BREAKING NEWS

Cyclone Burevi : 'निवार' के हफ्तेभर के अंदर चक्रवात बुरेवी मचाने आ रहा तबाही, PM मोदी ने पूरी मदद का दिलाया भरोसा दिलाया◾उप्र : बरेली में लव जिहाद के आरोप में पहली गिरफ्तारी, चार दिन पहले दर्ज हुआ था केस ◾केजरीवाल का खुलासा - स्टेडियमों को जेल बनाने के लिए डाला गया दबाव पर मैंने अपने जमीर की सुनी◾प्रदर्शनकारी किसानों ने केंद्र सरकार से कहा: कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाएं ◾ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिये मस्जिदों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर रोक लगाए केन्द्र : शिवसेना◾किसान आंदोलन को लेकर केजरीवाल का निशाना - क्या ईडी के दबाव में हैं पंजाब के CM 'कैप्टन अमरिंदर' ◾कैनबरा वनडे : आखिरी मैच जीत भारत ने बचाई लाज, आस्ट्रेलिया को 13 रनों से दी शिकस्त◾एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक को मिली जमानत, सुशांत केस में ड्रग्स लेन-देन का आरोप◾फिल्म उद्योग को मुंबई से बाहर ले जाने का कोई इरादा नहीं, ये खुली प्रतिस्पर्धा है : योगी आदित्यनाथ ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सरकार ‘बातचीत का ढकोसला’ बंद करे ◾किसान आंदोलन : राजस्थान में कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की सुदबुदाहट, सीमा पर जुटने लगे किसान◾ सब्जियों के दामों पर दिखा किसान आंदोलन का असर, बाजारों में रेट बढ़ने के आसार ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾योगी के मुंबई दौरे पर घमासान, मोहसिन रजा बोले - अंडरवर्ल्ड के जरिए बॉलीवुड को धमकाया जा रहा है ◾टकराव के बीच भी इंसानियत की मिसाल, प्रदर्शनकारियों के साथ - साथ पुलिसकर्मियों के लिए भी लंगर सेवा ◾ब्रिटेन ने फाइजर-बायोएनटेक की कोविड वैक्सीन को दी मंजूरी, अगले हफ्ते से शुरू होगा टीकाकरण◾किसान आंदोलन : आगे की रणनीति पर चल रही संगठनों की बैठक, गृह मंत्री के घर पर हाई लेवल मीटिंग ◾किसान आंदोलन को लेकर राहुल का केंद्र पर वार- यह ‘झूठ और सूट-बूट की सरकार’ है◾किसान आंदोलन : टिकरी, झारोदा और चिल्ला बॉर्डर बंद, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी की रूट एडवाइजरी ◾TOP 5 NEWS 02 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

उपग्रह निगरानी के बावजूद जंगल में आग लगने की घटनाओं में तीन गुना इजाफा

वन क्षेत्रों में आग लगने की घटनाओं के कारण वनसंपदा को होने वाले नुकसान को रोकने के लिये उपग्रहों से सतत निगरानी सहित अन्य तकनीकों के इस्तेमाल के बावजूद पिछले तीन साल के दौरान जंगलों में आग की घटनायें तीन गुना तक बढ गयी हैं। वन क्षेत्रों में आग लगने की घटनाओं पर निगरानी से जुड़े पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 2016 में देश भर में जंगलों में आग लगने की 37,636 घटनायें दर्ज की गयी थीं, जो कि 2018 में बढ़कर 1.17 लाख हो गयी। 

वन क्षेत्र और वन संपदा की समीक्षा के बारे में मंत्रालय की संसद में पिछले सप्ताह पेश रिपोर्ट के अनुसार पिछले तीन साल के दौरान जंगल में आग लगने की घटनाओं में सर्वाधिक बढ़ातरी ओडिशा और आंध्र प्रदेश में हुयी है। वनाग्नि की घटनाओं के राज्यवार आंकड़ों के मुताबिक ओडिशा में 2016 में 2,572 घटनायें दर्ज की गयी थीं। इनकी संख्या 2017 में बढ़कर 36,827 हो गयी और 2018 में थोड़ी गिरावट के साथ 31,680 पर आ गयी। 

वहीं, आंध्र प्रदेश के जंगलों में 2016 में आग की 8,885 घटनायें दर्ज की गयी थीं। इनकी संख्या 2017 में बढ़कर 8,274 हो गयी और 2018 में 16,171 पर पहुंच गयी। वन अग्नि की घटनाओं में भारी बढ़ोतरी वाले राज्यों में उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, राजस्थान और मणिपुर शामिल हैं। रिपोर्ट के अनुसार मंत्रालय वन क्षेत्र में आग की घटनाओं को रोकने के लिये उपग्रह आधारित दूरसंवेदी प्रौद्योगिकी जीआईएस तकनीक की मदद ले रहा है। इसके तहत 2004 में भारतीय वन सर्वेक्षण ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ‘नासा’ के उपग्रह की मदद से राज्य सरकारों को जंगल में आग लगने की घटनाओं की चेतावनी देना भी शुरु कर दिया है। 

इसके लिये 2017 में सेंसर तकनीक की मदद से रात के समय जंगलों में आग की घटनाओं की भी निगरानी शुरु की गयी। मंत्रालय ने इन घटनाओं में लगातार इजाफे को देखते हुये इस साल जनवरी में ‘व्यापक वन अग्नि निगरानी कार्यक्रम’ शुरु कर रियल टाइम आधार पर राज्यों के निगरानी तंत्र को मजबूत किया जा रहा है। रिपोर्ट के अनुसार मंत्रालय द्वारा राज्यों के लिये शुरु की गयी तकनीकी मदद की पहल के फलस्वरूप बिहार और असम सहित कुछ अन्य राज्यों में जंगलों में आग की घटनायें कम करने में भी कामयाबी मिली है। 

आंकड़ों के मुताबिक वनक्षेत्र की अधिकता वाले राज्य असम में वन अग्नि की 2016 में 3303 घटनायें दर्ज की गयी थीं, जो 2017 में घटकर 2405 और 2018 में 2200 रह गयी। वहीं, बिहार के जंगलों में आग लगने की 2016 में 332 घटनायें हुयी, जो 2017 में बढ़कर 581 हो गयी लेकिन 2018 में घटकर 293 रह गयी। इन घटनाओं में कमी वाले राज्यों में जम्मू कश्मीर, केरल, गोवा, नगालैंड और मिजोरम शामिल हैं। नगालैंड में तीन साल में जंगलों की आग की घटनायें तीन से घटकर शून्य हो गयी है जबकि मिजोरम में यह संख्या 298 से घटकर 20 पर आ गयी है।