BREAKING NEWS

महागठबंधन में फूट : कांग्रेस बोली - मिले सम्मानजनक सीट नहीं तो 243 सीटों पर लड़ेंगे◾कृषि विधेयकों के मुद्दे पर अकाली दल ने NDA से तोड़ा 22 साल पुराना गठबंधन◾PM मोदी ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की◾देश के हितों की रक्षा करने में अपने सशस्त्र बलों की क्षमता पर विश्वास करने की जरूरत है : जयशंकर ◾KKR vs SRH (IPL 2020) : केकेआर ने सनराइजर्स हैदराबाद को 7 विकेट से हराया◾देश में कोरोना वायरस का कहर जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब पहुंची◾UN के मंच से पीएम मोदी की नसीहत, कोरोना महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? ◾संयुक्त राष्ट्र के मंच से पीएम मोदी का संबोधन: UN की निर्णायक इकाई से भारत को आखिर कब तक दूर रखा जाएगा◾अमित शाह ने लद्दाख के जन प्रतिनिधियों से की मुलाकात◾ड्रग केस : श्रद्धा कपूर, सारा अली खान से एनसीबी की पूछताछ खत्म, किसी को नया समन नहीं भेजा गया ◾राहुल ने किया केंद्र से आग्रह : प्रस्तावित कृषि कानूनों को वापस ले सरकार, एमएसपी की गारंटी दे◾ड्रग्स केस : एनसीबी के सामने दीपिका पादुकोण ने कबूली ड्रग चैट की बात, पांच घंटे तक हुई पूछताछ ◾वैज्ञानिकों ने हर मुश्किल और सामने आई सभी चुनौतियों को अवसर में बदला है: हर्षवर्धन◾वीरेंद्र सहवाग ने CSK का उड़ाया मजाक, कहा - टीम के बल्लेबाजों को ग्लूकोज चढ़वाने की जरूरत ◾भारत ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की : विदेश मंत्रालय◾BJP की नई टीम का ऐलान, राम माधव सहित 4 महासचिव बदले, देखें पूरी लिस्ट◾कांग्रेस का तीखा वार : श्रम सुधार संबंधी संहिताएं मजूदर विरोधी, सरकार के ‘डीएनए में’ है निर्णय थोपना◾ड्रग केस : अभिनेत्री श्रद्धा कपूर और सारा अली खान पर एनसीबी ने दागे तीखे सवाल , पूछताछ जारी◾पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर राजौरी में LOC पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया ◾पीएम मोदी UNGA को आज करेंगे संबोधित, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पर्यावरण सरंक्षण कानून के खिलाफ और भारत के भविष्य से समझौता है EIA का मसौदा : कांग्रेस

कांग्रेस ने ‘पर्यावरण प्रभाव आकलन’ (ईआईए)-2020 के मसौदे को पर्यावरण संरक्षण कानून के खिलाफ करार देते हुए मंगलवार को आरोप लगाया कि सरकार भारत के भविष्य से समझौता करने एवं उसे जोखिम में डालने पर तुली हुई है।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह दावा भी किया कि यह ईआईए का मसौदा भारत के पारिस्थितिक तंत्र की सुरक्षा, पर्यावरण, लाखों गरीब आदिवासी एवं वंचित वर्ग के लोगों तथा भविष्य की पीढ़ियों के कल्याण पर सीधा हमला है। गौरतलब है कि पर्यावरण मंत्रालय ने इस साल मार्च में ईआईए के मसौदे को लेकर अधिसूचना जारी की थी और इस पर जनता से सुझाव मांगे गए थे।

इसके तहत अलग-अलग परियोजनाओं के लिए पर्यावरण मंजूरी देने के मामले आते हैं। सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ ईआईए-2020 का मसौदा भारत के पारिस्थितिक तंत्र की सुरक्षा, पर्यावरण, जीव जंतुओं एवं वनस्पति, लाखों गरीब आदिवासी एवं वंचित वर्ग के लोग तथा भविष्य की पीढ़ियों के कल्याण पर सीधा हमला है।

‘‘सूट-बूट की सरकार’’ ने ‘‘पर्यावरण से ज्यादा महत्व पैसे को’’, ‘‘पारदर्शिता से ज्यादा महत्व मुनाफाखोरी को’’ एवं ‘‘संरक्षण से ज्यादा महत्व लाभ कमाने’’ को दिया है।’’उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘दूरदर्शिता से विहीन मोदी सरकार, अपने पूंजीपति मित्रों को आगे बढ़ाने की लालसा में अंधी होकर भारत के भविष्य के साथ समझौता करने और उसे जोखिम में डालने पर तुली है।’’

सुरजेवाला के मुताबिक, ईआईए 2020 के खिलाफ आपत्तियां देने की अवधि आज समाप्त हुई। सर्वाधिक तीखी आपत्तियां पर्यावरणविदों, सिविल सोसायटी समूहों, कार्यकर्ताओं एवं प्रबुद्ध नागरिकों की ओर से आईं हैं। उन्होंने दावा किया कि ईआईए 2020 पर्यावरण की क्षति को वैधता व लाइसेंस के अधीन लाता है।

इसके मसौदे में पर्यावरण को प्रदूषित किए जाने पर परियोजनाओं के मालिकों के लिए मुआवजे का भुगतान करने का प्रावधान है और वो अपना काम पहले की तरह जारी रख सकते हैं। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘इस मसौदे में ‘‘जन परामर्श एवं जन बुद्धिमत्ता’’ को बाधक मान उसे केवल औपचारिकता बना दिया गया है।

अजीब बात है कि ईआईए रिपोर्ट अब केवल ‘अंग्रेजी’ में देनी होगी, न कि किसी भी ‘स्थानीय/क्षेत्रीय भाषा’ में। इसके प्रभाव को स्थानीय समुदाय के लिए समझना असंभव हो जाएगा।’’ सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि यह मसौदा पर्यावरण संरक्षण कानून और उच्चतम न्यायालय के आदेशों का उल्लंघन है।

हाल ही में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ईआईए के मसौदे को लेकर सरकार पर फिर से निशाना साधा था और कहा था कि इसे वापस लिया जाना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया था कि ईआईए-2020 के मसौदे का मकसद 'देश की लूट है।