BREAKING NEWS

लॉकडाउन के बीच, आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, पहले दिन 1.45 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर ◾तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना ◾जासूसी के आरोप में पाक उच्चायोग के दो अफसर गिरफ्तार, 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,487 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 67 हजार के पार ◾दिल्ली से नोएडा-गाजियाबाद जाने पर जारी रहेगी पाबंदी, बॉर्डर सील करने के आदेश लागू रहेंगे◾महाराष्ट्र सरकार का ‘मिशन बिगिन अगेन’, जानिये नए लॉकडाउन में कहां मिली राहत और क्या रहेगा बंद ◾Covid-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1295 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 20 हजार के करीब ◾वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी उद्योग जगत को देंगे वृद्धि की राह का मंत्र◾UP अनलॉक-1 : योगी सरकार ने जारी की गाइडलाइन, खुलेंगें सैलून और पार्लर, साप्ताहिक बाजारों को भी अनुमति◾श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾कोरोना संकट : दिल्ली सरकार ने राजस्व की कमी के कारण केंद्र से मांगी 5000 करोड़ रुपए की मदद ◾मन की बात में PM मोदी ने योग के महत्व का किया जिक्र, बोले- भारत की इस धरोहर को आशा से देख रहा है विश्व◾'मन की बात' में PM मोदी ने देशवासियों की सेवाशक्ति को कोरोना जंग में बताया सबसे बड़ी ताकत◾तमिलनाडु सरकार ने 30 जून तक बढ़ाया लॉकडाउन, सार्वजनिक परिवहन की आंशिक बहाली की दी अनुमति ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 82 हजार के पार, महामारी से 5164 लोगों ने गंवाई जान ◾विश्व में कोरोना मरीजों का बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के पार◾महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद शरद पवार ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात ◾दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि देश आज भयानक मंदी के दौर से गुजर रहा है और हमारे देश में होने वाले सभी निवेश बंद हो गये हैं। जीडीपी सबसे निचले स्तर पर है। यह सब केंद्र की मोदी सरकार की अनुभवहीनता और गलत आर्थिक नीतियों का परिणाम है। 

श्री कमलनाथ आज यहां मानस भवन में आर्थिक मंदी पर कांग्रेस के सभी जिला अध्यक्ष और पीसीसी डेलीगेट के साथ चर्चा-चिंतन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमने नौ माह में हर मोर्चे पर गंभीर चुनौती और खाली खजाने के बीच परिणाम देने वाले काम किए हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने जो काम नौ माह में किया वह काम पंद्रह साल की भाजपा सरकार ने नहीं किया। उन्होंने कहा कि हमारी ऐतिहासिक ऋण माफी योजना में अब हम 50 हजार के बाद चालू खाते के 2 लाख तक के ऋण माफ करने जा रहे हैं। 

उन्होंने नौ माह की सरकार के कामकाज का ब्यौरा देते हुए कहा कि हम सब लोगों के लिए अग्निपरीक्षा का दौर था। उन्होंने कहा कि आपकी मेहनत पंद्रह साल के संघर्ष का ही नतीजा था कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी।

उन्होंने कहा कि भले ही संवैधानिक प्रक्रिया के तहत विधायकों ने मुझे मुख्यमंत्री बनाया लेकिन मेरा यह मानना है कि मुझे मुख्यमंत्री आप लोगों ने बनाया क्योकि जो विधायक जीत कर आया वह आपकी वजह से विजय हुआ है। उन्होने कहा कि 25 सितम्बर को कांग्रेस की सरकार के नौ माह पूरे होंगे। हमें सिर्फ छह माह काम करने का मौका मिला। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन छह माह में किसानों की कर्ज माफी, कन्यादान विवाह और निकाह योजना की राशि को दोगुना करना, पेंशन दोगुनी करना, बिजली देने, मक्का और गेहूँ उत्पादन पर बोनस जैंसे महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक फैसले सरकार ने लिए हैं, यह सब उन चुनौतियों के बीच में किया गया, जब हमें विरासत में खाली तिजोरी मिली थी।

श्री कमलनाथ ने कहा कि कर्जमाफी का काम आसान नहीं था। कांग्रेस का वचन था कि हम किसानों का कर्ज माफ करेंगे। मुख्यमंत्री की शपथ लेने के दो घंटे के अंदर मैनें किसानों की कर्ज माफी का फैसला लेते हुए पहली सरकारी फाईल पर हस्ताक्षर किए थे। 

उन्होंने कहा कि जब हमने फसल ऋण वाले दो लाख रुपये तक की किसानों की कर्जमाफी की प्रक्रिया शुरु की तो कई चुनौतियाँ हमारे सामने आयीं, 50 लाख किसानों के खातों की जांच की गई तो पता चला कि 38 लाख किसान ही सामने आए। इन 38 लाख किसानों में से कई किसानों के चार-चार खाते हैं कई किसानों ने फसल ऋण के अलावा अन्य ऋण ले रखे थे। कई किसानों के पास आधारकार्ड नहीं था और अन्य तकनीकी कारणों से वे ऋणमाफी प्रक्रिया में शामिल नहीं हो पाये थे। इन सारी चुनौतियों का सामना करते हुए हमने 20 लाख किसानों का कर्ज माफ किया। 

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के इतिहास में पहली बार इतनी बड़ संख्या में किसानों की कर्जमाफी हो रही थी। उन्होंने कहा कि इस पूरी प्रक्रिया के दौरान हर दिन किसानों की कर्जमाफी की प्रक्रिया की वे मॉनिटरिंग करते थे। यह काम सिर्फ तंत्र के भरोसे नहीं छोड़ था। यही कारण है कि इतने कम समय में इतनी बड़ संख्या में किसानों के कर्जमाफ हो सके। 

उन्होंने बताया कि उत्तरप्रदेश और महाराष्ट्र की भाजपा सरकारों ने भी कर्जमाफी की घोषणा की थी लेकिन उत्तरप्रदेश में आज तक यह प्रक्रिया चल रही है और महाराष्ट्र में चुनाव नजदीक आ गये है अभी तक किसानों के कर्जमाफ नहीं हुए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में निवेश की बद्दतर हालत थी। निवेशकों का प्रदेश पर कोई विश्वास नहीं था और इसके बगैर हम औद्योगिक विकास के क्षेत्र में कुछ भी कर पाने में असमर्थ थे। इन साढ़ छह माह में हमने निवेश के क्षेत्र में जो कदम उठाये उससे विश्वास की वापसी हुई।