BREAKING NEWS

खून की नदियां' जैसे बयान से किसे चुनौती दे रहा विपक्ष : अमित शाह◾Top 20 News 22-May : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत ने किया रिसैट-2बी का प्रक्षेपण, घने बादलों के बावजूद भी ले सकेगा पृथ्वी की तस्वीरें◾न्यायालय ने बैरकपुर सीट से भाजपा प्रत्याशी को 28 तक गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान किया◾विपक्ष हारा हुआ है, वीवीपैट मुद्दे पर हताशा उनकी हार का संकेत : पासवान◾हेलीकॉप्टर घोटाला : ईडी ने कथित रक्षा एजेंट के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र किया दायर◾वीवीपैट पर्चियों की गिनती की मांग किस आधार पर खारिज की गई : कांग्रेस◾नये सांसदों को आते ही मिलेगा स्थायी पहचान पत्र◾लोकसभा चुनाव 2019 : प्रज्ञा ठाकुर, आजम खान और मुनमुन सेन जैसे नेता अपने बयानों से सुर्खियों में छाये रहे◾VVPAT मिलान की प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं होगा : चुनाव आयोग◾लोकसभा चुनाव में 724 महिला उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला कल !◾एग्जिट पोल शेयर बाजार में तेजी लाने और विपक्षी दलों की एकता तोड़ने के लिए : मोइली◾ईवीएम को लेकर उदित राज का विवादास्पद बयान, बोले- क्या सुप्रीम कोर्ट भी धांधली में शामिल है◾परिवार का रंग नहीं जमने पर विपक्ष साध रहा EVM पर निशाना : नकवी◾राहुल ने कार्यकर्ताओं से कहा- फर्जी एग्जिट पोल से निराश न हों, रहें सतर्क◾लोकसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने की 150 सभाएं और रोड शो◾PM मोदी पर राहुल ने की थी विवादित टिप्‍पणी, FIR दर्ज हो या नहीं, अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा◾...तो कांग्रेस और राहुल गांधी के लिए सहज स्थिति हो सकती है सीटों का शतक !◾लोकसभा चुनाव की मतगणना कल, परिणामों में विलंब की संभावना◾भाजपा उम्मीदवार की गिरफ्तारी से बचने संबंधी याचिका पर सुनवाई करने पर सहमत SC◾

Google ने Doodle बनाकर भारत की पहली महिला फोटो जर्नलिस्ट को दी श्रद्धांजलि

दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने गुजरात के पारसी परिवार में पैदा हुई और पद्म विभूषण से सम्मानित भारत की पहली महिला फोटो जनर्लिस्ट होमी व्यारवाला को डूडल बनाकर श्रद्धांजलि दी है।

गूगल ने श्रीमती व्यारावाल्ला की 104वीं जयंती पर उनका श्वेत -श्याम स्केच बनाया है जिसमें उन्हें आम लोगों के बीच फोटो खींचते हुए दिखाया गया है।

वर्ष 1938 से 1970 के दौरान फोटो पत्रकारिता से दुनिया में अपनी खास पहचान बनाने वाली श्रीमती व्यारावाल्ला ने कई नायाब तस्वीरें खींचीं जिनमें आजादी के बाद लाल किले में पहले तिरंगे को फहराये जाने,महात्मा गांधी के निधन और प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा सफेद कबूतरों को छोड़ जाने जैसे ऐतिहासिक क्षणों को उन्होंने कैमरे में कैद किया है। पंडित नेहरू उनके पसंदीदा थे और उन्होंने उनकी अनेक फोटो खींची हैं।

वर्ष 1911 में उन्हें देश के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने उन्हें लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार से भी सम्मानित किया था।

व्यारावाल्ला की फोटो उनके नाम की जगह ‘ डाल्डा 13 ’ से प्रकाशित होती थीं। दरअसल उनका जन्म 1913 में हुआ था और वह 13 वर्ष की आयु में ही अपने भावी पति से मिली थीं तथा उनकी पहली कार की पंजीकरण संख्या (डीएलडी 13 ) थी।

गुजरात के नवसारी में मध्यमवर्गीय पारसी परिवार में जन्मी जर्नलिस्ट ने मुंबई के जे जे स्कूल आफ आर्ट्स से कला में डिप्लोमा किया था। उन्होंने ब्रिटिश सूचना सेवा और द इल्स्ट्रेटेड वीकली ऑफ पत्रिका के लिए काम किया था।

उन्होंने द टाइम्स आफ इंडिया के फोटो पत्रकार मनेक्शां व्यारावाल्ला से फोटोग्राफी सीखी और 1941 में उनके साथ विवाह सूत्र में बंध गयीं। वर्ष 1969 में पति के निधन के बाद उन्होंने फोटोग्राफी की दुनिया को अलविदा कह दिया था। पन्द्रह जनवरी 1912 को 98 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया था।

लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक करें।