BREAKING NEWS

राज्य सरकारों के अनुरोध पर बढ़ सकती है लॉकडाउन की अवधि, केंद्र कर रही है विचार◾कोरोना को मात देने के लिए केजरीवाल सरकार ने बनाई खास '5T' योजना, होगा महामारी का सफाया◾कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोविड-19 से निपटने की दी सलाह◾महबूबा मुफ्ती को जेल से स्थानांतरित कर भेजा गया घर, PSA के तहत जारी रहेगी हिरासत◾मलेरिया रोधी दवा पर हटी पाबंदी को लेकर राहुल बोले- सभी देशों की करनी चाहिए मदद लेकिन पहले भारतीयों को कराया जाए मुहैया◾शर्मनाक : नरेला में 2 जमातियों ने क्वारनटीन सेंटर के दरवाजे पर किया शौच, दर्ज हुई FIR◾दुनियाभर में मलेरिया रोधी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा की मांग के बीच मोदी सरकार ने आपूर्ति पर हटाया प्रतिबन्ध◾UP के बागपत में अस्पताल से फरार हुआ कोरोना पॉजिटिव जमाती, प्रशासन में मचा हड़कंप◾Coronavirus : विश्व में लगभग 14 लाख पॉजिटिव केस आए सामने वहीं 74,000 के करीब पहुंचा मौत का आंकड़ा◾कोविड-19 : देश में 4,421 संक्रमित मामलों की पुष्टि , पिछले 24 घंटे में हुई 5 मौत◾भारत से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति पर ट्रम्प बोले- भेजेंगे तो सराहनीय वरना करेंगे आवश्यक कार्रवाई◾विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर PM मोदी ने किया ट्वीट,लिखा-फिर मुस्कुराएगा इंडिया और फिर जीत जाएगा इंडिया◾जम्मू-कश्मीर में LOC के पास आज सुबह पाकिस्तान ने की गोलीबारी, सेना की जवाबी कार्रवाई जारी ◾चीन से आई कोविड-19 की अच्छी खबर, पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से नहीं हुई किसी भी व्यक्ति की मौत ◾coronavirus : तमिलनाडु में कोविड-19 से 621 लोग संक्रमित, 574 मामलें तबलीगी जमात से जुड़े◾Coronavirus : तेलंगाना मुख्यमंत्री कार्यालय की सफाई, कहा- सीएम ने लॉकडाउन बढ़ाने की सलाह दी लेकिन कोई घोषणा नहीं ◾स्वास्थ्य मंत्रालय : तबलीगी जमात से जुड़े 1,445 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए, 25 हजार से अधिक एकांतवास में◾दिल्ली में कोरोना से अब तक 523 लोग हुए संक्रमित, पिछले 24 घंटे में 20 नए मामले आए सामने ◾कोरोना से हुई कुल मौतों में 73 प्रतिशत पुरुष जबकि 27 प्रतिशत महिलाएं : स्वास्थ्य मंत्रालय◾केंद्र का बड़ा फैसला, PM सहित कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों के वेतन में 30 फीसदी की होगी कटौती◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

फेसबुक और वॉट्सएप पर फेक न्यूज को लेकर सरकार सख्त, कार्रवाई का दिया भरोसा

नई दिल्ली : अफवाहों की वजह से भीड़ के द्वारा लोगों को मार दिये जाने की खबरें आने के बाद अब केंद्र सरकार ने वॉट्सएप और फेसबुक के द्वारा अफवाह फैलाने वालों पर लगाम लगाने की तैयारी शुरु कर दी है। ‘आतंक’ के खिलाफ समुचित कदम उठाने का आश्वासन भी दिया है। बता दें कि मंगलवार को भारत सरकार ने अपने बयान में सख्त रुख अपनाते हुए इस मैसेजिंग सर्विस को आगाह किया था और गैर जिम्मेदाराना रुख अपनाने का आरोप लगाया था। वॉट्सएप ने भारत सरकार को लिखी चिट्ठी में कहा है कि वो लोगों की सुरक्षा को लेकर गहराई से चिंतित है और साथ ही उसने फेक न्यूज और अफवाहों के आतंक से लड़ने के कदम उठाए हैं।

