BREAKING NEWS

अशोक गहलोत का कटेगा पत्ता? कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर संशय◾आज का राशिफल (29 सितंबर 2022)◾दिग्विजय बनाम थरूर की ओर बढ़ रहा कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव◾दिल्ली पहुंचे गहलोत ने सोनिया के नेतृत्व को सराहा व संकट सुलझने की जताई उम्मीद ◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की सुनील छेत्री की सराहना◾टाट्रा ट्रक भ्रष्टाचार मामले में पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी से की गई जिरह◾PFI से पहले RSS पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए था - लालू◾IND vs SA (T20 Match) : भारत ने पहले टी20 मैच में दक्षिण अफ्रीका को 8 विकेट से हराया◾Ukraine crisis : यूक्रेन संकट का स्वरूप अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए ‘घोर चिंता’ का विषय - भारत◾Uttar Pradesh: फरार नेता हाजी इकबाल की अवैध खनन से अर्जित करोड़ों की सम्पत्ति कुर्क◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव : प्रियंका संभाले पार्टी की कमान, सांसद खालिक ने दिया बेतुका तर्क ◾सीडीएस नियुक्ति :चौहान ने सर्जिकल स्ट्राइक में निभाई थी अहम भूमिका, रिटायर होने के बाद भी केंद्र ने सौंपी जिम्मेदारी ◾महंगाई की जड़ 'मोदी'! कांग्रेस का BJP पर कटाक्ष- केंद्र की दमन नीतियों के कारण गरीब का हो रहा शोषण ◾रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान होंगे देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ◾पाकिस्तान में चीनी नागरिक की हत्या, डेंटल क्लीनिक में मरीज बनकर दाखिल हुआ था हमलावर ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा संगठन पर प्रतिबंध लगाने के निर्णय को स्वीकार करते है: PFI ◾पीएम मोदी ने कहा- 80 करोड़ लोगों को गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार से मिलेगा फायदा◾गुजरात विधानसभा चुनाव : हीरा कारोबारी ने जॉइन की बीजेपी, पूर्व में कर्मचारियों को 'आप' से दूर रहने के लिए कहा था ◾Gold today Price: खुशखबरी-खुशखबरी! त्यौहारों से पहले सस्ता हुआ सोना, फटाफट इतने में खरीदे 10gm Gold ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में दिग्विजय सिंह की एंट्री, मुकाबला कड़ा होने की आशंका ◾

पहली बार देश में पुरूषों की अपेक्षा महिलाओं की आबादी ज्यादा

भारत में पहली बार पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या ज्यादा हो गई है. राष्ट्रीय परिवार और स्वास्थ्य सर्वेक्षण  के अनुसार, देश में 1000 पुरुषों पर 1020 महिलाएं हो गई हैं। आजादी के बाद पहली बार ये रिकॉर्ड बना है जब पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं की आबादी 1000 से अधिक हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि लिंगानुपात 1000 को पार कर जाने के साथ ही हम कह सकते हैं कि भारत विकसित देशों के समूह में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि इसका श्रेय महिला सशक्तिकरण के लिए किए गए उपायों जैसे वित्तीय समावेश और लैंगिक पूर्वाग्रह तथा असमानताओं से निपटने आदि को है।

जन्म के समय का लिंगानुपात भी 2019-20 में 929 हो गया जो 2015-16 में 919 था। यह उठाए गए विभिन्न कदमों और संबंधित कानूनों के प्रभावी कार्यान्वयन के सकारात्मक प्रभाव को दर्शाता है।वर्ष 2005-06 में कराए गए राष्ट्रीय परिवार और स्वास्थ्य सर्वेक्षण -3 में यह अनुपात 1000:1000 था जो 2015-16 (एनएचएफएस-4) में घटकर 991:1000 पर आ गया था।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत एवं 14 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए जनसंख्या, प्रजनन और बाल स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, पोषण और अन्य विषयों के प्रमुख संकेतकों से जुड़े तथ्य एनएफएचएस -5 के चरण दो के तहत 24 नवंबर को जारी किए।पहले चरण में शामिल 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए एनएफएचएस-5 के तथ्य दिसंबर, 2020 में जारी किए गए थे। एनएफएचएस-5 के अनुसार, देश में 88.6 प्रतिशत जन्म (सर्वेक्षण से पहले के पांच साल में) अस्पताल में हुए। अधिकारियों ने कहा कि एनएफएचएस -4 (78.9 प्रतिशत) के बाद से महत्वपूर्ण वृद्धि इस बात का प्रमाण है कि भारत सार्वभौमिक संस्थागत जन्म की ओर बढ़ रहा है।

सर्वेक्षण के निष्कर्षों में कहा गया है कि देश में कुल प्रजनन दर (प्रति महिला बच्चे) प्रजनन क्षमता के ‘प्रतिस्थापन’ स्तर पर पहुंच गई है, जो एक महत्वपूर्ण जनसांख्यिकीय उपलब्धि है। 2015-16 में कुल प्रजनन दर 2.2 थी जो 2019-21 में प्रति महिला 2.0 बच्चों तक पहुंच गयी है। इसका मतलब है कि महिलाएं अपने प्रजनन काल में पहले की तुलना में कम बच्चों को जन्म दे रही हैं। मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि यह परिवार नियोजन सुविधाओं के बेहतर उपयोग, देर से विवाह आदि को भी इंगित करता है। इसके साथ ही पांच साल से कम उम्र के बच्चों के लिए जन्म पंजीकरण बढ़कर 89.1 प्रतिशत हो गया है जो 2015-16 में 79.7 प्रतिशत था।