BREAKING NEWS

सोनिया ने पार्टी सांसदों को दिया रात्रिभोज◾UP : चौथी बार बुंदेलियों ने मोदी को लिखी खून से चिट्ठी ◾पूर्वोत्तर में नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ व्यापक प्रदर्शन, सामान्य जनजीवन ठप पड़ा◾लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत पर मोदी के Tweet को इस साल मिले सबसे अधिक LIKE◾नागरिकता संशोधन विधेयक देश के मुसलमानों के खिलाफ नहीं : BJP◾कांग्रेस ने एक व्यक्ति के निजी हित के लिए द्विराष्ट्र के सिद्धान्त को किया स्वीकार : गोयल◾शिवसेना सरकार ने पहले से चल रही परियोजनाओं को रोकने के अलावा कुछ नहीं किया : फडणवीस◾एकनाथ खडसे ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात, कहा- भाजपा से कोई दिक्कत नहीं ◾19 साल में मारे गए 22 हजार आतंकी, 370 हटने के बाद भी जारी है घुसपैठ◾शाह की हरी झंडी के बाद होगा कर्नाटक कैबिनेट का विस्तार : मुख्यमंत्री ◾हैदराबाद एनकाउंटर : पुलिस ने दुष्कर्म आरोपियों के एनकाउंटर की रिपोर्ट एनएचआरसी को सौंपी◾TOP 20 NEWS 10 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾उन्नाव रेप मामला : पूर्व बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर 16 दिसंबर को कोर्ट सुनाएगा फैसला◾सीएबी बिल पर उद्धव ठाकरे बोले- जब तक कुछ बातें स्पष्ट नहीं होतीं, हम नहीं करेंगे समर्थन◾दिल्ली से लेकर असम तक CAB के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन, मालीगांव में सुरक्षाबलों से भिड़े लोग◾नागरिकता विधेयक का समर्थन करना भारत की बुनियाद को नष्ट करने का प्रयास होगा : राहुल गांधी◾दिल्ली हाई कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आपराधिक मानहानि मामले की सुनवाई पर लगाई रोक◾लोकसभा में बोले शाह- J&K में हिरासत में लिए गए नेताओं को छोड़ने का निर्णय स्थानीय प्रशासन लेगा◾पीएमओ में सत्ता का केंद्रीकरण अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं : शिवसेना◾दिल्ली : किराड़ी इलाके के गोदाम में लगी आग, मौके पर पहुंची 8 दमकल की गाड़ियां◾

देश

दवा खरीदी में भ्रष्टाचार पर सीबीआई जांच की मांग

 21-1

रायपुर : नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने सीएम को दूसरा पत्र लिखा है। सिंहदेव ने दवा खरीदी में भ्रष्टाचार पर सीबीआई जाँच की मांग की है साथ ही सिंहदेव ने अपनी इस पत्र में सरकार के पीपीपी मॉडल पर करारा तंज कसा है। इस मॉडल को औचित्यहीन बताया है। इसके पूर्व में आज ही टीएस ने सीएम को पत्र लिखकर वेदांता कैंसर अस्पताल एवं अनुसंधान संस्थान की स्थापना के संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की है।

सिंहदेव ने पत्र में लिखा है कि सीजीएमएससी द्वारा विभिन्न स्तरों पर आर्थिक भ्रष्टाचार के मामले सामने आये हैं, जिनमें ब्लैक लिस्टेड कंपनियों से दवाई की खरीदी, गुणवत्ताहीन एवं कालातीत होने वाली दवाईयों की खरीदी सहित वित्तीय वर्ष के समाप्ति के समय आनन-फानन में दवाईयों की खरीदी सहित दवाई खरीदी में कमीशनखोरी व घूसखोरी के एक के बाद एक मामले सामने आने के बाद, मंत्रालय से लेकर पूरा स्वास्थ्य विभाग सवालों के घेरे में है।

सीजीएमएससी के जनरल मैनेजर को लाखों रूपये रिश्वत लेते हुए,एंटी करप्शन ब्यूरों द्वारा गिरफ्तार किया जाना इस बात की पुष्टि करता है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि,भ्रष्टाचार का स्वरूप और भी व्यापक हो सकता है।

उल्लेखनीय है कि, प्रदेश में हुये 'नसबंदी काण्ड में गुणवत्ताहीन दवाईयों के इस्तेमाल से दर्जनों महिलाओं की असामयिक मृत्यु हुई एवं आजपर्यन्त दोषियों पर कोई कार्यवाही भी नहीं हो पाई है। ऐसी घटनाओं से सबक न लेते हुये, पुन: वहीं ऐसे मामले प्रकाश में आ रहे हैं, सरकार की गंभीरता का अनुमान लगाया जा सकता है।

प्रदेश के अस्पतालों में जीवन रक्षक व संक्रामक रोगों की प्रतिरोधक दवाईयों एवं आवश्यक उपकरणों का अभाव है. प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का स्तर लगातार गिरता जा रहा है,ऐसे में स्वास्थ्य अमला कैसे काम कर रहा है, यह चिंता का विषय है. एक ओर आम नागरिकों को रियायती दर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त नहीं हो पा रही है,दूसरी ओर राज्य सरकार, सरकारी अस्पतालों को पीपीपी मॉडल के माध्यम से प्रायवेट कंपनियों को देने की अलग व्यवस्था कर रही है,जो कि औचित्यहीन है।

ऐसा होने से स्वास्थ्य सेवाएं गरीब व आम आदमी की पहुंच से और दूर हो जायेंगे एवं निजी अस्पताल द्वारा मुनाफाखोरी भी बढ़ेगी। सीजीएमएससी द्वारा दवाई खरीदी में लगातार हो रहे करोड़ों रूपये के घोटालों की निष्पक्ष जांच सीबीआई से कराई जावे, ताकि दवाई खरीदी में पारदर्शिता व विश्वसनीयता बरकरार रहे।

अधिक जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करे