BREAKING NEWS

दिल्ली में निशुल्क यात्रा की योजना लागू होने के बाद से महिला यात्रियों की हिस्सेदारी 10 फीसदी बढ़ी ◾तीसहजारी कांड : दिल्ली पुलिस ने अदालत में दाखिल की प्रगति रिपोर्ट, SIT जांच में मांगा सहयोग◾लोकसभा से चिट फंड संशोधन विधेयक 2019 को मंजूरी◾महाराष्ट्र की राजनीतिक तस्वीर साफ हुई, जल्द बन सकती है शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की सरकार ◾मंत्रिमंडल ने 1.2 लाख टन प्याज आयात की मंजूरी दी : सीतारमण◾NC, PDP ने कश्मीर में सामान्य हालात बताने पर केंद्र की आलोचना की◾पृथ्वी-2 मिसाइल का रात के समय सफलतापूर्वक परीक्षण ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर जल्द मिलेगी गुड न्यूज : राउत ◾सकारात्मक चर्चा हुई, जल्द सरकार बनेगी : चव्हाण◾'हिटलर की बहन' वाले बयान पर बेदी का मुख्यमंत्री पर पलटवार◾यशवंत सिन्हा ने 22 से 25 नवंबर तक कश्मीर यात्रा की घोषणा की ◾TOP 20 NEWS 20 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस ने भाजपा-जजपा गठबंधन पर साधा निशाना, कहा- ज्यादा दिन तक नहीं चलेगी सरकार ◾INX मीडिया मामला : चिदंबरम की जमानत याचिका पर SC का ED को नोटिस ◾राज्यसभा में सीट बदले जाने पर भड़के संजय राउत, स्पीकर वेंकैया नायडू को लिखा पत्र ◾CM ममता का अमित शाह पर पलटवार, कहा- बंगाल में एनआरसी को नहीं लागू होने देंगे◾पूरे देश में लागू होगा NRC, किसी को भी डरने की जरूरत नहीं : अमित शाह◾ महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान के बीच NCP प्रमुख शरद पवार ने PM मोदी से की मुलाकात◾राज्यसभा में बोले शाह- जम्मू एवं कश्मीर में 5 अगस्त के बाद से नहीं हुई एक भी मौत ◾कांग्रेस ने राज्यसभा में फिर उठाया SPG सुरक्षा का मुद्दा, भाजपा ने दिया ये जवाब◾

देश

सरकार ने 312 विदेशी सिख नागरिकों के नाम ब्लैक लिस्ट से हटाए

गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि भारत-विरोधी गतिविधियों में शामिल रहे 312 विदेशी सिखों के नाम काली सूची से हटा दिए गए हैं। अब इस सूची में सिर्फ दो नाम बचे हैं। विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों ने विदेशी सिख नागरिकों के नामों वाली काली सूची की समीक्षा की और उसके बाद यह फैसला लिया गया। 

विदेशी सिख नागरिकों संबंधी काली सूची के, विदेश में विभिन्न भारतीय मिशनों द्वारा प्रबंधन किए जाने के काम को भी भारत सरकार ने बंद कर दिया है। अधिकारी ने बताया, "भारत सरकार ने सिख समुदाय से ताल्लुक रखने वाले 314 विदेशी नागरिकों के नामों की काली सूची की समीक्षा की और अब इस सूची में सिर्फ दो नाम हैं।" 

इस काली सूची से जिन लोगों के नाम हटाए गए हैं, वह अब भारत में अपने परिवारों से मिलने आ सकते हैं और अपनी जमीन से दोबारा जुड़ सकते हैं। अधिकारी ने बताया कि समीक्षा नियमित रूप से सतत चलने वाली प्रक्रिया है। ऐसी समीक्षा इस तरह के विदेशी सिख नागरिकों को भारत आने का एक अवसर प्रदान करेगी। इससे वह अपने परिवार के सदस्यों से मिल सकेंगे और अपनी जड़ों से दोबारा जुड़ सकेंगे। 

आतंकवाद का केंद्र है पाकिस्तान, कश्मीर पर फैला रहा झूठ : भारत

दरअसल 1980 में भारत के कई सिख नागरिक और सिख समुदाय से ताल्लुक रखनेवाले कई विदेशी नागरिक भारत विरोधी दुष्प्रचार में कथित तौर पर शामिल थे। भारत के कुछ सिख नागरिक यहां सजा से बचने के लिए अन्यत्र चले गए और विदेशों के नागरिक बन गए तथा वहां शरण ले ले ली। ऐसे लोगों को 2016 तक काली सूची में रखा गया था, जिसके बाद वह भारतीय वीजा हासिल करने के पात्र नहीं थे। 

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि अब यह प्रक्रिया ही बंद कर दी गई है। अधिकारी ने बताया कि विदेश में सभी भारतीय मिशनों/पोस्ट्स को सलाह दी गई है कि जो इस सूची में शामिल नहीं है, ऐसे सभी वर्गों के लोगों को और उनके परिवारवालों को उपयुक्त वीजा मुहैया कराया जाए, जिन्होंने विदेशों में शरण ली है। 

उन्होंने बताया कि शरण लेने वाले सभी वर्गों के लोग जो लंबी अवधि के लिए वीजा लेने के पात्र होंगे, वह ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया कार्ड के लिए पंजीकरण करा सकते हैं। यह प्रक्रिया दो साल के वीजा के लिए आवेदन करने और उसे हासिल करने के बाद ही की जा सकती है।