BREAKING NEWS

अयोध्या विवाद पर आए फैसले पर दूसरे देशों से संवाद बहुत सफल रहा : विदेश मंत्रालय◾झारखंड विधानसभा चुनाव : दूसरे चरण में 20 विधानसभा सीटों पर 260 प्रत्याशी आजमाएंगे किस्मत◾उद्धव ठाकरे और आदित्य ने मुंबई में शरद पवार से की मुलाकात ◾सोनिया ने शिवसेना संग गठबंधन के लिए सीडब्ल्यूसी का सुरक्षित रास्ता चुना ◾श्रीलंका की नई सरकार के साथ करीब से मिलकर काम करने को तैयार : भारत◾महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार के गठन के आसार बढे , शुक्रवार को हो सकती है इस बारे में घोषणा◾चुनावी बांड से चुनावी राजनीति में साफ धन आया : भाजपा ◾SPG सुरक्षा हटाए जाने पर बोलीं प्रियंका - यह राजनीति है ◾सेना ने मुख्यमंत्री पद के लिए नए नाम सुझाए, राकांपा ने उद्धव पर दिया जोर◾ED ने कश्मीर में आतंकवादियों से संबंधित छह संपत्तियां जब्त की ◾प्रदूषण पर राज्यसभा में भाजपा और आप में तकरार, केंद्र ने कहा ‘अच्छे’ दिन बढे◾केजरीवाल के दबाव में केंद्र ने अनधिकृत कॉलोनियों के निवासियों को दिया मालिकाना हक : आप◾मोदी की जीत आशाओं तथा अपेक्षाओं की जीत : रविशंकर प्रसाद ◾विकास के कार्य पूरे करने को झारखंड में भाजपा को दें पूर्ण बहुमत : शाह◾राज्यसभा में विपक्षी दलों ने ट्रांसजेन्डर विधेयक को प्रवर समिति में भेजने की मांग की◾शिवसेना सदस्य ने की बिरसा मुंडा, वीर सावरकर को भारत रत्न देने की मांग◾TOP 20 NEWS 21 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾महाराष्ट्र : कांग्रेस और NCP के बीच बातचीत पूरी, कल नई सरकार की रुपरेखा पर होगा अंतिम निर्णय◾महाराष्ट्र : कांग्रेस के साथ संयुक्त बैठक से पहले NCP नेताओं की बैठक ◾अमित शाह ने झारखंड में चुनावी रैली को किया संबोधित, राम मंदिर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना◾

देश

नोटबंदी के तीन साल: प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कही ये बात

 priyanka notebandi

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को नोटबंदी की तीसरी वर्षगांठ पर केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए नोटबंदी को एक आपदा बताया है जिसने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया। 

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, "नोटबंदी को तीन साल हो गए। सरकार और इसके नीम-हक़ीमों द्वारा किए गए, 'नोटबंदी सारी बीमारियों का शर्तिया इलाज के सारे दावे एक-एक करके धराशायी हो गए।'' उन्होंने लिखा,"नोटबंदी एक आपदा थी जिसने हमारी अर्थव्यवस्था नष्ट कर दी। इस 'तुग़लकी कदम की जिम्मेदारी अब कौन लेगा?''

उल्लेखनीय है कि मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में 8 नवंबर 2016 को अर्थव्यवस्था में उस समय प्रचलन में रहे 500 रुपये और 1,000 रुपये के नोटों को निरस्त कर दिया था। जिसका विपक्षी दलों ने जमकर विरोध किया था। सरकार की ओर से यह कदम अर्थव्यवस्था में कालेधन को समाप्त करने के इरादे से उठाया गया था। 

33% लोगों की राय, अर्थव्यवस्था में सुस्ती नोटबंदी का बड़ा नकारात्मक प्रभाव : सर्वे