BREAKING NEWS

ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी से की मुलाकात, अमित शाह से मिलने की जताई इच्छा◾हिंदी को लेकर चल रहे विवाद में सुपरस्टार रजनीकांत ने भी दिया बड़ा बयान, सियासी हलचल तेज◾मोदी सरकार ने ई-सिगरेट के उत्पादन को किया बैन, रेलवे कर्मचारियों को 78 दिन का मिलेगा बोनस◾लद्दाख में सेना-वायुसेना ने चीन को दिखाई ताकत, किया युद्ध का अभ्यास◾झारखंड में बोले अमित शाह-राहुल स्पष्ट करें कि वे 370 हटाने के पक्ष में हैं या विरोध में◾अयोध्या मामलें पर असदुद्दीन ओवैसी बोले- भाजपा या शिवसेना नहीं, SC सुनाएगा फैसला◾बसपा प्रमुख मायावती का कांग्रेस पर वार, कहा- दोगली नीति की वजह से देश में ‘साम्प्रदायिक ताकतें’ मजबूत ◾गुलाम नबी आजाद और अहमद पटेल ने चिदंबरम से तिहाड़ जेल में की मुलाकात◾अयोध्या मामला : सुप्रीम कोर्ट ने तय की सुनवाई की डेडलाइन, नवंबर तक आ सकता है फैसला◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विकास की धार से बना रहे उपचुनाव में जीत का रास्ता◾भारत को दोबारा GSP कार्यक्रम में शामिल करने के लिए 44 अमेरिकी सांसदों ने ट्रंप से की अपील◾रोज 5 ट्रिलियन- 5 ट्रिलियन बोलने से आर्थिक सुधार नहीं होता : प्रियंका गांधी◾जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी BAT की घुसपैठ को किया नाकाम, देखें VIDEO◾यदि सावरकर प्रधानमंत्री होते तो पाकिस्तान नहीं होता : उद्धव ठाकरे ◾राहुल ने अब्दुल्ला की हिरासत की निंदा की, तत्काल रिहाई की मांग की ◾नये वाहन कानून को लेकर ज्यादातर राज्य सहमत : गडकरी ◾यशवंत सिन्हा को श्रीनगर हवाईअड्डे से बाहर निकलने की नहीं मिली इजाजत, दिल्ली लौटे ◾2014 से पहले लोगों को लगता था कि क्या बहुदलीय लोकतंत्र विफल हो गया : गृह मंत्री◾देखें VIDEO : सुखोई 30 MKI से किया गया हवा से हवा में मार करने वाली ‘अस्त्र’ मिसाइल का प्रायोगिक परीक्षण◾नौसेना में 28 सितंबर को शामिल होगी स्कॉर्पीन श्रेणी की दूसरी पनडुब्बी ‘खंडेरी’ ◾

देश

दिनाकरण के प्रमुख सहयोगी ने एएमएमके छोड़ी, द्रमुक का दामन थामा

एएमएमके संस्थापक टीटीवी दिनाकरण के महत्वपूर्ण सहयोगियों में से एक वी सेंथिल बालाजी ने पार्टी छोड़कर शुक्रवार को एम के स्टालिन के नेतृत्व वाली द्रमुक का दामन थाम लिया।

अयोग्य ठहराए गए विधायक वी सेंथिल बालाजी यहां पार्टी मुख्यालय अन्ना अरिवालयम में एम के स्टालिन की मौजूदगी में द्रमुक में शामिल हुए। वह अयोग्य घोषित किए गए अन्नाद्रमुक के 18 विधायकों में से एक हैं।

सेंथिल के पार्टी से अलग होने के मायने हैं क्योंकि यह घटनाक्रम ऐसे समय हुआ है जब ऐसी खबरें चल रही हैं कि तमिलनाडु विधानसभा अध्यक्ष पी धनपाल के अन्नाद्रमुक के 18 विधायकों को अयोग्य घोषित करने के फैसले को 25 अक्टूबर को मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा बरकरार रखने के बाद से एएमएमके संस्थापक दिनाकरण के लिए अपना कुनबा एकजुट रखना मुश्किल हो रहा है।

रविशंकर ने राहुल पर किया पलटवार, कांग्रेस ने राफेल डील पर झूठ का पहाड़ खड़ा किया

पिछले वर्ष धनपाल ने उन विधायकों को मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी के खिलाफ विद्रोह करने के कारण अयोग्य ठहरा दिया था। खबरों में दावा किया गया कि मद्रास उच्च न्यायालय के फैसले खिलाफ अपील नहीं करने के दिनाकरण के फैसले से कई विधायक खुश नहीं हैं।

बालाजी के पार्टी छोड़ने पर दिनाकरण ने कहा कि उन्हें इसको लेकर वास्तव में चिंता नहीं है। उन्होंने अपने पूर्व सहयोगी को शुभकामनाएं दी।

बालाजी ने कहा कि वह स्टालिन के कार्य से प्रभावित होकर द्रमुक में शामिल हुए हैं। उन्होंने कहा कि द्रमुक नेता राज्य में सत्ताधारी अन्नाद्रमुक के साथ ही केंद्र की भाजपा नीत राजग से मुकाबला करने को लेकर दृढ़ हैं। उन्होंने स्टालिन के नेतृत्व क्षमता की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि अन्नाद्रमुक ‘‘डूबता जहाज’’ है तथा कई और पदाधिकारी उसे छोड़कर द्रमुक में शामिल होना चाहते हैं।

बालाजी ने कहा कि लोग न केवल 2019 के लोकसभा चुनाव में द्रमुक के लिए वोट करेंगे बल्कि 2021 में अगले विधानसभा चुनाव में पार्टी को जनादेश देंगे और स्टालिन को मुख्यमंत्री बनाएंगे।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए पलानीस्वामी ने सालेम में संवाददाताओं से कहा कि सभी को कृतज्ञता दिखानी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘यह केवल इसलिए विधायक बने और एक मंत्री भी बने कि वह अन्नाद्रमुक में थे। किसी को भी कृतज्ञता दिखाना नहीं भूलना चाहिए।’’