BREAKING NEWS

आज का राशिफल (23 अप्रैल 2021)◾युवा विश्व चैंपियनशिप में भारत की सात महिला मुक्केबाजों को स्वर्ण ◾भारत में एक दिन में सर्वाधिक मामले, ऑक्सीजन आपूर्ति सुनिश्चित करने का केंद्र का राज्यों को निर्देश◾पडीक्कल के शतक और कोहली के अर्धशतक से रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर 10 विकेट से जीता ◾दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए तीन प्रशासनिक अधिकारी नियुक्त ◾महाराष्ट्र में कोविड-19 के 67,013 नए मामले, और 568 लोगों की मौत◾PM मोदी कोविड प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों संग करेंगे संवाद, डिजिटल माध्यम से बंगाल के मतदाताओं को करंगे संबोधित◾फाइजर ने की भारत में गैर-मुनाफे वाली कीमत पर कोविड वैक्सीन आपूर्ति की पेशकश◾ऑक्सीजन की आपूर्ति पर कर रहा हूं बारीकी से निगरानी, अन्य राज्यों को कोटे के अनुसार आपूर्ति की जा रही : CM खट्टर◾उत्तर प्रदेश : कोरोना से पिछले 24 घंटे में 195 मरीजों ने तोड़ा दम, 34379 नए मामले की पुष्टि◾कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर हरियाणा में शाम छह बजे तक सभी दुकानें बंद करने का आदेश ◾लॉकडाउन में युवक ने जताई गर्लफ्रेंड से मिलने की इच्छा, मुंबई पुलिस की हाजिरजवाबी ने जीता दिल ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ऑक्सीजन के निर्बाध उत्पादन, आपूर्ति के लिए आपदा प्रबंधन कानून लागू किया ◾PM मोदी ने कोविड-19 के कारण रद्द कीं बंगाल में होने वाली सभी चुनावी रैलियां, कोरोना के हालात पर करेंगे बैठक ◾केंद्र सरकार के पास पीएम केयर्स फंड में पर्याप्त धन, लेकिन मुफ्त टीका उपलब्ध नहीं करायेगी : ममता ◾अमित शाह का TMC पर प्रहार - ममता के वोट बैंक और अवैध प्रवासी बंगाल में हैं असली बाहरी◾देशभर में ऑक्सीजन की कमी को लेकर मचा हाहाकार, प्रधानमंत्री मोदी ने की उच्च स्तरीय बैठक◾सोशल मीडिया पर राहुल गांधी ने दिया सन्देश - हम वायरस को हराएंगे, फिर से गले मिलेंगे◾मनीष सिसोदिया बोले- राजधानी के कई अस्पतालों में ऑक्सीजन हुई खत्म, केंद्र से की ये मांग ◾ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए सरोज सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल ने दिल्ली HC का खटखटाया दरवाजा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

MSME के लिए 3 करोड़ रुपये की ऋण गारंटी योजना को लेकर वित्त मंत्री सीतारमण ने समीक्षा बैठक की

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक प्रमुखों के साथ ऋण गारंटी योजना को लेकर समीक्षा बैठक की और उन्हें सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग क्षेत्र (एमएसएमई क्षेत्र) के लिये शुरू की गई तीन लाख करोड़ रुपये की आपात ऋण गारंटी योजना के तहत रिण वितरण का काम तेज करने को कहा। यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये हुई। इस दौरान वित्त मंत्री ने योजना के क्रियान्वयन में बैंकों द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सराहना की।

वित्त मंत्रालय के तहत आने वाले वित्तीय सेवाओं के विभाग ने इस बारे में जारी एक ट्वीट में कहा, ‘‘माननीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने आपात ऋण गारंटी सुविधा योजना (ईसीएलजीएस) के तहत 20,000 करोड़ रुपये का कर्ज मंजूर किये जाने पर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की सराहना की। इसके ससाथ ही उन्होंने बैंकों को अपनी शाखाओं के स्तर पर योजना को लेकर सक्रिय रहने और कर्ज के लिये फार्म को सरल तथा औपचारिकताओं को कम से कम रखने की सलाह दी।’’

इसमें कहा गया, ‘‘सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक योजना को लेकर पात्र एमएसएमई तक अपनी पहुंच बनाये हुये हैं और उन्हें ऋण मंजूर करने पर लगातार ध्यान दे रहे हैं। इसके साथ ही बैंक दूसरे कारोबारियों की ऋण जरूरतों के लक्ष्यों को भी पूरा कर रहे हैं।’’ इससे पहले दिन में मंत्रालय ने आठ जून तक अलग अलग क्लस्टर को मंजूरी किये गये कर्ज के बारे में आंकड़े जारी किये। मंत्रालय के ट्वीट में कहा गया, ‘‘आठ जून 2020 की स्थिति के अनुसार 12 राज्याके एमएसएमई केन्द्रों को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने 1,109.03 करोड़ रुपये का कर्ज मंजूर किया। यह ऋण सरकार के विशेष आर्थिक पैकेज के तहत एमएसएमई के लिये 100 प्रतिशत आपात रिण सुविधा गारंटी योजना के तहत मंजूरी किया गया। इसमें से 17,904 खातों में 599.12 करोड़ रुपये का कर्ज वितरित भी कर दिया गया है। ’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत यह सबसे बड़ी वित्तीय घोषणा है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पैकेज के बारे में पांच किस्तों में विस्तृत जानकारी पिछले महीने दी। इसके बाद 21 मई को केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने एमएसएमई क्षेत्र के लिये ईसीएलजीएस के जरिये 9.25 प्रतिशत की रियायती दर पर तीन लाख करोड़ रुपये तक के अतिरिक्त वित्तपोषण को मंजूरी दे दी। योजना के तहत कर्ज पर राष्ट्रीय ऋण गारंटी ट्रस्टी कंपनी (एनसीजीटीसी) की तरफ से 100 प्रतिशत गारंटी की सुविधा होगी। इसके लिये सरकार ने 41,600 करोड़ रुपये का कोष उपलब्ध कराया जायेगा। यह कोष इस वित्त वर्ष और अगले तीन वित्तीय वर्षों के लिये होगा।