BREAKING NEWS

UP : कांग्रेस को बड़ा झटका, पश्चिम उत्तर प्रदेश के बड़े जाट नेता ने छोड़ी पार्टी◾उत्तराखंड : PM मोदी ने फोन पर CM धामी से की बात , हरसंभव सहायता का दिया आश्वासन ◾UK : बारिश भूस्खलन से 34 की मौत, सैकड़ो पर्यटक और श्रद्धालुओं का रेस्क्यू◾अपनी पार्टी बनाएंगे, BJP के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार : अमरिंदर सिंह◾कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने का किया ऐलान◾बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमला : भाजपा नेता दिलीप घोष हसीना पर नरम, ममता पर गरम◾केंद्र को भाजपा में सही सोचने वाले लोगों की सुननी चाहिए: किसान नेताओं ने कहा◾भारत-पाक टी-20 को लेकर 'AAP' ने की मांग, कहा- कश्मीर में नागरिकों की हत्या को देखते हुए रद्द हो मैच ◾लखीमपुर हिंसा मामले में SIT का नया पैंतरा, छह तस्वीरें जारी कर कहा- पहचान बताने वाले को देंगे इनाम◾पाकिस्तान सेना का दावा- भारत की पनडुब्बी को अपने समुद्री क्षेत्र में घुसने से रोका! जारी की वीडियो फुटेज ◾सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: कृषि मंत्री की वायरल फोटो पर मचा बवाल, तोमर के साथ दिखे निहंग अमनदीप सिंह◾बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमले दोनों देशों के रिश्तों को कमजोर करने की साजिश: CM बिप्लब देब◾बांग्लादेश की PM शेख हसीना ने गृह मंत्री से कहा-हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ जल्द करे कार्रवाई◾घोषणाओं के बजाय प्रतिज्ञा को तरजीह देगी कांग्रेस, UP की राजनीति महत्वपूर्ण मोड़ पर खड़ी : सुप्रिया श्रीनेत ◾प्रियंका के महिलाओं को टिकट देने के ऐलान को मायावती ने बताया कांग्रेस की कोरी चुनावी नाटकबाजी◾बंगाल उपचुनाव : BJP उम्मीदवार के साथ धक्का-मुक्की, कहा- प्रचार से रोकने के TMC ने की ऐसी हरकत◾पाकिस्तान की उम्मीदें एक बार फिर होंगी तार-तार! FATF की ग्रे सूची में बने रहने की संभावना◾चुनाव प्रचार के दौरान मछली मारते नजर आए तेजस्वी, RJD ने CM नीतीश पर कसा तंज ◾हिंदी ना आने पर भिड़े कस्टमर और जोमैटो का कर्मचारी, विवाद बढ़ने पर कंपनी को मांगनी पड़ी माफी ◾उत्तराखंड में भारी बारिश से मची तबाही, मरने वालों की संख्या 11 हुई, कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका◾

SC में सरकार का बयान- नहीं होगी जातिगत गिनती, OBC जनगणना का काम प्रशासनिक रूप से कठिन

केंद्र ने उच्चतम न्यायालय से कहा है कि पिछड़े वर्गों की जाति आधारित जनगणना ‘‘प्रशासनिक रूप से कठिन और दुष्कर’’ है और जनगणना के दायरे से इस तरह की सूचना को अलग करना ‘‘सतर्क नीति निर्णय’’ है। केंद्र का रूख इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि हाल में बिहार से दस दलों के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी और जाति आधारित जनगणना कराए जाने की मांग की थी।

उच्चतम न्यायालय में दायर हलफनामे के मुताबिक, सरकार ने कहा है कि सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना (एसईसीसी), 2011 में काफी गलतियां एवं अशुद्धियां हैं। महाराष्ट्र की एक याचिका के जवाब में उच्चतम न्यायालय में हलफनामा दायर किया गया। महाराष्ट्र सरकार ने याचिका दायर कर केंद्र एवं अन्य संबंधित प्राधिकरणों से अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) से संबंधित एसईसीसी 2011 के आंकड़ों को सार्वजनिक करने की मांग की और कहा कि बार-बार आग्रह के बावजूद उसे यह उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के सचिव की तरफ से दायर हलफनामे में कहा गया है कि केंद्र ने पिछले वर्ष जनवरी में एक अधिसूचना जारी कर जनगणना 2021 के लिए जुटाई जाने वाली सूचनाओं का ब्यौरा तय किया था और इसमें अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति से जुड़े सूचनाओं सहित कई क्षेत्रों को शामिल किया गया लेकिन इसमें जाति के किसी अन्य श्रेणी का जिक्र नहीं किया गया है।

सरकार ने कहा कि एसईसीसी 2011 सर्वेक्षण ‘ओबीसी सर्वेक्षण’ नहीं है जैसा कि आरोप लगाया जाता है, बल्कि यह देश में सभी घरों में जातीय स्थिति का पता लगाने की व्यापक प्रक्रिया थी। यह मामला बृहस्पतिवार को न्यायमूर्ति ए. एम. खानविलकर की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए आया, जिसने इस पर सुनवाई की अगली तारीख 26 अक्टूबर तय की।

म्यांमा से विस्थापित हुए लोगों की स्वदेश वापसी के मुद्दे पर भारत का ‘बहुत कुछ दांव’ पर : तिरुमूर्ति