BREAKING NEWS

राजस्थान में गुटबाजी के संकट को टालने के लिये अजय माकन और रणदीप सुरजेवाला जयपुर भेजे गए ◾राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच, सिंधिया का ट्वीट, बोले- कांग्रेस पार्टी में प्रतिभा और क्षमता का स्थान नहीं◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट, बीते 24 घंटे में 7,827 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 2.54 लाख के पार◾राजस्थान सियासी संकट के बीच, ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिले सचिन पायलट ◾सियासी घमासान के बीच, मुख्यमंत्री गहलोत ने सोमवार सुबह 10:30 बजे बुलाई कांग्रेस विधायक दल की बैठक◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 1,573 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1.12 लाख के पार◾राजस्थान घमासान पर सिब्बल ने जताई चिंता, कहा - क्या घोड़ों के अस्तबल से निकलने के बाद ही हम जागेंगे?◾विकास दुबे प्रकरण की जांच के लिए आयोग गठित, रिटायर जज शशि कांत अग्रवाल होंगे अध्यक्ष ◾सरकार पर संकट के बीच CM गहलोत ने आज रात 9 बजे बुलाई विधायकों की बैठक◾राजस्थान सरकार संकट : विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में SOG के नोटिस को CM गहलोत ने बताया सामान्य ◾अमिताभ-अभिषेक के बाद ऐश्वर्या और आराध्या भी कोरोना पॉजिटिव ◾PAK ने फिर शुरू किए आतंकी सरगना हाफिज सईद समेत JuD के नेताओं के बैंक अकाउंट◾राजस्थान में गहलोत सरकार पर संकट, सचिन पायलट विधायकों के साथ दिल्ली पहुंचे ◾कोरोना से निपटने के लिए UP में अब होगा वीकेंड लॉकडाउन, हर शनिवार और रविवार बंद रहेंगे बाजार ◾अनुपम खेर का भी परिवार आया कोरोना की चपेट में, मां समेत 4 सदस्य पॉजिटिव ◾अमित शाह बोले-कोरोना के खिलाफ देश की लड़ाई में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं सुरक्षा बल◾राहुल ने किया ट्वीट- ऐसा क्या हुआ कि मोदी जी के रहते भारत माता की पवित्र जमीन को चीन ने छीन लिया?◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या साढ़े आठ लाख के करीब, अब तक 22674 लोगों की मौत ◾कोरोना से संक्रमित अमिताभ बच्चन की हालत स्थिर, नानावती अस्पताल में इलाज जारी ◾दुनियाभर में वैश्विक महामारी का हाहाकार, कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 27 लाख के करीब◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कैप्टन अमरेंद्र द्वारा औद्योगिक बिजली दरों का मामला विचारने के लिए उच्च स्तरीय बैठक

लुधियाना-पटियाला  : पंजाब के सीएम कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने औद्योग जगत के लिए सस्ती बिजली दरों का मामला विचार-विमर्श के लिए उच्च स्तरीय बैठक करते हुए 2 वरिष्ठ मंत्रियों को आदेश दिया है कि वे मंगलवार को औद्योगपतियों और कारखानेदारों के प्रतिनिधि मंडल से मुलाकात करके सरकार के औद्योग को 5 रूपए प्रति यूनिट के वायदे को जल्द लागू करवाने के साथ-साथ उनकी आशंकाओं को दूर करें। सीएम अमरेंद्र सिंह ने बिजली मंत्री राणा गुरजीत सिंह और वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल को यह भी कहा कि वे औद्योगपतियों से मुलाकात करके बिजली दरों को पिछले वक्त से ना लागू करने के इलावा अन्य संबंधित मामलों को हल करने के लिए रास्ता निकाले। आज की विशेष बैठक उपरांत प्रवक्ता के मुताबिक मुख्यमंत्री ने औद्योग जगत को आ रही मुश्किलों और रैगुलेटर द्वारा तय की गई बिजली दरें लागू करने से संंबंधित पैदा हो रही समस्याओं का गंभीर नोटिस लिया है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने यह भी स्पष्ट किया है कि उनके द्वारा औद्योग जगत को 5 रूपए प्रति यूनिट बिजली देने के किए गए वायदे को लागू करने में हो रही अब देरी ना की जाएं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार राज्य के अंदर एक जनवरी 2018 से नए बिजली ढांचे को यर्थात रूप देने के लिए तैयार है। बैठक में विचारे गए अहम अन्य मुददों में पंजाब राज बिजली रैगुलेटरी कमीशन द्वारा घोषित बिजली दरों को 1अप्रैल 2017 से लागू किया जाना शामिल था। अगर तय दरें मौजूदा रूप में लागू होती है तो 600 करोड़ रूपए का वितीय बोझ है।

जबकि उद्योग द्वारा तय बिजली दरों का विरोध किया जा रहा है जो अपने यूनिट का लोड ठीक करवाने के लिए और अधिक वक्त चाहते है। सीएम ने यह भी कहा कि देखने में आया है कि अधिकांश औद्योगों द्वारा अपनी ईकाईयों के लोड कम करवा लिए गए है। जबकि छोटी ईकाईयों विशेषकर बीमार यूनिट जोकि कम समय चलते है को भी नई 2 निश्चित दरों के ढांचे में बुरी तरह लडख़ड़ाई है। इन यूनिटों द्वारा बिजली दरों को सीमित करने की मांग रखी गई थी, जिनको मंगलवार की मीटिंग के दौरान दोनों मंत्रियों द्वारा विचार-विमर्श किया जाएंगा।

औद्योग को 5 रूपए प्रति यूनिट मुहैया करवाने के वायदे को दोहराते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने चुनावी घोषणा पत्र द्वारा रैगुलर निश्चित दरें लागू करने के साथ पैदा होने वाले अंतर के लिए सरकार एक हद तक सबसिटी मुहैया करवाने पर भी विचार कर रही है। प्रवक्ता के अनुसार बिजली के सहउत्पादन और बीमार औद्योगिक ईकाईयों का मामला भी कमीशन के पास उठाया जाएंगा। मीटिंग में अन्य के अलावा वितमंत्री मनप्रीत सिंह बादल, बिजली मंत्री राणा गुरजीत सिंह और सीएम के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, मुख्य सचिव करण अवतार सिंह और मुख्य सचिव बिजली सतीश चंद्रा समेत पावर कॉम के चेयरमैन कम मैनेजिंग डायरेक्टर ऐ वेणु प्रसाद भी मौजूद थे।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ

- सुनीलराय कामरेड