BREAKING NEWS

TOP 20 NEWS 11 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है : ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद कहा ◾JNU ने वापस लिया शुल्क बढ़ोतरी का फैसला, आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए योजना की प्रस्तावित ◾सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, RTI के दायरे में आएगा CJI का दफ्तर◾संजय राउत को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री तो शिवसेना का ही होगा◾कुलभूषण जाधव के लिए पाकिस्तान करेगा अपने आर्मी एक्ट में बदलाव ◾शिवसेना का BJP पर तीखा वार, कहा-सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध का आनंद उठा रही है पार्टी◾कर्नाटक के 17 विधायक अयोग्य, लेकिन लड़ सकते हैं चुनाव : SC◾महाराष्ट्र : राज्यपाल के फैसले को SC में चुनौती देने वाली याचिका का उल्लेख नहीं करेगी शिवसेना◾लगातार 5 दिन से बढ़ते पेट्रोल के दाम पर लगा ब्रेक, डीजल के दाम भी स्थिर ◾महाराष्ट्र : शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस का नहीं हुआ गठबंधन, अब ऑपरेशन लोटस की तैयारी में BJP◾दिल्ली-NCR में सांस लेना हुआ दूभर, गंभीर श्रेणी में पहुंची हवा◾राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾

देश

न्यायाधीशों की नियुक्ति का नियमन करने के बारे में कानून बनाने की योजना नहीं : सरकार

सरकार ने स्पष्ट किया है कि उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों की नियुक्ति और उनके आचरण का नियमन करने संबंधी कानून का मसौदा लाने की कोई योजना नहीं है। 

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बृहस्पतिवार को राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि सरकार के समक्ष इस तरह की कोई योजना विचाराधीन नहीं है। प्रसाद ने यह भी बताया कि न्यायाधीशों के नियुक्ति के लिये कॉलेजियम द्वारा सुझाये गये नामों के बारे में कोई विवाद नहीं है। 

कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा ने पूछा था कि न्यायाधीशों की नियुक्ति और उनके आचरण को जनहित में कानून के द्वारा विनियमित करने की अनुमति देने का क्या कोई प्रस्ताव विचाराधीन है। इसके जवाब में प्रसाद ने कहा कि सरकार के समक्ष ऐसा कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है और ना ही इस तरह की कोई संसदीय पहल की गयी है। 

उन्होंने कहा कि इस विषय पर व्यापक विमर्श की जरूरत है और इस पर विभिन्न संवैधानिक प्राधिकारियों से मंजूरी की भी जरूरत होगी।