BREAKING NEWS

राहुल गांधी का केंद्र पर तंज, कहा- संक्रमण की गंभीर स्थिति में जिनकी जवाबदेही है वो छिपे बैठे हैं◾विपक्षी नेताओं ने PM को लिखा पत्र: सभी स्रोतों से खरीदा जाए टीका, हर नागरिक का मुफ्त हो टीकाकरण ◾ममता का मोदी को पत्र, कहा- सरकार कोविड रोधी टीकों के विनिर्माण के लिए जमीन और मदद उपलब्ध कराने को तैयार◾दिल्ली में कोरोना के 13,287 नए मामले सामने आए, 300 लोगों की मौत, संक्रमण दर में गिरावट जारी◾उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना ने ली 329 लोगों की जान, 18125 नए मरीजों की पुष्टि◾अब भारत में बनेंगी लंबे समय तक चलने वाली बैटरी, 18 हजार करोड़ के PLI इंसेंटिव को मंजूरी◾कांग्रेस ने केंद्र को बताया आपदा में अवसर वाली सरकार, कहा- चिकित्सा उपकरणों से हटाई जाए GST◾BJP का पलटवार- वैक्सीन को लेकर लगातार भ्रम उत्पन्न करने की कोशिश कर रहा है विपक्ष ◾देश में लगातार दूसरे दिन उपचाराधीन मरीजों की संख्या में आई कमी, 71.22 प्रतिशत मामले 10 राज्यों में आए सामने◾44 देशों में मिला कोरोना का इंडियन वैरिएंट, WHO ने कहा- वायरस का यह स्वरूप है खतरनाक ◾कांग्रेस का सरकार पर कटाक्ष, कहा- चुनाव के बाद विकास 100 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल के साथ वापस आ गया◾क्या ऐसे होगी कोरोना पर जीत? PM केअर्स फंड से फरीदकोट भेजे गए वेंटिलेटर्स में से अधिकतर खराब◾भारत बायोटेक ने दिल्ली को कोवैक्सीन देने से किया इनकार, कई केंद्र करने पड़े बंद- सिसोदिया◾राहुल और प्रियंका का केंद्र पर वार- रेत में सिर डालना सकारात्मकता नहीं, देशवासियों के साथ है धोखा◾इमरान खान का कश्मीर राग बरकरार, कहा- जब तक निर्णय वापस नहीं होगा, भारत से वार्ता नहीं करेगा पाकिस्तान◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में साढ़े 3 लाख से कम मामलों की पुष्टि, 4205 लोगों ने गंवाई जान ◾कोरोना वायरस : 2 से 18 साल के बच्चों पर वैक्सीन के ट्रायल की भारत बायोटेक को मिली मंजूरी ◾गुजरात : कोरोना देखभाल केंद्र में लगी आग, 61 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में किया गया शिफ्ट ◾उत्तर प्रदेश : एएमयू में अब तक 26 प्रोफेसरों की कोरोना से मौत, कोविड के वैरिएंट की होगी जांच◾पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश, तूफान से 8 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

GST की दरें हुई तय, कई चीजें होंगी सस्‍ती 

नई दिल्‍ली : वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने गुरुवार को 1,211 वस्तुओं पर करों की दर पर फैसला कर लिया। इनमें से ज्यादातर वस्तुओं पर 18 फीसदी की दर लगाई गई है। हालांकि सोना और बीड़ी पर करों की दर को लेकर एकराय नहीं बन पाई और चर्चा जारी है। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जीएसटी परिषद की पहले दिन की बैठक के बाद मीडिया को बताया, आज किसी भी सामान पर कर को बढ़ाया नहीं गया। बल्कि कई वस्तुओं पर इससे पहले लगने वाली दरों में कटौती की गई है।

