BREAKING NEWS

देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 92605 नए मामले दर्ज, संक्रमितो का आंकड़ा 54 लाख से अधिक ◾J&K में अंतरराष्ट्रीय सीमा घुसपैठ की कोशिश नाकाम, BSF ने भारी मात्रा में मादक पदार्थ बरामद किये ◾ आखिर कब थमेगा कोरोना का कहर ! दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा संख्या 3 करोड़ 6 लाख के पार◾LAC विवाद के बीच सियाचिन में तैनात सैनिकों के खाने की पौष्टिकता में कोई कमी नहीं◾कोरोना की स्थिति की समीक्षा के लिए पीएम मोदी ने सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बुलाई बैठक◾आज का राशिफल (20 सितम्बर 2020)◾एक्ट्रेस पायल घोष ने डायरेक्टर अनुराग कश्यप पर यौन शोषण के आरोप लगाए, कंगना बोलीं अरेस्ट करो◾IPL-13: चेन्नई सुपर किंग्स का जीत से आगाज, 5 विकेट से मुंबई को दी शिकस्त ◾J&K : पाकिस्तानी सैनिकों ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन, भारतीय जवानों ने दिया मुहतोड़ जवाब◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 11.88 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 21,907 नए केस◾दिल्ली में कोरोना का कहर बरकरार, पिछले 24 घंटे में 4,071 नए केस, 38 की मौत ◾ IPL 2020 : मुंबई इंडियंस ने चेन्नई सुपर किंग्स को दिया 163 रनों का लक्ष्य, लुंगी नगिदी ने झटके 3 विकेट◾विदेश मंत्री एस जयशंकर की मां सुलोचना सुब्रमण्यम का निधन, पिछले कुछ समय से थीं बीमार◾ UPSC की तर्ज पर RPSC-RSSB की भर्ती होगी पूरी, CM गहलोत ने दिए निर्देश◾उत्तर प्रदेश में कोरोना के 5287 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 3.48 लाख के पार पहुंची◾कोरोना वायरस: अगले हफ्ते पुणे में शुरू होगा ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल◾पत्रकार राजीव शर्मा ने जासूसी कर डेढ़ साल में कमाए 40 लाख रुपये, हर जानकारी के बदले मिले 1000 डॉलर◾भारत को कोरोना से लड़ाई में ऐतिहासिक उपलब्धि, स्वस्थ मरीजों के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ बना शीर्ष◾चीन के लिए रक्षा संबंधी जासूसी करने वाले पत्रकार समेत एक चीनी महिला और नेपाली युवक गिरफ्तार◾कृषि बिल को लेकर चिदंबरम का बड़ा हमला : हर पार्टी तय करे कि वह किसानों के साथ है या भाजपा के साथ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

क्या इंदिरा गांधी ने नाजी जर्मनी से प्रेरित होकर लिखी थी आपातकाल की पटकथा : जेटली 

नयी दिल्ली : जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर और दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बीच तुलना करते हुए केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली ने आज कहा कि दोनों ने लोकतंत्र को तानाशाही में तब्दील कर दिया। तीन भाग वाले लेख ‘द इमरजेंसी रिविजिटेड’ के दूसरे भाग में जेटली ने कहा कि हिटलर के विपरीत इंदिरा गांधी ने एक कदम आगे बढ़कर भारत को ‘वंशवादी लोकतंत्र’ में तब्दील करने का प्रयास किया। अपने फेसबुक पोस्ट में मंत्री ने आश्चर्य जताया कि आपातकाल की पटकथा ,नाजी जर्मनी में 1933 में जो कुछ भी हुआ, क्या उससे प्रेरित थी। चार दशक से अधिक समय पहले 25 जून 1975 को भारत में आपातकाल लगाया गया था। जेटली ने ‘द टिरैनी ऑफ इमरजेंसी’ उपशीर्षक से दूसरे भाग में लिखा है, ‘‘हिटलर और श्रीमती गांधी दोनों ने कभी भी संविधान को निष्प्रभावी नहीं किया। उन्होंने गणतांत्रिक संविधान का इस्तेमाल लोकतंत्र को तानाशाही में बदलने में किया।’’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर हैंडल पर जेटली के ब्लॉग को साझा किया।

