BREAKING NEWS

लोकसभा में अमित शाह बोले- जम्मू-कश्मीर प्रशासन के कहने पर नेताओं की होगी रिहाई◾उन्नाव रेप मामला : पूर्व बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर 16 दिसंबर को कोर्ट सुनाएगा फैसला◾सीएबी बिल पर उद्धव ठाकरे बोले- जब तक कुछ बातें स्पष्ट नहीं होतीं, हम नहीं करेंगे समर्थन◾दिल्ली से लेकर असम तक CAB के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन, मालीगांव में सुरक्षाबलों से भिड़े लोग◾नागरिकता विधेयक का समर्थन करना भारत की बुनियाद को नष्ट करने का प्रयास होगा : राहुल गांधी◾दिल्ली हाई कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आपराधिक मानहानि मामले की सुनवाई पर लगाई रोक◾लोकसभा में बोले शाह- J&K में हिरासत में लिए गए नेताओं को छोड़ने का निर्णय स्थानीय प्रशासन लेगा◾पीएमओ में सत्ता का केंद्रीकरण अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं : शिवसेना◾दिल्ली : किराड़ी इलाके के गोदाम में लगी आग, मौके पर पहुंची 8 दमकल की गाड़ियां◾'असंवैधानिक' नागरिकता विधेयक पर लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में होगी : चिदंबरम◾हरियाणा : होमवर्क पूरा न करने पर दलित लड़की का मुंह काला कर स्कूल में घुमाया गया ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को JDU के समर्थन से प्रशांत किशोर निराश◾अनुच्छेद 370 को खत्म किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट आज से करेगा सुनवाई ◾PM मोदी ने की शाह की तारीफ, बोले- नागरिकता विधेयक समावेश करने की भारत की सदियों पुरानी प्रकृति के अनुरूप◾नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में आज छात्र संगठनों की तरफ से पूर्वात्तर भारत में बंद ◾लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पारित, पक्ष में पड़े 311 वोट, विपक्ष में 80◾जब तक मोदी प्रधानमंत्री हैं, किसी भी धर्म के लोगों को डरने की जरूरत नहीं : शाह ◾महिलाओं के खिलाफ अत्याचार, चिंताजनक और शर्मनाक : नायडू ◾ओवैसी ने लोकसभा में नागरिकता विधेयक की प्रति फाड़ी भाजपा सदस्यों ने संसद का अपमान बताया ◾पूर्वोत्तर के अधिकतर राज्यों के दलों ने नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किया ◾

देश

अयोध्या विवाद पर आए फैसले पर दूसरे देशों से संवाद बहुत सफल रहा : विदेश मंत्रालय

 ram mandir ravish kumar

भारत ने संतोषजनक तरीके से अयोध्या विवाद पर आऐ फैसले की जानकारी दूसरे देशों को दी और इस मामले पर उनसे किया गया संवाद ‘बहुत सफल’ रहा। यह जानकारी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को दी। 

उन्होंने कहा, ‘‘यह विदेश मंत्रालय का कार्य है कि अगर भारत में कोई बड़ा घटनाक्रम हो तो दूसरे देशों से हमें संवाद करना चाहिए और अगर राजनयिक समुदाय से कोई अनुरोध आए जैसे हमसे पूछा जाए कि क्या हुआ और कैसे हुआ तो यह हमारा कर्तव्य है कि अपने पक्ष से उन्हें अवगत कराएं।’’ 

कुमार ने कहा कि उच्चतम न्यायालय से अयोध्या विवाद पर आए फैसले के बाद भारत ने दिल्ली में ही कुछ देशों से संपर्क किया या विदेश में मौजूद भारतीय मिशन ने यह जिम्मेदारी निभाई। 

उन्होंने कहा, ‘‘ उन सभी लोगों से जिनसे हमने इस मामले में चर्चा की, कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है और उच्चतम न्यायालय का फैसला है। न्यायालय सर्वोच्च है और इसे इसी संदर्भ में देखा जाना चाहिए।’’ 

कुमार ने कहा, ‘‘जहां तक मेरी जानकारी है, हमें कहीं से ऐसी कोई टिप्पणी नहीं मिली जिससे हमें यह सोचना पड़े कि हम इस मामले को उचित तरीके से नहीं समझा पाए। हमारा संवाद बहुत सफल रहा।’’ 

उल्लेखनीय है कि नौ नवंबर को उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने अयोध्या में विवादित स्थल राम लला को सौंप दी थी जो तीन पक्षकारों में से एक थे। साथ ही केंद्र सरकार को निर्देश दिया था कि वह मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में ही सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ वैकल्पिक जमीन आवंटित करे।