BREAKING NEWS

शिवसेना नागरिकता संशोधन विधेयक का करेगी समर्थन: संजय राउत ◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले पर बुधवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾कर्नाटक उपचुनाव : कांग्रेस नेता शिवकुमार ने मानी हार, बोले-लोगों ने दलबदलुओं को किया स्वीकार◾विभाजनकारी चालक के साथ कैब की सवारी है ‘कैब’ विधेयक: कपिल सिब्बल ◾शिवसेना ने केंद्र पर लगाया हिंदुओं-मुसलमानों का ‘अदृश्य विभाजन’ करने का आरोप◾कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का जन्मदिन आज, PM मोदी समेत कई नेताओं ने दी बधाई◾दिल्ली: अनाज मंडी में 24 घंटे बाद फिर लगी इमारत में आग, मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ियां◾कर्नाटक उपचुनाव : येदियुरप्पा का दावा- भाजपा जीतेगी 15 में से 13 सीटें◾कर्नाटक उपचुनाव : मतगणना जारी, परिणाम तय करेंगे BJP का भविष्य ◾असम में नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ 16 संगठनों का मंगलवार को बंद का आह्वान ◾दिल्ली : आग की त्रासदी के बाद अस्पताल में भयावह दास्तां ◾दिल्ली अग्निकांड : दमकलकर्मी ने इमारत में फंसे 11 लोगों को बचाया ◾दिल्ली अग्निकांड : इमारत का पिछले हफ्ते हुआ था सर्वेक्षण, ऊपरी मंजिलों पर ताला लगा हुआ था - अधिकारिक सूत्र◾नागरिकता संशोधन विधेयक सोमवार को लोकसभा में पेश करेंगे शाह◾प्रियंका गांधी वाड्रा ने UP में त्वरित सुनवायी अदालत के गठन में देरी पर सवाल उठाया ◾भाजपा ने अपने सांसदों के लिए व्हिप किया जारी , 11 दिसंबर तक सदन में रहें मौजूद ◾तिरुवनंतपुरम टी-20 : शिवम के अर्धशतक पर भारी सिमंस की पारी, विंडीज ने की बराबरी◾मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों, जम्मू-कश्मीर व लद्दाख को सर्वोच्च प्राथमिकता दी : जितेंद्र सिंह ◾PM मोदी ने महिलाओं को सुरक्षित महसूस कराने में प्रभावी पुलिसिंग की भूमिका पर जोर दिया ◾भाजपा 2022 के मुंबई नगर निकाय चुनाव अकेले लड़ेगी ◾

देश

GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने को लेकर वित्त मंत्री ने की बैठकें

 nirmala sitharaman congress

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) फॉर्म को और सरल बनाने और इसे दाखिल करने की प्रक्रिया को सुगम बनाने के लिए चार्टर्ड अकाउंटेट्स, व्यापारियों और अन्य अंशधारकों के साथ बैठकें की। 

जीएसटी दाखिल करने में आ रही परेशानियों को दर्शाने के लिए अंशधारकों ने बैठक के दौरान ही तत्काल आधार पर रिटर्न दाखिल करके दिखाया और बताया कि उन्हें किस तरह की दिक्कतें आती हैं। 

राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि वित्त मंत्री ने अंशधारकों को आश्वस्त किया कि जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सुगम करने के लिए उन्होंने जो सुझाव दिए हैं उनका जल्द क्रियान्वयन किया जाएगा। 

राजस्व सचिव ने बताया कि वित्त मंत्री ने अगले महीने देश के अन्य शहरों में भी इस तरह की बैठकें आयोजित करने का सुझाव दिया है जिससे इस मुद्दे को समझा जा सके और जीएसटी दाखिल करने वाली चिंताओं को दूर किया जा सके। 

उन्होंने कहा कि एक सर्किल के आयुक्त कुछ जीएसटी दाखिल करने वालों को बुलाएंगे, जो रिटर्न दाखिल करेंगे और सुझाव देंगे। इसके अलावा यह भी निर्णय किया गया है कि जीएसटीएन और सीबीआईएसी सात दिसंबर के बाद मिलते रहेंगे और लगातार चर्चा करेंगे। इसमें प्रणाली में लगातार चर्चा से और सुधार किया जा सकता है। 

उन्होंने कहा कि नया जीएसटी रिटर्न फार्म पोर्टल पर परीक्षण के लिए उपलब्ध होगा और सात दिसंबर को देशभर में इस पर विचार विमर्श किया जाएगा। इसके जरिये नयी प्रणाली पर प्रतिक्रिया ली जाएगी। पांडेय ने कहा कि इसमें अब तक स्वैच्छिक आधार पर 85,000 रिटर्न दाखिल किए गए हैं, जबकि नया फॉर्म एक अप्रैल, 2020 से अनिवार्य होना है। 

जीएसटी फार्म भरने की प्रक्रिया में आने वाली चिंताओं को दूर करने के प्रयास के तहत वित्त मंत्री ने राजस्थान कर सलाहकार एसोसियेसंस, आईसीएआई, कैट और लघु उद्योग भारती को आमंत्रित किया था। उन्होंने वित्त मंत्री के समक्ष ही कुछ खास रिटर्न को दाखिल करने का प्रयास किया और उसमें आने वाली समस्या को स्पष्ट किया। 

इस बैठक में सीबीआईसी के चेयरमैन, जीएसटीएन के सीईओ, सदस्य (कर नीति) सीबीआईसी, एएस (राजस्व) संयुक्त सचिव (राजस्व) आदि मौजूद थे।