BREAKING NEWS

‘पूरे देश में खेल होगा’ : ममता बनर्जी◾CM केजरीवाल ने ममता बनर्जी से की मुलाकात, राजनीतिक मुद्दों पर की चर्चा◾अमरनाथ गुफा के पास फटा बादल, शाह ने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से की बात◾बैंक डूबे या बंद हो, 90 दिन में ग्राहकों को मिल जाएगी 5 लाख तक की बीमा की रकम : सरकार◾सुप्रीम कोर्ट की हिदायत ने मानते हुए बकरीद के मौके पर छूट देने से केरल में एकदम बढ़ा कोरोना - भाजपा ◾इमरान खान ने खुद बताया की उन्हें 'तालिबान खान' क्यों कहा जाता है, खुद ही खोल दी अपनी पोल ◾जेपी नड्डा का विरोधियों पर निशाना - केवल प्रेस कांफ्रेंस या ट्विटर पर ही नजर आते हैं विपक्षी नेता ◾सुप्रीम कोर्ट के आदेश और नियमों को ताक पर रखकर राकेश अस्थाना को बनाया गया दिल्ली का पुलिस कमिश्नर : कांग्रेस◾सोनिया गांधी से मिलीं ममता बनर्जी, कहा - बिल्ली के गले में घंटी बांधने के लिए चाहिए सबका साथ ◾पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को बड़ा झटका, कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका◾अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन बोले- सभी को अपनी सरकार में राय देने का और सम्मान पाने का हक◾ममता का केंद्र पर तीखा वार- इमरजेंसी से भी गंभीर हालात, अब पूरे देश में 'खेला होबे'◾राहुल का अर्थ ही है गैर जिम्मेदार, अगर उनके फोन में डाला गया पेगासस हथियार तो क्यों बैठे रहे चुप : BJP◾विदेश मंत्री एस जयशंकर और ब्लिंकन ने मुलाकात कर कई मुद्दों पर की चर्चा, चीन की बढ़ी टेंशन ◾पेगसास केस पर विपक्ष हमलावर, राउत बोले- यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला, सरकार ने किया विश्वासघात ◾लोकसभा में कांग्रेस सांसदों ने फाड़े पर्चे, अनुराग ठाकुर बोले- सदन की इज्जत को तार-तार क्यों कर रहा है विपक्ष ◾नीतीश ने बाराबंकी हादसे पर जताया दुख, मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये मुआवजे का किया ऐलान ◾एंटनी ब्लिंकन ने अजित डोभाल के साथ की बातचीत, दोनों देशों के द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर हुई चर्चा ◾किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना पर बोले मोदी- स्थिति पर केंद्र की कड़ी निगरानी, शाह ने राज्यपाल, DGP से की बात ◾पेगासस केस को लेकर विपक्ष के तेवर तीखे, कांग्रेस समेत 14 दलों ने सरकार को घेरने की रणनीति पर की चर्चा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पांच राज्यों में संपन्न हुए चुनावों के दौरान कमियों की पहचान के लिए चुनाव आयोग ने बनाई ‘कोर कमेटी

निर्वाचन आयोग ने हाल में संपन्न पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के दौरान मिले अनुभवों और कमियों को चिह्नित करने के लिए एक कमेटी बनाने का फैसला किया है। पिछले दिनों पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव संपन्न हुआ था।

‘कोर कमेटी’ को निर्वाचन आयोग के नियामकीय शासन में कमियों और राज्य मुख्य निर्वाचन अधिकारियों तथा जिला अधिकारियों के स्तर पर क्रियान्वयन में अंतराल की पहचान करने का काम सौंपा गया है। बृहस्पतिवार को जारी एक बयान के मुताबिक, कमेटी कानूनी और नियामकीय ढांचे को मजबूत करने की जरूरत पर भी गौर करेगी ताकि आयोग कोविड-19 संबंधी नियमों समेत सभी दिशा-निर्देशों का प्रभावी तरीके से पालन सुनिश्चित करा सके।

निर्वाचन आयोग को आरोपों का सामना करना पड़ा कि वह चुनाव प्रचार के दौरान कोविड-19 के नियमों का पालन करवाने में नाकाम रहा। आरोपों को खारिज करते हुए आयोग ने कहा था कि उसने प्रचार की अवधि घटाकर कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए अपनी संवैधानिक शक्तियों का इस्तेमाल किया और उल्लेख किया कि आपदा प्रबंधन कानून के प्रावधानों को लागू करना राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) की जिम्मेदारी है।

‘कोर कमेटी’ निष्पक्ष चुनाव के लिए व्यय प्रबंधन नियमन को मजबूत करने के लिए उपायों पर भी गौर करेगी। बयान में कहा गया कि कोर कमेटी की सिफारिशों से निर्वाचन आयोग को आगामी चुनावों के लिए आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। निर्वाचन आयोग के महासचिव उमेश सिन्हा की अध्यक्षता वाली ‘कोर कमेटी’ को एक महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है।