BREAKING NEWS

BJP ने कांग्रेस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों को उकसाने का आरोप लगाया ◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : योगेन्द्र यादव, टिकैत, पाटकर सहित 37 किसान नेताओं के खिलाफ नामजद प्राथमिकी ◾राजनाथ ने अमेरिका के नये रक्षा मंत्री ऑस्टिन से क्षेत्रीय, वैश्विक मुद्दों पर बात की ◾बंगाल विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शुरू, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल ◾हिंसा में शामिल थे किसान नेता, शर्तों को नहीं मानकर किया विश्वासघात : पुलिस कमिश्नर◾केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस,1 फरवरी से खुलेंगे सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल◾आप नेता राघव चड्डा ने हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा, लगाए कई गंभीर आरोप◾दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

गाजियाबाद है देश का सबसे गंदा शहर, जानिए क्यों ?

नई दिल्ली : केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश का गाजियाबाद देश का सबसे गंदा शहर है। इसे प्रदूषण के मामले में पहला ​स्थान दिया गया है। राजधानी दिल्ली चौथे नंबर है। टॉप 10 शहरों में उत्तर प्रदेश के चार शहर शामिल हैं। राजस्थान का जयपुर 10वें नंबर पर है।

Source

10  सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर सीपीसीबी की ये रिपोर्ट पिछले तीन साल की निगरानी के आधार पर तैयार की गई है। इसके मुताबिक 94 शहरों में पीएम10 तेजी से बढ़ रहा है। इन शहरों में गाजियाबाद पहले नंबर पर है। रिपोर्ट के अनुसार पीएम-10 के हिसाब से सबसे ज्यादा प्रदूषित 10 शहरों में गाजियाबाद के बाद इलाहाबाद, बरेली, दिल्ली, कानपुर, फिरोजाबाद, आगरा, अलवर, गजरौला, जयपुर शामिल हैं।

Source

क्या हैं कारण बता दें कि धुंआ पीएम10 के इंडेक्स को सबसे ज्यादा बढ़ाता है। भवन निर्माण से उड़ने वाली धूल इसके मुख्य कारण होते हैं। हालांकि, गाजियाबाद में इसके अलावा भी कुछ और कारण मौजूद हैं।

Source

गाजियाबाद के सबसे अधिक प्रदूषित होने का कारण इसका इं​डस्ट्रियल इ​लाका होना बताया जा रहा है। यहां हजारों की तादाद में फैक्ट्रियां जो बड़ी मात्रा में धुआं छोड़ती हैं। इनमें चिमनियों से निकलने वाला धुंआ वातावरण को बहुत नुकसानदायक होता है।

गाड़ियों से निकलने वाला धुंआ

Source

इसके अलावा गाड़ियों से निकलने वाला धुंआ भी पीएम10 बढ़ने का एक बड़ा कारण है। दरअसल, गाजियाबाद से कई राज्यों के लिए रास्ते निकलते हैं। यहां से तीन नेशनल हाईवे निकलते हैं। बड़ी संख्या में गाड़ियां यहां से होकर निकलती हैं। गाजियाबाद से होते हुए तीन नेशनल हाईवे निकलते हैं...

  •  नेशनल हाईवे- 24
  •  नेशनल हाईवे- 58
  •  नेशनल हाईवे- 92

इन हाईवे से होते हुए उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, और ओडिशा जैसे राज्यों में जाने की लिए गाजियाबाद से ही होकर गुजरना पड़ता है। यानि मतलब साफ है. गाजियाबाद में प्रदूषण बढ़ने का सबसे सबसे बड़ा कारण यहां से लगातार गुजरने वाली गाड़ियां हैं। अगर दिल्ली की बात करें तो दिल्ली में सीएनजी से चलने वाली बसें होती हैं। मगर गाजियाबाद में ज्यादातर बसें डीजल से चलने वाली होती हैं। वहीं गाजियाबाद के पास ही आनंदविहार बस अड्डे पर भी रोजाना ही देश के अलग-अलग राज्यों से सैकड़ों बसें आती-जाती रहती हैं।

हमने जब गाजियाबाद के प्रदूषण को लेकर एक्सपर्ट की राय जाननी चाही तो पोलाश मुकर्जी, रिसर्च एसोसिएट, CSE का कहना था कि गाजियाबाद में प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण यहां से गुजरने वाले वाहन हैं। वहीं यहां कि फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुएं के कारण भी प्रदूषण बढ़ता है।

वहीं गाजियाबाद की मेयर आशु वर्मा का कहना है कि वे जानते हैं कि यहां प्रदूषण सबसे बड़ी समस्या बन गई है। मगर इसे रोकने के लिए अब वे गाजियाबाद में ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने वाले हैं। गाजियाबाद में जल्द ही मेट्रो सेवा भी शुरू होने वाली है. जिसके बाद ज्यादातर लोग कार को छोड़कर मेट्रो से ही सफर किया करेंगे।

Source

मगर गाजियाबाद में प्रदूषण बढ़ने का कारण सिर्फ यहां के इंड्रस्ट्रियल एरिया या फिर ये वाहन ही नहीं हैं। बल्कि यहां जमा होने वाली गंदगी भी यहां फैलने वाले प्रदूषण का मुख्य कारण दिखाई पड़ता है। अब जरूरत है कि गाजियाबाद में रहने वाले लोग भी कम से कम प्रदूषण करें ताकि गाजियाबाद प्रदूषण मुक्त हो सके।