BREAKING NEWS

देश में कोरोना केस में उतार-चढ़ाव का सिलसिला जारी, पिछले 24 घंटे में 29961 नए मामलों की पुष्टि ◾बापू की तुलना राखी सांवत से करने पर विवादों में घिरे UP विधानसभा अध्यक्ष, देर रात ट्वीट कर देनी पड़ी सफाई ◾विश्व में कोरोना के मामलों का आंकड़ा 22.84 करोड़ से अधिक, अबतक 46.9 लाख से ज्यादा लोगों की हुई मौत◾तालिबान ने फिर से जारी किया नया फरमान, महिला कर्मचारियों को घर पर ही रहने का दिया आदेश ◾पंजाब : चरणजीत सिंह चन्नी आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ, कई नेता समारोह में होंगे शामिल ◾पंजाब में दलित मुख्यमंत्री बनाने के साथ कांग्रेस का लक्ष्य यूपी और उत्तराखंड◾सऊदी विदेश मंत्री के साथ अफगानिस्तान पर विचारों का ‘बहुत उपयोगी’ आदान प्रदान हुआ - जयशंकर◾BJP ने चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री चुनने पर कांग्रेस पर निशाना साधा◾कांग्रेस नेताओं को पंजाब की उथल-पुथल के अन्य जगहों पर भी असर होने की आशंका◾RSS चीफ ने प्रशासन में संघ के हस्तक्षेप के आरोपों को किया खारिज ◾CSK vs MI : गायकवाड़ और गेंदबाजों ने सुपरकिंग्स को दिलाई जीत◾आईपीएल 2021 के बाद आरसीबी की कप्तानी छोड़ेंगे कोहली◾चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री चुने जाने पर बीजेपी ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा- बहुत बढ़िया राहुल ◾चरणजीत सिंह चन्नी को राहुल और अमरिंदर ने दी बधाई, बोले- उम्मीद करता हूं कि पंजाब को सुरक्षित रख सकेंगे◾UP : सलमान खुर्शीद बोले- आगामी चुनाव में जनता नफरत और बंटवारे की राजनीति करने वालों को घर बिठाएगी◾पंजाब के राज्यपाल से मिले चरणजीत सिंह चन्नी, कल सुबह 11 बजे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ◾चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾

फलस्तीन की नाराजगी पर विदेश मंत्रालय ने दिया जवाब - भारत का रुख नया नहीं है, पहले भी रहा है अनुपस्थित

विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि गाजा हिंसा जांच संबंधी प्रस्ताव पर मतदान के दौरान संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग (यूएनएचआरसी) में भारत के अनुपस्थित रहने का रुख नया नहीं है और पहले भी वह अनुपस्थित रहा है ।

विदेश मंत्रालय (एमईए) के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने डिजिटल माध्यम से साप्ताहिक प्रेस वार्ता में यह बात कही । उनसे फलस्तीन के विदेश मंत्री रियाद माल्की द्वारा गाजा हिंसा पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग में मतदान के दौरान भारत की अनुपस्थिति को लेकर विदेश मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखे जाने के संबंध में सवाल किया गया था ।

बागची ने कहा कि फलस्तीन ने उन सभी देशों को ऐसा ही पत्र लिखा है जो इस मामले में अनुपस्थित रहे थे । उन्होंने कहा, ‘‘ फलस्तीन ने उन सभी देशों को ऐसा ही पत्र लिखा है जो इस मामले में अनुपस्थित रहे । हमने जो रुख अख्तियार किया, वह नया नहीं है । हम पहले भी अनुपस्थित रहे थे । मैं समझता हूं कि यह हमारे रुख को स्पष्ट करता है और इस बारे में सवालों का जवाब भी है । ’’

इस पर चिंता व्यक्त करते हुए फलस्तीन के विदेश मंत्री रियाद माल्की ने जयशंकर को पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत ने जवाबदेही, न्याय और शांति की राह पर इस महत्वपूर्ण अवसर पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ शामिल होने का अवसर खो दिया । गौरतलब है कि गाजा में इजराइल और हमास के बीच 11 दिन तक चले संघर्ष के दौरान कथित उल्लंघनों एवं अपराधों की जांच शुरू करने के संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के प्रस्ताव पर पिछले सप्ताह मतदान से 13 अन्य देशों के साथ भारत अनुपस्थित रहा था।

संयुक्त राष्ट्र के इस 47 सदस्यीय निकाय के जिनेवा स्थित मुख्यालय में पिछले बृहस्पतिवार को बुलाए गए विशेष सत्र की समाप्ति पर यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया गया क्योंकि 24 देशों ने इसके पक्ष में वोट डाला जबकि नौ ने इसका विरोध किया।आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, भारत ने समूह के 13 अन्य सदस्य राष्ट्रों के साथ मतदान से खुद को अलग रखा। चीन और रूस ने इसके पक्ष में मतदान किया।

जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र के लिए भारत के स्थायी प्रतिनिधि इंद्र मणि पांडे ने विशेष सत्र में कहा था कि भारत गाजा में इजराइल और सशस्त्र समूह के बीच संघर्ष विराम में सहयोग देने वाले क्षेत्रीय देशों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय के कूटनीतिक प्रयासों का स्वागत करता है।उन्होंने कहा था, “भारत सभी पक्षों से अत्यधिक संयम बरतने और उन कदमों से गुरेज करने की अपील करता है जो तनाव बढ़ाते हों और ऐसे प्रयासों से परहेज करने को कहता है जो पूर्वी यरूशलम और उसके आस-पड़ोस के इलाकों में मौजूदा यथास्थिति को एकतरफा तरीके से बदलने के लिए हों।”

पांडे ने कहा था कि भारत इस बात से पूरी तरह सहमत है कि क्षेत्र में उत्पन्न स्थितियों और वहां के लोगों की समस्याओं के प्रभावी समाधान के लिए वार्ता ही एकमात्र विकल्प है।