BREAKING NEWS

नितिन गडकरी की अपील, कहा- सभी दलों को यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू करने के लिए सामूहिक प्रयास करना चाहिए◾Bharat Jodo Yatra: भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होगी सोनिया गांधी, सोमवार से राजस्थान में होगी शुरू◾Border dispute: एमएसआरटीसी ने कोल्हापुर और बेलगावी के बीच बहाल की बस सेवा, हालात सामान्य होने के आसार ◾UP News: धर्मांतरण के बाद युवती के निकाह मामले में 10 के खिलाफ FIR दर्ज, दो गिरफ्तार◾चक्रवाती तूफान मैंडूस का दिखने लगा असर, चेन्नई से 4 उड़ानें रद्द, सरकार ने कसी कमर ◾गुजरात विजय पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- कांग्रेस अपना वजूद ढूंढने को मजबूर◾भाजपा ने गुजरात में विधायक दल के नेता के चयन के लिए पर्यवेक्षक किया नियुक्त, जानें किसे मिली जिम्मेदारी ◾हिमाचल में कांग्रेस की जीत पर बोले अशोक गहलोत- चुनाव जीतने के लिए OPS ने निभाई अहम भूमिका ◾राजस्थान: सीएम गहलोत बोले- बजट में किसानों, पशुपालकों की खुशहाली का रखेंगे ध्यान ◾उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा- सांसद मुद्दों को उठाने से पहले निजी अध्ययनों व आंकड़ों का विश्लेषण करें ◾Delhi News: कांग्रेस को झटका, दो नव-निर्वाचित पार्षद ‘आप’ में हुए शामिल◾CM योगी का ऐलान, कानपुर के पास जल्द होगा अपना हवाई अड्डा ◾शीतकालीन सत्र में पेश हुआ 'यूनिफॉर्म सिविल कोड बिल', पक्ष में पड़े 63 वोट, विपक्ष ने किया जमकर हंगामा◾Noida: नोएडा में दरिंदगी, 14 वर्ष की लड़की के साथ दुष्कर्म, आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें मामला ◾केसीआर की पार्टी का आधिकारिक नाम हुआ बीआरएस, EC ने दी स्वीकृति ◾उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त, बरेली में पेड़ से लटका मिला पांचवीं के छात्र का शव, जांच में जुटी पुलिस ◾गुजरात चुनाव के नतीजों पर कांग्रेस ने दी प्रतिक्रिया, कहा- अब कठोर निर्णय लेने का वक्त◾Indonesia: इंडोनेशिया में कोयले की खदान में भारी विस्फोट, 9 की मौत, अन्य कई घायल ◾दलाई लामा का संदेश, कहा- हथियारों पर बहुत खर्च कर रहे लोग, यह पूरी तरह से गलत ◾मेयर पर आदेश गुप्ता ने तोड़ी चुप्पी- 'AAP' का ही होगा सब कुछ... विपक्ष में अहम भूमिका निभाएगी BJP ◾

हिंदू उत्तराधिकार कानून :महिला के पिता के वारिस भी उसकी संपत्ति का उत्तराधिकार प्राप्त कर सकते - SC

उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि हिंदू उत्तराधिकार कानून के तहत महिला के पिता के वारिस भी उसकी संपत्ति का उत्तराधिकार प्राप्त कर सकते हैं और उन्हें ‘‘ अनजान’ नहीं माना जा सकता। 

न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी की पीठ ने हिंदू उत्तराधिकार कानून की धारा 15(1)(डी) का संदर्भ देते हुए कहा कि हिंदू महिला के पितृ पक्ष के वारिस में उन व्यक्तियों का उल्लेख है जो संपत्ति का उत्तराधिकार प्राप्त करने के अधिकारी हैं। 

पीठ ने कहा कि धारा 15(1)(डी) में इंगित किया गया है कि पिता के वारिस उत्तराधिकारी के तहत कवर है और उत्तराधिकार प्राप्त कर सकते हैं। अगर महिला के पिता के उत्तराधिकारी उन लोगों में शामिल है जो संभवत: उत्तराधिकार प्राप्त कर सकते हैं तो उन्हें महिला के लिए अजनबी या परिवार से अलग नहीं माना जा सकता। 

हिंदू उत्तराधिकार कानून की धारा 15(1)(डी) हिंदू महिला के लिए उत्तराधिकार के सामान्य नियम से संबंधित है जो कहती है कि पिता के वारिसों को भी संपत्ति का उत्तराधिकार दिया जा सकता हैं 

शीर्ष अदालत ने कहा कि ‘परिवार’ शब्द को विस्तृत संदर्भ में समझना चाहिए और यह केवल करीबी रिश्ते या कानूनी वारिस तक ही सीमित नहीं है बल्कि इनमें वे व्यक्ति भी हैं जो किसी तरह पूर्वज से जुड़े हुए हो, दावे का एक अंश हो या भले ही उनके पास एक उत्तराधिकारी हो।’’ 

न्यायालय ने यह फैसला जगनो नाम महिला के उत्तराधिकार विवाद में सुनाया। महिला ने पति शेर सिंह की मौत के बाद संपत्ति का बैनामा अपने भाई के बेटों के नाम करा गई थी। जगनो के इस फैसले को उसके पति के भाई ने चुनौती दी। 

शीर्ष अदालत ने कहा कि जगनो देवी जो वर्ष 1953 में शेर सिंह की मौत के बाद विधवा हुईं और उत्तराधिकार में खेती की आधी जमीन उत्तराधिकार में मिली और जब उन्होंने उत्तराधिकार में जमीन दी तब वह उसकी मालकिन थी। 

पीठ ने कहा, ‘‘इसलिए हम याचिककर्ता के वकील के तर्क को योग्य नहीं पाते कि प्रतिवादी परिवार के लिए अजनबी हैं। हम इस अपील में योग्य नहीं पाते। ’’