BREAKING NEWS

हर घर तिरंगा अभियान : शौर्य चक्र से सम्मानित सिपाही औरंगजेब की मां ने अपने घर पर फहराया 'तिरंगा'◾दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾जब नीतीश कुमार ने कहा था - येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करूंगा, लेकिन अच्छा काम करूंगा◾न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव◾

हाईकोर्ट ने दुष्कर्म मामले में तरुण तेजपाल को बरी करने के खिलाफ गोवा सरकार को अपील की अनुमति दी

बॉम्बे हाईकोर्ट की गोवा पीठ ने 2013 के यौन उत्पीड़न मामले में पत्रकार तरुण तेजपाल को बरी करने के फैसले के खिलाफ अपील करने के लिए गोवा राज्य को अनुमति दे दी है। निचली अदालत द्वारा तहलका के पूर्व प्रधान संपादक तरुण तेजपाल को बरी करने के आदेश को 'गहरी जांच और पुनर्मूल्यांकन' की जरूरत बताते हुए न्यायालय ने शनिवार को राज्य सरकार को 2013 के दुष्कर्म मामले में पूर्व पत्रकार को बरी किए जाने के खिलाफ अपील करने की अनुमति दी।

अदालत ने कहा संदेशो का पुर्नमूल्यांकन हो सकता हैं 

अदालत ने यह भी नोट किया कि दुष्कर्म पीड़िता के व्यवहार के बारे में ट्रायल जज द्वारा कुछ टिप्पणियों पर फिर से विचार करने की जरूरत है। न्यायमूर्ति एम.एस. सोनाक और न्यायमूर्ति आर. एन. लड्डा ने अपने आदेश में कहा,  हम मानते हैं कि प्रतिवादी के एसएमएस, व्हाट्सएप और पीड़ित को भेजे गए ईमेल संदेशों के साक्ष्य की गहन जांच और पुनर्मूल्यांकन आवश्यक हो सकता है। इस सबूत का मूल्यांकन मामले में पीड़ित की गवाही की पुष्टि के संदर्भ में किया जाना है। 

वकीलों से परामर्श के बाद पुर्नविचार की जरूरत हो सकती हैं 

आदेश में यह भी कहा गया है कि पीड़िता के आचरण के बारे में पिछले साल पारित आदेश में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश क्षमा जोशी द्वारा किए गए निष्कर्षो पर फिर से विचार करने की जरूरत है। अदालत ने कह कि पीड़िता के आचरण के बारे में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीशों के निष्कर्षो को भी फिर से देखने की जरूरत हो सकती है। अपनी शिकायत दर्ज करने से पहले कुछ वकीलों से परामर्श करने के पीड़ित के आचरण से निष्कर्ष पर भी पुनर्विचार की जरूरत हो सकती है। ऐसे बयानों के उचित दायरे के बारे में भी विचार करने की जरूरत है। ये बस एक संक्षिप्त कारण हैं, पूरा सच नहीं है।

तेजपाल पर 2013 में लगा सहयोगी के साथ जबरदस्ती करना का आरोप 

तेजपाल, जिन्होंने राज्य सरकार के उनके बरी होने के खिलाफ अपील करने के फैसले को चुनौती दी थी, ने अपने अपील आवेदन में अभियोजन पक्ष की ओर से प्रक्रियात्मक चूक का दावा किया। तेजपाल पर नवंबर, 2013 में गोवा के एक होटल की लिफ्ट में अपनी जूनियर सहयोगी से जबरदस्ती करने का आरोप लगाया गया था।

2013 में गोवा के पांच सितारा रिसॉर्ट में हुए कथित मामले के संबंध में तेजपाल पर भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (दुष्कर्म), 341 (गलत तरीके से छेड़ना), 342 (गलत कारावास) 354ए (यौन उत्पीड़न) और 354बी (आपराधिक हमला) के तहत आरोप लगाया गया था। 21 मई को, उन्हें गोवा की निचली अदालत ने 'संदेह के लाभ' का हवाला देते हुए बरी कर दिया था, जिसके बाद राज्य सरकार ने एक अपील दायर की थी।