BREAKING NEWS

दिल्ली : हैवानियत का शिकार हुआ मासूम हारा जिंदगी की जंग, LNJP अस्पताल में 14 दिन बाद मौत◾कोविड19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना संक्रमण के 3,805 नए मामले दर्ज़, 26 मरीजों मौत ◾अजब प्रेम की गज़ब कहानी : पाकिस्तान की लड़की हुई नौकर से मोब्बत, कहा- प्यार अमीर-गरीब नहीं देखता ◾उत्तराखंड : केदारनाथ मंदिर के पास खिसका बर्फ का पहाड़, देखें Video◾LPG Price Update : 25.5 रुपए की कटौती के साथ सस्ता हुआ कमर्शियल LPG गैस सिलेंडर◾मल्लिकार्जुन खड़गे के समर्थन में उतरे गहलोत, जानिए अध्यक्ष पद चुनाव को लेकर क्या कहा ◾आखिरकार क्यों अध्यक्ष पद चुनाव से कटा दिग्विजय सिंह का पत्ता? जानिए हाईकमान ने खड़गे के नाम पर कैसे लगाई मुहर◾आज का राशिफल (01 अक्टूबर 2022)◾RSS चीफ ने चीन , अमेरिका पर साधा निशाना , कहा - महाशक्तियां दूसरे देशों की स्वार्थी तरीके से मदद करती हैं◾T20 World Cup : 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगा भारत◾PM मोदी ने देरी से पहुंचने की वजह से जनसभा को नहीं किया संबोधित◾PM मोदी ने दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने पर आशा पारेख को दी बधाई ◾तरंगा-आबू रोड रेल लाइन की योजना 1930 में बनाई गई थी लेकिन दशकों तक ठंडे बस्ते में पड़ी रही : PM मोदी◾पुतिन ने यूक्रेन के इलाकों को रूस का हिस्सा किया घोषित , कीव और पश्चिमी देशों ने किया खारिज , EU ने कहा -कभी मान्यता नहीं देंगे ◾आखिर ! क्या होगा सोनिया का फैसला ?, अब सब की निगाहें राजस्थान पर◾PM मोदी ने अंबाजी मंदिर में प्रार्थना की, गब्बर तीर्थ में ‘महा आरती’ में हुए शामिल◾Maharashtra: महाराष्ट्र में कोविड-19 के 459 नए मामले, 5 मरीजों की मौत◾शाह के दौरे से पहले कश्मीर को दहलाना चाहते थे आतंकी, सुरक्षाबलों ने बरामद किया जखीरा ◾भाजपा ने थरूर को घोषणापत्र में भारत का विकृत नक्शा दिखाने पर लिया आड़े हाथ, जानें क्या कहा ... ◾कार्यकर्ताओं से थरूर का वादा - बंद करूंगा एक लाइन की पंरपरा, क्षत्रपों को दूंगा बढ़ावा ◾

9वीं बार किसी पार्टी ने लोकसभा में छुआ 300 का आंकड़ा !

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लोकसभा चुनाव में 300 सीटें जीतना देश के चुनावी इतिहास की 9वीं घटना है। संसद के 543 सदस्यीय निचले सदन लोकसभा में भाजपा पहले ही 303 सीटें जीत चुकी है । लोकसभा की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, आजादी के बाद 1952 में पहली बार लोकसभा के चुनाव हुए थे, जिसमें कांग्रेस ने तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नेतृत्व में 543 सीटों में से 398 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इसके बाद नेहरू ने 1957 और 1962 में फिर एक और बार यह कारनामा दोहराया। 

जब उन्हें 1957 में 537 में से 395 सीटें हासिल हुईं और 1962 में 540 सीटों में से 394 सीटें उन्होंने जीती। 1967 में इंदिरा गांधी के नेतृत्व में, कांग्रेस ने 553 में से 303 सीटें जीती थी। 1971 में इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली पार्टी ने 553 सीटों में से 372 सीटें जीतकर दो-तिहाई बहुमत प्राप्त किया था। 1977 में जब आपातकाल के बाद छठी लोकसभा का चुनाव हुआ तो चार कांग्रेस विरोधी दलों के विलय से बनी जनता पार्टी ने उस समय 557 में से 302 सीटें जीतीं।

हालांकि यह सरकार अस्थिर रही और 1980 में नए सिरे से चुनाव हुए, जिसमें कांग्रेस 566 सदस्यीय लोकसभा में 377 सीटों के साथ फिर से सत्ता में आ गई। 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सहानुभूति लहर ने कांग्रेस को उनके बेटे राजीव गांधी के नेतृत्व में 567 सीटों में से 426 सीटें मिली थीं। 1989 से 2014 के बीच तक कोई भी पार्टी अकेले अपने दम पर विजेता के रूप में नहीं उभरी और सभी सरकारें गठबंधन के साथ बनीं।