वॉट्सएप ने चिट्ठी में कहा है कि हम हिंसा की इन खौफनाक घटनाओं को लेकर भयभीत है और आपने जो अहम मुद्दे उठाए हैं उन पर जवाब में तेजी से कार्रवाई करना चाहते हैं। कंपनी के मुताबिक वो भारतीय शोधकर्ताओं के साथ समस्या को अच्छी तरह समझने के लिए काम कर रहे हैं। साथ ही ऐसे बदलाव किए जा रहे हैं जिससे फर्जी संदेशों को फैलने से रोका जा सके। दरअसल ना सिर्फ वॉट्सएप बल्कि सोशल मीडिया के तमाम प्लेटफॉर्म्स को भी फर्जी खबरों के प्रसार को प्रभावी ढंग से ना रोक पाने के लिए हालिया वक्त में भारी दबाव से गुजरना पड़ रहा है। व्हाट्सएप की पेरेंट कंपनी फेसबुक पहले ही मान चुकी है कि फेक न्यूज बड़ी चुनौती है। फेसबुक की ओर से इस बारे मे कई कदम भी उठाए जा चुके हैं।

फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने इस साल 19 जनवरी को अपनी पोस्ट में आगाह किया था, ‘दुनिया में आज बहुत ज्यादा सनसनी, गलत सूचनाएं और ध्रुवीकरण है। सोशल मीडिया लोगों को पहले की तुलना में कहीं तेजी से सूचनाएं पहुंचाने का काम कर रहा है। और हमने इन समस्याओं को सही तरह से नहीं निपटा तो हम इन समस्याओं को और विकराल होता देखेंगे।’ जकरबर्ग की ये भविष्यवाणी भारत में खतरनाक ढंग से सही भी साबित हो गई। बता दें कि सोशल प्लेटफॉर्म्स पर बच्चों को अगवा करने की अफवाहों के चलते एक साल में कम से कम 29 लोगों को पीट पीट कर मार डाला गया। ऐसे में सवाल ये है कि क्या टेक्नोलॉजी कंपनियां फेक न्यूज़ की चुनौती से निपटने के लिए उस स्तर पर कोशिशें नहीं कर रही हैं जिस स्तर पर उन्हें करनी चाहिए।

दिल्ली स्थित साइबर एक्सपर्ट जितिन जैन का कहना है, ‘अगर यही कंपनियां एडवरटाइजिंग के लिए इंटरनेट के इस्तेमाल के आपके तौर तरीकों को सटीकता के साथ ट्रैक कर सकती हैं, आपको बैठकों, फ्लाइट सूचनाओं और होटल बुकिंग्स के लिए अपडेट करने के लिए आपकी मेल्स को स्कैन कर सकती हैं तो वो क्यों नहीं हिंसा, फेक न्यूज और मॉर्फ्ड तस्वीरों-वीडियो से जुड़े कंटेट को फिल्टर कर सकतीं?’ जैन कहते हैं कि इन कंपनियों का मुख्य फोकस उन क्षेत्रों पर रहता है जहां से वो धन अर्जित कर सकें। ऐसे में क्या तकनीक के सहारे फेक न्यूज को छान कर अलग करने के लिए फुलप्रूफ कदम उठाए जा सकते हैं? इसका जवाब इस बात में छुपा है कि क्या फेक या फर्जी है और क्या नहीं, इसे परिभाषित किया जाए और इसकी पुख्ता पहचान की जाए। फेसबुक की सोशल प्लेटफॉर्म के न्यूजरूम पेज पर एक शॉर्ट फिल्म ‘फाइट अगेंस्ट मिसइंफॉर्मेंशन’ इन्हीं सब सवालों और जिज्ञासाओं का जवाब ढूंढने की कोशिश करती है।