मोदी ने ब्लॉग के लिंक को साझा करते हुए लिखा, ‘‘अरूण जेटली ने आपातकाल के काले दिनों, निजी स्वतंत्रताओं को कुचले जाने, उस दौरान हुई ज्यादतियों और कैसे आपातकाल हमारे संवैधानिक आदर्शों पर सीधा हमला था उस बारे में लिखा है। उनके ब्लॉग को पढ़ें।’’ जेटली ने कहा कि कुछ ऐसे काम थे जो हिटलर ने नहीं किए, लेकिन इंदिरा गांधी ने किए। जेटली ने कहा, ‘‘उन्होंने मीडिया में संसद की कार्यवाही के प्रकाशन पर रोक लगा दी---हिटलर के विपरीत, श्रीमती गांधी भारत को ‘वंशवादी लोकतंत्र’ में तब्दील करने की दिशा में आगे बढ़ीं।’’ जेटली ने कहा, ‘‘भारत और जर्मनी में प्रेस पर सेंसर लगाने के लिये कानून लगभग एक समान थे। प्रभावी रूप में आपके यहां एकदलीय लोकतंत्र था।’’  आर्थिक कार्यक्रमों के संबंध में मंत्री ने हिटलर और इंदिरा गांधी के एजेंडा में समानता बताई। जेटली ने कहा, ‘‘हिटलर ने 25 सूत्री आर्थिक कार्यक्रमों की घोषणा की थी। श्रीमती गांधी ने 20 सूत्री कार्यक्रमों की घोषणा की थी। इस अंतर को पाटने के लिये संजय (गांधी) ने अपने पांच सूत्री आर्थिक और सामाजिक कार्यक्रम की घोषणा की। असहमति गुनाह हो गया और चाटुकारिता पैमाना बन गया।’’

उन्होंने कहा कि हिटलर ने इस बात को सुनिश्चित रखा कि उसके कदम संविधान के दायरे के भीतर रहें। जेटली ने कहा, ‘‘श्रीमती गांधी ने अनुच्छेद 352 के तहत आपातकाल लगाया ओर अनुच्छेद 359 के तहत मौलिक अधिकार निलंबित कर दिये और दावा किया कि देश में विपक्ष ने अव्यवस्था फैलाने की योजना बनाई थी।’’ वरिष्ठ मंत्री ने कहा कि सुरक्षा बलों को अवैध आदेशों का पालन नहीं करने को कहा जा रहा था और इसलिये देश के व्यापक हित में भारत को ‘अनुशासित लोकतंत्र’ बनाया जाना था। उन्होंने कहा कि हिटलर की तरह ही इंदिरा गांधी ने संसद के ज्यादातर विपक्षी सदस्यों को गिरफ्तार करवा लिया और इस प्रकार उनकी अनुपस्थिति में उपस्थित और मतदान करने वाले सदस्यों का दो तिहाई बहुमत हासिल कर लिया और संविधान संशोधन के जरिये कई अप्रिय प्रावधानों को पारित करवा लिया। जेटली ने कहा, ‘संविधान के 42 वें संशोधन के जरिये उच्च न्यायालयों की रिट जारी करने की शक्ति को कमतर कर दिया गया। इस शक्ति को डॉ. आंबेडकर ने कहा था कि यह संविधान की आत्मा है। उन्होंने अनुच्छेद 368 में भी संशोधन किया ताकि संविधान संशोधन को न्यायिक पुनर्विलोकन के दायरे से बाहर किया जा सके।’’ उन्होंने कहा कि नाजी नेता ने कहा था कि जर्मनी में एक ही प्राधिकारी है और वह प्राधिकारी फ्यूहरर (तानाशाह नेता हिटलर) है। जेटली ने कहा कि इसी तरह कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष देवकांत बरूआ ने कहा था, ‘‘इंदिरा इज इंडिया एंड इंडिया इज इंदिरा।’’

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पढ़े पंजाब केसरी अख़बार।