांता कैंसर अस्पताल एवं अनुसंधान संस्थान की स्थापना के संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की है।

सिंहदेव ने पत्र में लिखा है कि सीजीएमएससी द्वारा विभिन्न स्तरों पर आर्थिक भ्रष्टाचार के मामले सामने आये हैं, जिनमें ब्लैक लिस्टेड कंपनियों से दवाई की खरीदी, गुणवत्ताहीन एवं कालातीत होने वाली दवाईयों की खरीदी सहित वित्तीय वर्ष के समाप्ति के समय आनन-फानन में दवाईयों की खरीदी सहित दवाई खरीदी में कमीशनखोरी व घूसखोरी के एक के बाद एक मामले सामने आने के बाद, मंत्रालय से लेकर पूरा स्वास्थ्य विभाग सवालों के घेरे में है।

सीजीएमएससी के जनरल मैनेजर को लाखों रूपये रिश्वत लेते हुए,एंटी करप्शन ब्यूरों द्वारा गिरफ्तार किया जाना इस बात की पुष्टि करता है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि,भ्रष्टाचार का स्वरूप और भी व्यापक हो सकता है।

उल्लेखनीय है कि, प्रदेश में हुये 'नसबंदी काण्ड में गुणवत्ताहीन दवाईयों के इस्तेमाल से दर्जनों महिलाओं की असामयिक मृत्यु हुई एवं आजपर्यन्त दोषियों पर कोई कार्यवाही भी नहीं हो पाई है। ऐसी घटनाओं से सबक न लेते हुये, पुन: वहीं ऐसे मामले प्रकाश में आ रहे हैं, सरकार की गंभीरता का अनुमान लगाया जा सकता है।

प्रदेश के अस्पतालों में जीवन रक्षक व संक्रामक रोगों की प्रतिरोधक दवाईयों एवं आवश्यक उपकरणों का अभाव है. प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का स्तर लगातार गिरता जा रहा है,ऐसे में स्वास्थ्य अमला कैसे काम कर रहा है, यह चिंता का विषय है. एक ओर आम नागरिकों को रियायती दर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त नहीं हो पा रही है,दूसरी ओर राज्य सरकार, सरकारी अस्पतालों को पीपीपी मॉडल के माध्यम से प्रायवेट कंपनियों को देने की अलग व्यवस्था कर रही है,जो कि औचित्यहीन है।

ऐसा होने से स्वास्थ्य सेवाएं गरीब व आम आदमी की पहुंच से और दूर हो जायेंगे एवं निजी अस्पताल द्वारा मुनाफाखोरी भी बढ़ेगी। सीजीएमएससी द्वारा दवाई खरीदी में लगातार हो रहे करोड़ों रूपये के घोटालों की निष्पक्ष जांच सीबीआई से कराई जावे, ताकि दवाई खरीदी में पारदर्शिता व विश्वसनीयता बरकरार रहे।

अधिक जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करे