BREAKING NEWS

यशवंत सिन्हा ने 22 से 25 नवंबर तक कश्मीर यात्रा की घोषणा की ◾TOP 20 NEWS 20 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस ने भाजपा-जजपा गठबंधन पर साधा निशाना, कहा- ज्यादा दिन तक नहीं चलेगी सरकार ◾INX मीडिया मामला : चिदंबरम की जमानत याचिका पर SC का ED को नोटिस ◾राज्यसभा में सीट बदले जाने पर भड़के संजय राउत, स्पीकर वेंकैया नायडू को लिखा पत्र ◾CM ममता का अमित शाह पर पलटवार, कहा- बंगाल में एनआरसी को नहीं लागू होने देंगे◾पूरे देश में लागू होगा NRC, किसी को भी डरने की जरूरत नहीं : अमित शाह◾ महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान के बीच NCP प्रमुख शरद पवार ने PM मोदी से की मुलाकात◾राज्यसभा में बोले शाह- जम्मू एवं कश्मीर में 5 अगस्त के बाद से नहीं हुई एक भी मौत ◾कांग्रेस ने राज्यसभा में फिर उठाया SPG सुरक्षा का मुद्दा, भाजपा ने दिया ये जवाब◾INX मीडिया केस: चिदंबरम की जमानत याचिका पर SC का ईडी को नोटिस, 26 नवंबर को होगी अगली सुनवाई◾JNU विवाद : दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर प्रदर्शन करने जा रहे नेत्रहीन छात्रों को थाने ले गई पुलिस◾महाराष्ट्र में सरकार बनाने की प्रक्रिया अगले 5-6 दिनों में हो जाएगी पूरी : संजय राउत◾सरकारी उपक्रमों को खोखला कर बेच रही है सरकार : प्रियंका गांधी◾राजनाथ सिंह ने क्रांजी युद्ध स्मारक का किया दौरा, द्वितीय विश्वयुद्ध में मारे गए लोगों को दी श्रद्धांजलि◾गांधी परिवार की SPG सुरक्षा हटाने के खिलाफ प्रदर्शन करेगी युवक कांग्रेस ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर दिल्ली में कांग्रेस-एनसीपी नेताओं की मुलाकात आज ◾PMC बैंक के खाताधारकों को बड़ी राहत, मेडिकल इमरजेंसी में 1 लाख रुपये तक निकाल सकेंगे◾सदन में रणनीति को लेकर कांग्रेस ने बुलाई लोकसभा सांसदों की बैठक, अध्यक्षता करेंगी सोनिया गांधी◾महाराष्ट्र : सरकार बनाने की राह में आदित्य को सीएम बनाने की मांग से बाधा ◾

देश

गुलाम नबी आजाद ने कश्मीर बातचीत को लेकर सरकार की नीयत पर जताया संदेह

गुलाम नबी आजाद ने जम्मू & कश्मीर में बातचीत की सरकार की ताजा पहल को लेकर उसकी नीयत पर संदेह व्यक्त करते हुए आज कहा कि इसका मकसद मात्र प्रचार हासिल करना है।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मोदी सरकार ने साढ़ तीन वर्ष बेकार कर दिये और अब कार्यकाल की समाप्ति पर बातचीत की पहल की है। इसके अलावा बातचीत की कोई समय सीमा भी निर्धारित नहीं की गयी है जिससे उसकी नीयत पर संदेह पैदा होता है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार साढ़ तीन वर्ष‘सख्ती बरतने‘की बात करती रही जबकि कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दल संसद के अंदर और बाहर आपसी विश्वास बहाली के उपाय करने तथा सभी पक्षकारों से बातचीत करने की सलाह दे रहे थे। सरकार ने यदि उनकी सलाह मानकर पहले ही यह निर्णय ले लिया होता तो सैंकडों जवानों और बेगुनाह नागरिकों की बेशकीमती जानें न जातीं तथा पेलेट गन से लोगों को आंखों की रोशनी नहीं गंवानी पड़ती।

कश्मीर मुद्दे को राजनीतिक मसला बताते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि इसका हल भी राजनीतिक तरीके से ही निकलेगा लेकिन सरकार को यह बात देर से समझ में आयी।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुप्तचर ब्यूरो के पूर्व प्रमुख दिनेश्वर शर्मा को जम्मू कश्मीर में सभी पक्षों से बातचीत के लिए केंद्र का प्रतिनिधि नियुक्त करने की कल घोषणा की थी।