राजस्व सचिव हंसमुख अधिया ने कहा कि करीब 81 फीसदी वस्तुओं पर 18 फीसदी या उससे कम कर रखी गई है। केवल 19 फीसदी वस्तुओं पर सबसे अधिक 28 फीसदी की दर लगाई गई है। उन्होंने कहा कि केवल छह श्रेणियों की वस्तुओं पर कर की दर का फैसला होना बाकी है, जिनमें सोना, बीड़ी और कार शामिल है। वित्त मंत्री ने कहा कि अनाज सहित खाद्य पदार्थ सस्ते हो जाएंगे, क्योंकि उन्हें छूट वाली श्रेणी में शामिल किया गया है। इस श्रेणी में दूध को रखने का भी प्रस्ताव है।

हालांकि डिब्बाबंद या ब्रांडेड खाद्य पदार्थो के बारे में अभी फैसला नहीं लिया गया है। जेटली ने कहा कि शेष वस्तुओं पर कर की दरें परिषद की शुक्रवार की बैठक में तय की जाएंगी। वर्तमान में 400 वस्तुओं को कर से छूट दी गई है। हेयर ऑयल, टूथपेस्ट और साबुन जैसी चीजों पर जीएसटी में 18 फीसदी कर लगेगा, जबकि फिलहाल इन पर 28 फीसदी कर लगाया जाता है। वहीं, चीनी, चाय, कॉफी, खाद्य तेल और कोयले पर 5 फीसदी कर लगेगा।

आपको बता दें कि जीएसटी कर से पहले आम जनता पर 17 टैक्स लगते थे लेकिन अब सिर्फ एक ही टैक्स भरना पड़ेगा। पहले उत्पादन, बिक्री और सेवा तीनों पर कर लगता था अब सिर्फ आपूर्ति व सेवा पर लगेगा। जीएसटी एक पोर्टल से संचालित होगी, जिसका क्रेडिट से रिफंड तक सब कुछ इंटरनेट के जरिए होगा। जीएसटी तीन तरह का है सेंट्रल स्टेट और इंटीग्रेट टैक्स से आने वाले राजस्व का हिसाब किताब रखने के लिए वर्गीकरण किया गया है। राज्य के भीतर कारोबार से मिलने वाले टैक्स पर केंद्र व राज्य का आधा आधा हिस्सा होगा, जबकि किसी अन्य राज्य से कारोबार पर इंटीग्रेटेड जीएसटी के फार्मूले से निपटारा करते हुए केंद्र व उपभोक्ता राज्य के बीच टैक्स की रकम को बराबर बांटा जाएगा। इस तरह के कर सै आम जनता से लेकर व्यापारी वर्ग को भी काफी राहत मिलेगी। जीएसटी की दो दिन की बैठक के पहले दिन 80 से 90 प्रतिशत वस्तुओं और सेवाओं पर कर की दरों का निर्धारण कर लिया है। प्रस्तावित जीएसटी व्यवस्था में चार स्तर की दरें रखी गई हैं, जिनमें रोजमर्रा के इस्तेमाल की आवश्यक वस्तुओं पर पांच प्रतिशत की न्यूनतम रखी गई है।

इन आइटम्स पर नहीं लगेगा कोई टैक्स फ्रेश मीट, फिश चिकन, अंडा, दूध, बटर मिल्क, दही, शहद, फल एवं सब्जियां, आटा, बेसन, ब्रेड, प्रसाद, नमक, बिंदी, सिंदूर, स्टांप. न्यायिक दस्तावेज, प्रिंटेड बुक्स, अखबार, चूड़िया और हैंडलूम जैसे तमाम रोजमर्रा की जरूरतों के आइटम्स को जीएसटी के दायरे से ही बाहर रखा गया है।

इन पर लगेगा 5 पर्सेंट का टैक्स फिश फिलेट, क्रीम, स्किम्ड मिल्ड पाउडर, ब्रैंडेड पनीर, फ्रोजन सब्जियां, कॉफी, चाय, मसाले, पिज्जा ब्रेड, रस, साबूदाना, केरोसिन, कोयला, दवाएं, स्टेंट और लाइफबोट्स जैसे आइटम्स को टैक्स की सबसे निचली 5 पर्सेंट की दर में रखा गया है।