BREAKING NEWS

ममता ने PM मोदी को खत लिख सबके लिए टीके खरीदने में मदद मांगी ◾सिर्फ मोटेरा स्टेडियम का नामकरण मोदी पर हुआ, परिसर पटेल के ही नाम पर रहेगा : सरकार ◾मोटेरा स्टेडियम का नाम PM मोदी के नाम पर रखना उनकी दूरदृष्टि को सम्मान देने का प्रयास : जे पी नड्डा ◾CM योगी आदित्यनाथ से नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने मुलाकात की ◾दिल्ली के सरकारी स्कूलों में 8वीं तक के छात्रों को नहीं देनी होगी परीक्षा : शिक्षा निदेशालय ◾एसकेएम राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, गिरफ्तार किसानों की बिना शर्त रिहाई की मांग की ◾25 फरवरी को पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे जे पी नड्डा , कई कार्यक्रमों में करेंगे शिरकत ◾स्टेडियम का नाम बदलने को लेकर राहुल का केंद्र पर तंज, कहा- नरेंद्र मोदी स्टेडियम में एक अडाणी छोर- रिलायंस छोर ◾राजनाथ सिंह को मिले किसानों से बात करने की आजादी, तो हो जाएगा सम्मानजनक फैसला : नरेश टिकैत◾भारत और चीन की सीमा पर सैनिकों का पीछे हटना दोनों पक्षों के लिए लाभकारी : थल सेना प्रमुख ◾'बनावटी' जानकारी वाले नेता है राहुल, भारतीयों का अपमान करना पसंदीदा शगल है : जावड़ेकर ◾इशांत को 100वें टेस्ट की उपलब्धि मैच में राष्ट्रपति और गृहमंत्री द्वारा सम्मान के साथ मिला ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ ◾सरकार का काम व्यवसाय करना नहीं, उसका ध्यान जन कल्याण पर होना चाहिए : PM मोदी ◾अक्षर की जादुई फिरकी के आगे ढेर हुई रुट कंपनी, पहली पारी में महज 112 रन पर सिमटा इंग्लैंड ◾CM योगी का राहुल का तीखा हमला- देश को इतना खतरा आतंकवादियों से नहीं जितना ऐसी मानसिकता से है ◾1 मार्च से होगा शुरू कोरोना वैक्सीन का दूसरा चरण, 60 साल से अधिक उम्र वालों को लगेगा टीका◾ममता बनर्जी ने PM मोदी को बताया सबसे बड़ा दंगाबाज,कहा- उनकी किस्मत डोनाल्ड ट्रंप से भी बुरी होगी◾नरेंद्र मोदी स्टेडियम के नाम से जाना जायेगा मोटेरा स्टेडियम, अमित शाह ने खासियतें बताते हुए किये ये ऐलान ◾गिरिराज का राहुल पर तंज, जो काम आपके नाना जी से नहीं हुआ, वो PM मोदी ने किया ◾विश्व के सबसे बड़े मोटेरा स्टेडियम का रामनाथ कोविंद ने किया उद्घाटन, भारत-इंग्लैड के बीच आज होगा मैच ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद्र के वार्ता प्रस्ताव पर किसान नेताओं ने उठाए सवाल, रक्षा मंत्री करेंगे बातचीत की अगुवाई

नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमा पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने केन्द्र के वार्ता के प्रस्ताव पर चर्चा करने के लिए मंगलवार को एक बैठक बुलाई है। कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने सोमवार को कोविड-19 और ठंड का हवाला देते हुए किसान संगठनों के नेताओं को तीन दिसम्बर की बजाय मंगलवार को ही बातचीत के लिए बुलाया था।

इस बीच मिली जानकारी के अनुसार  केंद्र सरकार किसान संगठनों से आज दोपहर तीन बजे बातचीत करेगी। वहीं केंद्र सरकार की ओर से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह इस बैठक की अगुवाई करेंगे। इस दौरान उनके साथ कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर समेत कृषि मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

पंजाब किसान संघर्ष कमेटी के ज्वाइंट सेक्रेटरी सुखविंदर एस. सभ्रान ने कहा कि देश में करीब 500 किसान संगठन आज कृषि कानून पर आवाज उठा रहे हैं, लेकिन सरकार ने 32 संगठनों को ही बातचीत के लिए बुलाया है। उन्होंने कहा कि जब तक सभी को नहीं बुलाया जाएगा, हम नहीं जाएंगे। दूसरी ओर भारतीय किसान यूनियन ने कहा कि वो सभी संगठनों से बात करने के बाद ही सरकार से बातचीत करने का सोचेंगे।

किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी पंजाब के महासचिव ने कहा कि कल देर रात सरकार से चिट्ठी आई जिसमें पंजाब के 32 किसान संगठनों को बातचीत का न्योता दिया गया। देश के सभी संगठनों को बुलावा नहीं भेजा गया,ये देश के किसानों में फूट डालने वाली बात है। हमने बैठक में नहीं जाने का फैसला किया है। बातचीत से पहले प्रधानमंत्री जी ने फैसला सुना दिया है​ कि हमारे कृषि कानून बहुत बढ़िया हैं तो इस तरह के माहौल में बातचीत का अंदाजा हमें लग गया है। 

किसान नेता बलजीत सिंह महल ने कहा, ‘‘ केन्द्र का प्रस्ताव स्वीकार करें या नहीं, इस पर चर्चा के लिए हम आज एक बैठक कर रहे हैं।’’ केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ हजारों किसान दिल्ली से लगे सीमा बिंदुओं पर मंगलवार को लगातार छठे दिन डटे हैं। किसानों को आशंका है कि इन कानूनों के कारण न्यूनतम समर्थन मूल्य समाप्त हो जाएगा।

तोमर ने सोमवार को कहा था, ‘‘ कोविड-19 और ठंड के मद्देनजर, हमने किसान संगठनों के नेताओं को पूर्वनिर्धारित तीन दिसम्बर की बैठक से पहले चर्चा के लिए आमंत्रित किया है।’’ उन्होंने बताया कि अब यह बैठक एक दिसम्बर को राष्ट्रीय राजधानी स्थित विज्ञान भवन में अपराह्न तीन बजे बुलायी गयी है।

उन्होंने बताया कि 13 नवम्बर को हुई बैठक में शामिल सभी किसान नेताओं को इस बार भी आमंत्रित किया गया है। किसानों ने सोमवार को कहा था कि वे ‘‘निर्णायक लड़ाई’’ के लिए दिल्ली आए हैं और साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री से उनकी ‘‘मन की बात’’ सुनने की अपील की थी। उन्होंने कहा कि उनकी मांगें पूरी होने तक वे अपना आंदोलन जारी रखेंगे।

कृषि कानून : दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन में शामिल होने वाले किसानों की संख्या बढ़ी, पुलिस ने सुरक्षा बढ़ाई