BREAKING NEWS

‘आप' ने की महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु मामले की सीबीआई जांच की मांग◾महाराष्ट्र में फड़णवीस सरकार के शासनकाल में हुए भ्रष्टाचार को सामने लाने का वक्त आ गया: कांग्रेस◾PM मोदी ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि के निधन पर जताया शोक, कहा- संत समाज की धाराओं को जोड़ने में निभाई बड़ी भूमिका◾अब इस राज्य में भी विधानसभा का चुनाव लड़ेगी 'AAP', केजरीवाल ने सियासी पिच पर लगाया छक्का!◾UP: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का संदिग्ध परिस्थितियों में निधन, पुलिस को मिला सुसाइड नोट◾पंजाब कांग्रेस के घमासान के बाद छत्तीसगढ़ में भी सत्ता को लेकर हलचल, दिल्ली पहुंचे टी एस सिंहदेव ◾पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को मिली जमानत, कहा- बिना सबूत मुझे बनाया गया बलि का बकरा ◾पंजाब के नए नवेले CM चन्नी पर 'मी टू' के आरोप, NCW अध्यक्ष ने की कांग्रेस से यह मांग◾भाजपा का तंज - अगर कांग्रेस पंजाब चुनाव सिद्धू के नेतृत्व में लड़ेगी तो क्या चन्नी सिर्फ 'नाइट वॉचमैन' हैं◾रावत के बयान पर कांग्रेस की सफाई- CM के तौर पर चन्नी और PCC अध्यक्ष के रूप में सिद्धू होंगे चेहरा ◾ममता दीदी के साथ मुलाकात बहुत संगीतमय रही, उनका हर शब्द मेरे लिए संगीत जैसा रहा - बाबुल सुप्रियो ◾'चन्नी' को CM बनाने पर BJP का तंज- दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत ◾बंगाल राज्यसभा उपचुनाव : BJP नहीं उतारेगी उम्मीदवार, सुष्मिता के निर्विरोध चुने जाने की संभावना◾पीएम मोदी दलितों के नाम पर वोट मांगते हैं, लेकिन देश में किसी दलित को सीएम नहीं बनाया : रणदीप सुरजेवाला ◾रूसी यूनिवर्सिटी में बंदूकधारी छात्रों ने की गोलीबारी, अंधाधुंध फायरिंग में आठ लोगों की मौत◾CM बनते ही एक्शन में आए चरणजीत सिंह चन्नी, कहा- तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करे केंद्र सरकार ◾जावेद अख्तर मानहानि केस में बड़ा ट्विस्ट, मुंबई कोर्ट में पेश हुईं कंगना, कहा-अदालत से उठ गया विश्वास ◾मायावती का वार- पंजाब में दलित CM बनाना चुनावी हथकंडा, हार को लेकर घबरायी हुई है कांग्रेस ◾कोलकाता में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित, जलजमाव से जगह-जगह लगा ट्रैफिक जाम ◾UP में घमासान, ओवैसी और अखिलेश पर तंज कसने के लिए BJP ने बनाया 'अब्बा जान' कार्टून◾

ईडी को एयरबस इंडस्ट्री से 43 विमानों की खरीद के सौदे मामले में तलवार से पूछताछ की इजाजत मिली

दिल्ली की एक अदालत ने शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को 2005 में फ्रांस की कंपनी एयरबस इंडस्ट्री से पूर्ववर्ती कंपनी इंडियन एयरलाइंस द्वारा 43 विमानों की खरीद से जुड़े एक नये धनशोधन मामले में तिहाड़ जेल में लॉबिस्ट दीपक तलवार से पूछताछ करने की इजाजत दी। विशेष न्यायाधीश संतोष स्नेही मान ने ईडी को तलवार से पूछताछ करने की इजाजत दी। तलवार विदेशी एयरलाइनों को कथित रूप से फायदा पहुंचाने और राष्ट्रीय कंपनी एयर इंडिया को नुकसान पहुंचाने की सौदा-वार्ता से जुड़े एक भिन्न मामले में न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल में है।

