BREAKING NEWS

कन्हैया ने मोदी सरकार पर बोला हमला, कहा - देश पर वर्तमान में शासन करने वाले अंग्रेजों के साथ चाय पे चर्चा किया करते थे◾CAA के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पास करेगा तेलंगाना◾शाहीन बाग में बड़ी संख्या में जुटे प्रदर्शनकारी, लेकिन आपसी मतभेद ज्यादा, प्रदर्शन कम◾PAK में गुतारेस की J&K पर की गई टिप्पणी के बाद भारत ने कहा - जम्मू कश्मीर देश का अभिन्न हिस्सा ◾मतभेदों को सुलझाने के लिए कमलनाथ और सिंधिया इस हफ्ते कर सकते है मुलाकात◾अमेरिका राष्ट्रपति की अहमदाबाद यात्रा से पहले AIMC ने जारी किये ‘नमस्ते ट्रंप’ वाले पोस्टर ◾इस साल राज्यसभा में विपक्षी ताकत होगी कम ◾23 फरवरी से 23 मार्च तक उनका दल चलाएगा देशव्यापी अभियान - गोपाल राय◾पश्चिम बंगाल में निर्माणाधीन पुल का गर्डर ढहने से दो की मौत, सात जख्मी ◾कच्चे तेल पर कोरोना वायरस का असर, और घट सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम◾बाबूलाल मरांडी सोमवार को BJP होंगे शामिल, कई वरिष्ठ भाजपा नेता समारोह में हो सकते हैं उपस्थित◾लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसा , ट्रक और वैन में टक्कर के बाद लगी आग , 7 लोग जिंदा जले◾वित्त मंत्रालय ने व्यापार पर कोरोना वायरस के असर के आकलन के लिये मंगलवार को बुलायी बैठक ◾कोरोना वायरस मामले को लेकर भारतीय राजदूत ने कहा - चीन की हरसंभव मदद करेगा भारत◾NIA को मिली बड़ी कामयाबी : सीमा पार कारोबार के जरिए आतंकवाद के वित्तपोषण के मिले सबूत◾दिल्ली CM शपथ ग्रहण समारोह दिखे कई ‘‘लिटिल केजरीवाल’’◾TOP 20 NEWS 16 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में समर्थकों ने कहा : देश की राजनीति में बदलाव का होना चाहिए◾PM मोदी ने काशी महाकाल एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा कर रवाना, जानिये इस ट्रेन की खासियतें ◾PM मोदी ने वाराणसी में 'काशी एक रूप अनेक' कार्यक्रम का किया शुभारंभ◾

फेसबुक और वॉट्सएप पर फेक न्यूज को लेकर सरकार सख्त, कार्रवाई का दिया भरोसा

नई दिल्ली : अफवाहों की वजह से भीड़ के द्वारा लोगों को मार दिये जाने की खबरें आने के बाद अब केंद्र सरकार ने वॉट्सएप और फेसबुक के द्वारा अफवाह फैलाने वालों पर लगाम लगाने की तैयारी शुरु कर दी है। ‘आतंक’ के खिलाफ समुचित कदम उठाने का आश्वासन भी दिया है। बता दें कि मंगलवार को भारत सरकार ने अपने बयान में सख्त रुख अपनाते हुए इस मैसेजिंग सर्विस को आगाह किया था और गैर जिम्मेदाराना रुख अपनाने का आरोप लगाया था। वॉट्सएप ने भारत सरकार को लिखी चिट्ठी में कहा है कि वो लोगों की सुरक्षा को लेकर गहराई से चिंतित है और साथ ही उसने फेक न्यूज और अफवाहों के आतंक से लड़ने के कदम उठाए हैं।

वॉट्सएप ने चिट्ठी में कहा है कि हम हिंसा की इन खौफनाक घटनाओं को लेकर भयभीत है और आपने जो अहम मुद्दे उठाए हैं उन पर जवाब में तेजी से कार्रवाई करना चाहते हैं। कंपनी के मुताबिक वो भारतीय शोधकर्ताओं के साथ समस्या को अच्छी तरह समझने के लिए काम कर रहे हैं। साथ ही ऐसे बदलाव किए जा रहे हैं जिससे फर्जी संदेशों को फैलने से रोका जा सके। दरअसल ना सिर्फ वॉट्सएप बल्कि सोशल मीडिया के तमाम प्लेटफॉर्म्स को भी फर्जी खबरों के प्रसार को प्रभावी ढंग से ना रोक पाने के लिए हालिया वक्त में भारी दबाव से गुजरना पड़ रहा है। व्हाट्सएप की पेरेंट कंपनी फेसबुक पहले ही मान चुकी है कि फेक न्यूज बड़ी चुनौती है। फेसबुक की ओर से इस बारे मे कई कदम भी उठाए जा चुके हैं।

फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने इस साल 19 जनवरी को अपनी पोस्ट में आगाह किया था, ‘दुनिया में आज बहुत ज्यादा सनसनी, गलत सूचनाएं और ध्रुवीकरण है। सोशल मीडिया लोगों को पहले की तुलना में कहीं तेजी से सूचनाएं पहुंचाने का काम कर रहा है। और हमने इन समस्याओं को सही तरह से नहीं निपटा तो हम इन समस्याओं को और विकराल होता देखेंगे।’ जकरबर्ग की ये भविष्यवाणी भारत में खतरनाक ढंग से सही भी साबित हो गई। बता दें कि सोशल प्लेटफॉर्म्स पर बच्चों को अगवा करने की अफवाहों के चलते एक साल में कम से कम 29 लोगों को पीट पीट कर मार डाला गया। ऐसे में सवाल ये है कि क्या टेक्नोलॉजी कंपनियां फेक न्यूज़ की चुनौती से निपटने के लिए उस स्तर पर कोशिशें नहीं कर रही हैं जिस स्तर पर उन्हें करनी चाहिए।

दिल्ली स्थित साइबर एक्सपर्ट जितिन जैन का कहना है, ‘अगर यही कंपनियां एडवरटाइजिंग के लिए इंटरनेट के इस्तेमाल के आपके तौर तरीकों को सटीकता के साथ ट्रैक कर सकती हैं, आपको बैठकों, फ्लाइट सूचनाओं और होटल बुकिंग्स के लिए अपडेट करने के लिए आपकी मेल्स को स्कैन कर सकती हैं तो वो क्यों नहीं हिंसा, फेक न्यूज और मॉर्फ्ड तस्वीरों-वीडियो से जुड़े कंटेट को फिल्टर कर सकतीं?’ जैन कहते हैं कि इन कंपनियों का मुख्य फोकस उन क्षेत्रों पर रहता है जहां से वो धन अर्जित कर सकें। ऐसे में क्या तकनीक के सहारे फेक न्यूज को छान कर अलग करने के लिए फुलप्रूफ कदम उठाए जा सकते हैं? इसका जवाब इस बात में छुपा है कि क्या फेक या फर्जी है और क्या नहीं, इसे परिभाषित किया जाए और इसकी पुख्ता पहचान की जाए। फेसबुक की सोशल प्लेटफॉर्म के न्यूजरूम पेज पर एक शॉर्ट फिल्म ‘फाइट अगेंस्ट मिसइंफॉर्मेंशन’ इन्हीं सब सवालों और जिज्ञासाओं का जवाब ढूंढने की कोशिश करती है।