BREAKING NEWS

BSF स्थापना दिवस : अमित शाह बोले-हमारी सीमा और जवानों को कोई हल्के में नहीं ले सकता◾नागालैंड: सुरक्षाबलों की फायरिंग में 13 लोगों की मौत, ग्रामीणों ने फूंकी गाड़ियां, CM ने दिए SIT जांच के निर्देश ◾हिंदू-मुसलमान के बीच कटुता के लिए वामपंथी और कांग्रेस जिम्मेदार : CM हिमंत बिस्वा सरमा◾ओमीक्रोन खतरे के बीच दिल्ली पुलिस अलर्ट, सुरक्षा को लेकर दिए कई आदेश◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने 6 राज्यों को लिखा पत्र, कोविड संक्रमण पर अंकुश लगाने का किया आग्रह ◾Delhi Weather Update : धुंध की वजह से कम हुई विज़िबिलिटी, आज शाम तक बारिश के आसार, बढ़ेगी ठंड◾मथुरा : 6 दिसंबर से पहले प्रशासन की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था, छावनी में तब्दील हुई कृष्ण नगरी◾चीन की बढ़ती क्षमताओं के परिणाम ‘गहरे’ हैं : जयशंकर◾जो ‘नया कश्मीर’ दिखाया जा रहा है, वह वास्तविकता नहीं है : महबूबा◾मछुआरों की चिंताओं और मत्स्यपालन क्षेत्र से जुड़े मुद्दों को राष्ट्रीय स्तर पर उठाएगी कांग्रेस : राहुल गांधी◾ सिद्धू ने फिर अलापा PAK राग! बोले- दोनो देशों के बीच फिर शुरू हो व्यापार◾भारत पर ओमीक्रॉन का वार, कर्नाटक-गुजरात के बाद अब महाराष्ट्र में भी दी दस्तक, देश में अब तक चार संक्रमित ◾गोवा में बोले केजरीवाल- सभी दैवीय ताकतें एकजुट हो रही हैं और इस बार कुछ अच्छा होगा◾मध्य प्रदेश में तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव, EC ने तारीखों का किया ऐलान ◾कल्याण और विकास के उद्देश्यों के बीच तालमेल बिठाने पर व्यापक बातचीत हो: उपराष्ट्रपति◾वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का हआ निधन, दिल्ली के अपोलो अस्पताल में थे भर्ती◾ MSP और केस वापसी पर SKM ने लगाई इन पांच नामों पर मुहर, 7 को फिर होगी बैठक◾ IND vs NZ: एजाज के ऐतिहासिक प्रदर्शन पर भारी पड़े भारतीय गेंदबाज, न्यूजीलैंड की पारी 62 रन पर सिमटी◾भारत में 'Omicron' का तीसरा मामला, साउथ अफ्रीका से जामनगर लौटा शख्स संक्रमित ◾‘बूस्टर’ खुराक की बजाय वैक्सीन की दोनों डोज देने पर अधिक ध्यान देने की जरूरत, विशेषज्ञों ने दी राय◾

सुसाइड करने वाले कोविड मरीजों के परिवारों को केंद्र देगा मुआवजा, SC के दबाव के बाद बनी सहमति

सुप्रीम कोर्ट के दबाव के बाद केंद्र सरकार ने कोविड पॉजिटिव होने के 30 दिनों के भीतर आत्महत्या से मरने वाले लोगों के परिवार के सदस्यों के लिए वित्तीय सहायता पर विचार करने पर सहमति व्यक्त की है।

शीर्ष अदालत में प्रस्तुत एक अतिरिक्त हलफनामे में गृह मंत्रालय ने कहा, यह सम्मानपूर्वक प्रस्तुत किया जाता है कि इस संबंध में उपयुक्त निर्देश इस माननीय न्यायालय द्वारा पारित किया जा सकता है, जिससे 30 दिनों के भीतर आत्महत्या करने वाले लोगों के परिवार के सदस्य एमओएच एण्ड एफ/आईसीएमआर दिशानिदेर्शो के अनुसार कोविड -19 पॉजिटिव के रूप में निदान किए जाने से भी डीएमए की धारा 12 (3) के तहत एनडीएमए द्वारा जारी दिशा-निदेर्शो के अनुसार एसडीआरएफ के तहत दी गई वित्तीय सहायता प्राप्त करने के हकदार होंगे।

13 सितंबर को शीर्ष अदालत ने देखा था कि ऐसे मामले सामने आए हैं जहां कोविड-19 से पीड़ित लोगों की आत्महत्या से मृत्यु हो गई और ऐसे लोग 3 सितंबर को जारी दिशानिदेशरें का हिस्सा नहीं हैं। इसमें आगे कहा गया है कि ऐसे लोगों पर भी उपयुक्त विचार किया जाना चाहिए। अनुग्रह राशि के लिए और उन्हें डीएमए की धारा 12 (3) के तहत बनाए गए दिशानिदेर्शो के तहत भारत संघ द्वारा दी जाने वाली वित्तीय सहायता के दायरे में भी शामिल किया जाना चाहिए।

फिर, न्यायमूर्ति एम.आर. शाह और न्यायमूर्ति ए.एस. बोपन्ना ने केंद्र से कहा कि वह कोविड पॉजिटिव रोगियों द्वारा की गई आत्महत्या को कोविड की मौत के मामलों के रूप में मानें ताकि उनके परिवार के सदस्यों को मुआवजे के लिए सक्षम बनाया जा सके। शीर्ष अदालत ने कहा कि कोविड संक्रमण से पीड़ित होने के कारण व्यक्ति ने यह चरम कदम उठाया होगा।

पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा था, "आप कहते हैं कि आत्महत्या के मामलों को कवर नहीं किया जाएगा। हमारा विचार है कि इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है। उन लोगों के बारे में क्या जिन्होंने कोविड की पीड़ा के कारण आत्महत्या की। अपने फैसले पर पुनर्विचार करें।" मेहता ने अदालत को आश्वासन दिया था कि सरकार मामले की फिर से जांच करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने कोविड मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने और मुआवजे के भुगतान के लिए केंद्र द्वारा तय दिशा-निदेर्शो पर संतोष व्यक्त किया था।

महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत के बाद कमरे का वीडियो आया सामने, जांच के लिए प्रयागराज पहुंची CBI