BREAKING NEWS

सुंदरवन जल्द ही नया जिला होगा : ममता बनर्जी◾भारत में टारगेट हत्याओं के पीछे पाकिस्तान-कनाडा स्थित आतंकवादी, NIA जांच में खुलासा◾ थम गया गुजरात चुनाव का प्रचार, खड़गे ने PM को बताया रावण, BJP ने कांग्रेस पर किया पलटवार ◾MP : महाकाल मंदिर में राहुल गांधी ने की पूजा-अर्चना ◾रामपुर में पहले नहीं होते थे चुनाव, थानों और बूथों पर रहता था सपा के गुंडों का कब्जा : बृजेश पाठक ◾J&K : आजाद बोले- धार्मिक राजनीति ने देश को पहुंचाया गहरा नुकसान, वोट डालने से पहले जांचे 'ट्रैक रिकॉर्ड'◾पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- विनिर्माण की दुनिया में लगातार आगे बढ़ रहा है भारत◾Assam: सीएम शर्मा ने कहा- डिब्रूगढ़ विवि ने रैगिंग की घटना छिपाने की कोशिश की या नहीं, जांच पुलिस करेगी◾'मोदी सरकार' पर निशाना साधते हुए राहुल बोले- नोटबंदी, GST ने लोगों और छोटे व्यापारियों की कमर तोड़ी◾Gujarat: गुजरात में मिली जहरीली शराब पर भड़के राहुल गांधी- राज्य में फैल हुआ 'मोदी मॉडल'◾ लड़की के साथ दरिंदगी, तीन लोगों ने मिलकर किया दुष्कर्म, पुलिस ने आरोपियों को दबोचा, जानें पूरा मामला ◾Goa: सीएम प्रमोद सांवत ने कहा- ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर इफ्फी के जूरी प्रमुख का बयान कश्मीरी हिंदुओं का अपमान◾Air India: एयर इंडिया-विस्तारा के विलय को मिली मंजूरी...सिंगापुर एयरलाइंस की होगी इतनी हिस्सेदारी◾सोशल मीडिया ने देश को आगे बढ़ाया... लेकिन फेक न्यूज का भी तेजी से हुआ चलन, बोले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ◾BWF Rankings: बीडब्ल्यूएफ रैंकिंग में छठे स्थान पर पहुंचे लक्ष्य सेन, टॉप-20 में गायत्री-त्रिशा ◾MCD पर केजरीवाल का चुनावी एजेंडा, कहा- 'आप पार्टी' को वोट दें.....राजधानी को बनाएंगे स्वच्छ और सुंदर ◾Digital Rupee: RBI का बड़ा ऐलान- 1 दिसंबर को लॉन्च होगा डिजिटल रूपया ◾भाजपा के गुजरात मॉडल पर योगी मॉडल की छाप, छात्राओं को देंगे तमाम तोहफे◾Corruption case: देशमुख की जमानत याचिका पर अदालत ने सुनवाई को 2 दिसंबर तक किया स्थगित ◾10वीं छात्रा के साथ दुष्कर्म, पांच सहपाठियों ने लड़की को दबोचा, किया गैंगरेप, वीडियो बनाकर कर रहे थे blackmail ◾

सरकार मिशनरीज ऑफ चैरिटी के किसी भी बैंक खाते को फ्रीज नहीं कियाः गृह मंत्रालय

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि मदर टेरेसा की ओर से स्थापित मिशनरीज ऑफ चैरिटी के सारे बैंक खातों में लेनदेन पर रोक दिया गया है। उनके इस बयान पर सोमवार देर शाम केंद्रीय गृह मंत्रालय ने प्रतिक्रिया दी है। गृह मंत्रालय ने बताया है कि मिशनरीज ऑफ चैरिटी के किसी भी खाते को फ्रीज नहीं किया है।

गृह मंत्रालय ने कहा, ‘मिशनरीज ऑफ चैरिटी के किसी भी खाते को फ्रीज नहीं किया। भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने सूचित किया है कि MoC ने स्वयं SBI को अपने खातों को फ्रीज करने का अनुरोध भेज।

खुद मिशनरीज ऑफ चैरिटी ने भेजी थी बैंक खातों को फ्रीज करने की रिक्वेस्ट

हालांकि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि मदर टेरेसा के मिशनरीज ऑफ चैरिटी के फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट (FCRA) रजिस्ट्रेशन के नवीनीकरण के आवेदन को FCRA 2010 और फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन रूल्स 2011 के तहत पात्रता शर्तों को पूरा नहीं करने पर 25 दिसंबर को खारिज कर दिया गया था। एक विज्ञप्ति के अनुसार, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को सूचित किया कि मिशनरीज ऑफ चैरिटी ने खुद अपने बैंक खातों को फ्रीज करने का अनुरोध भेजा था।

ममता बनर्जी ने लगाया था आरोप

बता दें कि इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के आरोप लगाया था कि केंद्र द्वारा MoC के सभी बैंक खातों को फ्रीज कर दिया। जिसके बाद गृह मंत्रालय ने बयान जारी किया है। गृह मंत्रालय ने कहा कि समीक्षा के लिए MoC से कोई अनुरोध या संशोधन आवेदन प्राप्त नहीं हुआ है।

पंजीकरण संख्या 147120001 के तहत पंजीकृत मिशनरीज ऑफ चैरिटी का पंजीकरण 31 अक्टूबर, 2021 तक वैध था। मंत्रालय ने कहा कि वैधता को बाद में अन्य एफसीआरए एसोसिएशन के साथ 31 दिसंबर, 2021 तक बढ़ा दिया गया था। MoC के नवीनीकरण आवेदन पर विचार करते समय, केंद्र सरकार के अनुसार, कुछ विरुद्ध इनपुट देखे गए थे।

 MoC का FCRA पंजीकरण 31 दिसंबर 2021 तक वैध था

मंत्रालय ने कहा, “इन इनपुट्स को रिकॉर्ड पर ध्यान में रखते हुए, MoC के नवीनीकरण आवेदन को मंजूरी नहीं दी गई थी। MoC का FCRA पंजीकरण 31 दिसंबर 2021 तक वैध था। एमएचए ने MoC के किसी भी खाते को फ्रीज नहीं किया। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने सूचित किया है कि MoC ने स्वयं SBI को अपने खातों को फ्रीज करने का अनुरोध भेजा था।” 

इससे पहले इस पूरे मामले पर ट्वीट करते हुए ममता बनर्जी ने लिखा था, "यह सुनकर स्तब्ध हूं कि क्रिसमस पर केंद्रीय मंत्रालय ने भारत में मदर टेरेसा के मिशनरीज ऑफ चैरिटी के सभी बैंक खातों को फ्रीज कर दिया! उनके 22,000 रोगियों और कर्मचारियों को भोजन और दवाओं के बिना छोड़ दिया गया। भले कानून सर्वोपरि है, लेकिन मानवीय प्रयासों से समझौता नहीं किया जाना चाहिए।"