मौजूदा मामले में विशेष सरकारी वकीलों-- डी पी सिंह और नीतेश राणा ने अदालत से कहा था कि खरीद से जुड़े धनशोधन के संबंध में पूरी आपराधिक साजिश का पता लगाने के लिए तलवार से पूछताछ करने की जरूरत है।

चुनाव आयोग ने जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनावों को लेकर राज्य के अधिकारियों के साथ चर्चा की

राणा ने अदालत से कहा, ‘‘उसने (तलवार ने) एयरबस इंडस्ट्री से एक खाते में 92 करोड़ रूपये और दूसरे खाते में 142 करोड़ रूपये हासिल किये। वह इन सौदों में एयरबस से सीधा जुड़ा था और वह अपनी ही सौदा वार्ता कर रहा था। ’’ अदालत एयरबस मामले में तलवार को गिरफ्तार करने के लिए इजाजत की मांग संबंधी ईडी की एक अर्जी पर सुनवाई कर रही थी। अदालत ने ईडी को तलवार से तिहाड़ जेल के अंदर ही पूछताछ करने का निर्देश दिया।

न्यायाधीश ने कहा, ‘‘वह तो एक अन्य मामले में न्यायिक हिरासत में है ही। आपको वहां जाने और उससे पूछताछ करने से कौन सी बात रोक रही है? क्या वहां जाने और पूछताछ करने पर कोई रोक है?’’ इस पर ईडी ने अदालत से तलवार से तिहाड़ जेल में पूछताछ की अनुमति देने का अनुरोध किया और उसे इजाजत मिल गयी।

ईडी के अनुसार यह मामला इंडियन एयरलाइंस के अधिकारियों और अन्य अज्ञात व्यक्तियों ने दर्ज कराया था। इन सभी पर आरोप लगाया था कि अधिकारियों ने अपने पद का दुरूपयोग किया तथा एयरबस इंडस्ट्री के साथ साजिश रचकर उससे इंडियन एयरलाइंस द्वारा 43 विमानों की खरीद में उसे अनुचित लाभ पहुंचाया तथा सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाया।

ईडी ने कहा, ‘‘आर्थिक विषयों से संबंधित मंत्रिमंडलीय समिति/उच्चाधिकार मंत्रिसमूह ने 2006 में 43 एयरबस विमानों की खरीद को मंजूरी दी और प्रति विमान क्रयमूल्य इस शर्त के साथ तय किया गया एयरबस 1000 करोड़ रूपये की लागत से प्रशिक्षण एवं एमआरओ केंद्र स्थापित करेगी। ’’

ईडी ने कहा, ‘‘लेकिन उक्त शर्त को धोखे से हटाते हुए 43 विमानों की आपूर्ति का खरीद आर्डर दे दिया गया। एमआरओ और प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करने की शर्त हटाने से एयरबस को 1000 करोड़ रूपये का अनुचित लाभ हुआ जिसे भारत सरकार द्वारा तय सहमत क्रयमूल्य से घटाया जाना चाहिए था।’’

उसने कहा कि जांच के प्रति तलवार का बर्ताव असहयोगपूर्ण रहा और जबतक उसे कानूनन बाध्य नहीं किया जाएगा वह जांच के सिलसिले में जांच अधिकारी के सामने पेश नहीं होगा।

पहले मामले में ईडी ने आरोप लगाया कि तलवार ने एयर इंडिया की कीमत पर विदेशी निजी एयरलाइन कंपनियों फायदा पहुंचाने के लिए बिचौलिये की भूमिका निभायी।

उसने अदालत से कहा वह नागर विमानन मंत्रालय, नेशनल एविएशन कंपनी ऑफ इंडिया, एयर इंडिया के उन अधिकारियों के नाम पता लगाने की कोशिश में जुटा है जिन्होंने एयर इंडिया को लाभकारी मार्गों और समय छुड़वाकर कतर एयरवेज, एमिरेट्स, एयर अरबिया समेत विदेशी एयरलाइनों की पक्षधरता की।