BREAKING NEWS

संयुक्त किसान मोर्चा ने सरकार का प्रस्ताव किया खारिज, किसान अपनी मांगों पर अड़े◾मुख्यमंत्री केजरीवाल का आदेश, कहा- झुग्गी झोपड़ी में रहने वालों को जल्दी से जल्दी फ्लैट आवंटित किए जाएं ◾ममता की बढ़ी चिंता, मौलाना अब्बास सिद्दीकी ने बंगाल में बनाई नई राजनीतिक पार्टी, सभी सीटों पर लड़ सकती है चुनाव ◾सीरम इंस्टीट्यूट में भीषण आग से 5 मजदूरों की मौत, CM ठाकरे ने दिए जांच के आदेश◾चुनाव से पहले TMC को झटके पर झटका, रविंद्र नाथ भट्टाचार्य के बेटे BJP में होंगे शामिल◾रोज नए जुमले और जुल्म बंद कर सीधे-सीधे कृषि विरोधी कानून रद्द करे सरकार : राहुल गांधी ◾पुणे : दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता में से एक सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में लगी आग◾अरुणाचल प्रदेश में गांव बनाने की रिपोर्ट पर चीन ने तोड़ी चुप्पी, कहा- ‘हमारे अपने क्षेत्र’ में निर्माण गतिविधियां सामान्य ◾चुनाव से पहले बंगाल में फिर उठा रोहिंग्या मुद्दा, दिलीप घोष ने की केंद्रीय बलों के तैनाती की मांग◾ट्रैक्टर रैली पर किसान और पुलिस की बैठक बेनतीजा, रिंग रोड पर परेड निकालने पर अड़े अन्नदाता ◾डेजर्ट नाइट-21 : भारत और फ्रांस के बीच युद्धाभ्यास, CDS बिपिन रावत आज भरेंगे राफेल में उड़ान◾किसानों का प्रदर्शन 57वें दिन जारी, आंदोलनकारी बोले- बैकफुट पर जा रही है सरकार, रद्द होना चाहिए कानून ◾कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में प्रधानमंत्री मोदी और सभी मुख्यमंत्रियों को लगेगा टीका◾दिल्ली में अगले दो दिन में बढ़ सकता है न्यूनतम तापमान, तेज हवा चलने से वायु गुणवत्ता में सुधार का अनुमान ◾देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 15223 नए केस, 19965 मरीज हुए ठीक◾TOP 5 NEWS 21 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विश्व में आखिर कब थमेगा कोरोना का कहर, मरीजों का आंकड़ा 9.68 करोड़ हुआ ◾राहुल गांधी ने जो बाइडन को दी शुभकामनाएं, बोले- लोकतंत्र का नया अध्याय शुरू हो रहा है◾कांग्रेस ने मोदी पर साधा निशाना, कहा-‘काले कानूनों’ को खत्म क्यों नहीं करते प्रधानमंत्री◾जो बाइडन के शपथ लेने के बाद चीन ने ट्रंप को दिया झटका, प्रशासन के 30 अधिकारियों पर लगायी पाबंदी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत की चौतरफा घेराबंदी के लिए हिन्द महासागर में ड्रैगन ने रची नई साजिश !

नई दिल्ली : चीन भारत को चौतरफा घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रहा है। अफ्रीका के एक छोटे से देश जिबूती में उसने अपना पहला विदेशी सैन्य अड्डा बना लिया है। जिसके लिए उसने बुधवार को ही अपने जहाज़ और सैनिक रवाना कर दिए हैं। वहीं हिंद महासागर में भारत-अमेरिका-जापान का मालाबार सैन्य अभ्यास चल रहा है। इसी के बीच ही जिबूती में चीन ने अपने जहाज़ और सैनिक भेज दिए हैं। बांग्लादेश, म्यांमार से लेकर श्रीलंका तक और श्रीलंका से पाकिस्तान के ग्वादर तक और ग्वादर से अब जिबूती तक चीन भारत की घेराबंदी करने में जुटा है। हालांकि जिबूती में अमेरिका, फ्रांस और जापान के भी मिलिट्री बेस है, लेकिन चीन का वहां सैन्य अड्डा बनाना भारत के लिए बहुत चिंताजनक है।

Source

चीन का समंदर के रास्ते भारत को चारों तरफ से घेरने का प्लान

बांग्लादेश में पोर्ट बनाने और दो पनडुब्बी बेचने, म्यांमार में पोर्ट बनाने और मिलिट्री मदद देने, श्रीलंका में हमबनटोटा पोर्ट के टेकओवर का प्लान, आर्थिक गलियारे के नाम पर पाकिस्तान के ग्वादर पोर्ट में बेस और अब अफ्रीका के तटीय देश जिबूती में अपना पहला विदेशी मिलिट्री बेस, चीन समंदर के रास्ते चारों तरफ से भारत की घेराबंदी के प्लान पर चल रहा है।

Source

ये अफ्रीका के छोटे से तटीय देश जिबूती की तरफ निकले चीन के वो सैनिक और जहाज है। जिनके ज़रिए पहली बार चीन दुनिया में दूसरी किसी जगह पर अपना परमानेंट मिलिट्री बेस बनाने जा रहा है। चीन का प्लान है कि जिबूती में बीस हज़ार से 1 लाख सैनिकों की तैनाती की जाए, जिससे वो समंदर से अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के सभी बड़े रास्तों पर दबदबा बना सके।

जिबूती अफ्रीका और मिडिल ईस्ट के देशों तक पहुंचने का अहम प्वाइंट

वैसे तो चीन का कहना है कि वो वो जिबूती में अपना बेस शांति सहयोग और दूसरे अंतरराष्ट्रीय मिशन में सहायता के लिए बना रहा है। लेकिन असल में जिबूती की अहम रणनीतिक लोकेशन से वो मिडिल ईस्ट और अफ्रीका तक अपनी पहुंच बनाना चाहता है, क्योंकि जिबूती अफ्रीका और मिडिल ईस्ट के देशों तक पहुंचने का अहम प्वाइंट है। ये हिंद महासागर और उस मध्य सागर को भी जोड़ता है, जहां के समंदर में चीन अक्सर अपना सैन्य अभ्यास करता रहा है।

Source

अब तक का सबसे बड़ा अभ्यास है मालाबार अभ्यास

 लेकिन चिंता की सबसे बड़ी बात कि जिबूती से ग्वादर और श्रीलंका से म्यांमार और बांग्लादेश तक एक घेरा बनाकर चीन सोच रहा है कि वो हिंद महासागर में भारत को घेर लेगा। शायद इसीलिए चीन को हिंद महासागर में वो मालाबार सैन्य अभ्यास से मिर्ची लग जाती है, जो भारत-अमेरिका और जापान की नौसेना हर साल करती है और इस बार का मालाबार अभ्यास तो अब तक का सबसे बड़ा अभ्यास है।

Source

इसी ताकत से चीन की दादागीरी को रोका जा सकता है, क्योंकि वो दक्षिण चीन सागर से हिंद महासागर और मध्य सागर तक हर जगह अपनी धाक जमाना चाहता है। जिसमें खासतौर पर हिंद महासागर में भारत निशाने पर है। इसमें जिबूती को बेहद खतरनाक तरीके से चीन ने चुना है। जहां उसने पहला मिलिट्री बेस बनाने का फैसला 2015 में किया था और अब उसने अपने सैनिक और जहाज़ भी वहां भेज दिए।