BREAKING NEWS

चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾गृह मंत्री अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र से 6,600 करोड़ रुपये की सहायता मांगी ◾पाकिस्तान ने भारत के साथ डाक सेवा बंद की, भारत ने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन बताया ◾सरकार ने सियाचिन को पर्यटकों के लिए खोलने का फैसला किया : राजनाथ सिंह ◾TOP 20 NEWS 21 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- अगर पाक ने घुसपैठ कराना बंद नहीं की तो सशस्त्र बल उसे मुहंतोड़ जवाब देते रहेंगे◾भारत करतारपुर पर 23 को करेगा एग्रीमेंट, आस्था के नाम पर श्रद्धालुओं से वसूली पर अड़ा पाक ◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग समाप्त, जानें किस-किस ने डाला वोट◾उपचुनाव : यूपी समेत 17 राज्यों में वोटिंग समाप्त, जानें कहां कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त, जानें कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾आरे विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मेट्रो कंस्ट्रक्शन पर नहीं लगाई कोई रोक ◾BJP विधायक के वीडियो पर राहुल गांधी का तंज, कहा- पार्टी में सबसे ईमानदार व्यक्ति हैं बख्शीश सिंह◾संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलेगा◾शरद पवार ने डाला वोट, लोगों से की लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल करने की अपील◾संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले- बीते 90 वर्षों से हमें निशाना बनाया जा रहा है ◾हरियाणा में मुकाबला सिर्फ BJP और कांग्रेस के बीच : भूपिंदर सिंह हुड्डा◾केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾

देश

सरकार ने घरेलू कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर घटाकर की 25.17 प्रतिशत : वित्तमंत्री

सरकार ने आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिए बड़ी घोषणा करते हुए शुक्रवार को कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर घटा दी। अब घरेलू कंपनियों के लिए सभी अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 25.17 प्रतिशत होगी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि नयी दर इस वित्त वर्ष के एक अप्रैल से प्रभावी होगी। 

उन्होंने कहा कि दर कम करने तथा अन्य घोषणाओं से राजस्व में सालाना 1.45 लाख करोड़ रुपए की कमी का अनुमान है। सीतारमण ने कहा कि निवेश और आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिए ये कदम उठाए गए हैं। यदि कोई घरेलू कंपनी किसी भी प्रोत्साहन का लाभ नहीं लें तो उनके लिए कॉरपोरेट कर की दर 22 प्रतिशत होगी। 

उन्होंने कहा कि आयकर अधिनियम तथा वित्त अधिनियम में किए गए बदलाव अध्यादेश के जरिए अमल में लाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि 22 प्रतिशत की दर से आयकर भुगतान करने का विकल्प चुनने वाली कंपनियों को न्यूनतम वैकल्पिक कर देने की जरूरत नहीं होगी। 

वित्तमंत्री ने कहा कि एक अक्टूबर के बाद बनने वाली घरेलू विनिर्माण कंपनियां बिना किसी प्रोत्साहन के 15 प्रतिशत की दर से आयकर भुगतान कर सकेंगी। इनके लिए अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 17.01 प्रतिशत होगी। उन्होंने कहा कि छूट का लाभ उठा रही कंपनियां इनकी अवधि समाप्त होने के बाद कम दर पर कर का भुगतान करने का विकल्प चुन सकती हैं। 

'Howdy Modi' से पहले ह्यूस्टन में भारी बारिश ने मचाई तबाही

सरकार ने प्रतिभूति लेन-देन कर की देनदारी वाली कंपनियों के शेयरों की बिक्री से हुए पूंजीगत लाभ पर बजट में प्रस्तावित उपकर को भी वापस लेने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों के लिए डेरिवेटिव समेत प्रतिभूतियों की बिक्री से होने वाले पूंजीगत लाभ पर धनाढ्य-उपकर समाप्त करने का भी निर्णय लिया गया है। 

वित्तमंत्री ने एक अन्य राहत देते हुए कहा कि जिन सूचीबद्ध कंपनियों ने पांच जुलाई से पहले शेयरों की पुनर्खरीद की घोषणा की है, उन्हें भी धनाढ्य-उपकर नहीं देना होगा। कंपनियों को अब दो प्रतिशत कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) इनक्यूबेशन, आईआईटी, एनआईटी और राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं पर खर्च करने की भी छूट दी गयी है।

सीतारमण ने कर में छूट से मेक इन इंडिया में निवेश आने तथा रोजगार सृजन और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलने का भरोसा जाहिर किया। उन्होंने कहा कि इससे अधिक राजस्व प्राप्त होगा।