BREAKING NEWS

शिवसेना ने केंद्र पर लगाया हिंदुओं-मुसलमानों का ‘अदृश्य विभाजन’ करने का आरोप◾कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का जन्मदिन आज, PM मोदी समेत कई नेताओं ने दी बधाई◾दिल्ली: अनाज मंडी में 24 घंटे बाद फिर लगी इमारत में आग, मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ियां◾कर्नाटक उपचुनाव : येदियुरप्पा का दावा- भाजपा जीतेगी 15 में से 13 सीटें◾कर्नाटक उपचुनाव : मतगणना जारी, परिणाम तय करेंगे BJP का भविष्य ◾असम में नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ 16 संगठनों का मंगलवार को बंद का आह्वान ◾दिल्ली : आग की त्रासदी के बाद अस्पताल में भयावह दास्तां ◾दिल्ली अग्निकांड : दमकलकर्मी ने इमारत में फंसे 11 लोगों को बचाया ◾दिल्ली अग्निकांड : इमारत का पिछले हफ्ते हुआ था सर्वेक्षण, ऊपरी मंजिलों पर ताला लगा हुआ था - अधिकारिक सूत्र◾नागरिकता संशोधन विधेयक सोमवार को लोकसभा में पेश करेंगे शाह◾प्रियंका गांधी वाड्रा ने UP में त्वरित सुनवायी अदालत के गठन में देरी पर सवाल उठाया ◾भाजपा ने अपने सांसदों के लिए व्हिप किया जारी , 11 दिसंबर तक सदन में रहें मौजूद ◾तिरुवनंतपुरम टी-20 : शिवम के अर्धशतक पर भारी सिमंस की पारी, विंडीज ने की बराबरी◾मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों, जम्मू-कश्मीर व लद्दाख को सर्वोच्च प्राथमिकता दी : जितेंद्र सिंह ◾PM मोदी ने महिलाओं को सुरक्षित महसूस कराने में प्रभावी पुलिसिंग की भूमिका पर जोर दिया ◾भाजपा 2022 के मुंबई नगर निकाय चुनाव अकेले लड़ेगी ◾देश में आग की नौ बड़ी घटनाएं ◾भाजपा पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस पहले 70 साल का हिसाब दे : स्मृति इरानी◾PM मोदी ने पुणे के अस्पताल में अरुण शौरी से मुलाकात की◾दिल्ली अनाज मंडी हादसा में फैक्ट्री मालिक हिरासत में◾

देश

गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर के हालात की समीक्षा की

 amit shah 12002

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर के हालात की समीक्षा की और भविष्य के कदमों पर चर्चा की। शाह ने यह समीक्षा राज्य के विभाजित होकर केंद्र शासित प्रदेश बनने के छह दिनों बाद की है। करीब 30 मिनट चली बैठक में शाह को जम्मू-कश्मीर में लिए जा रहे प्रशासनिक उपायों के बारे में अवगत कराया गया, जिससे वहां के निवासियों को केंद्र की योजनाओं का लाभ मिल सके, जिसे वे पहले अनुच्छेद 370 की वजह से नहीं प्राप्त कर सकते थे। 

अनुच्छेद 370 पूर्व राज्य को विशेष दर्जा प्रदान करता था। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, गृह सचिव अजय कुमार भल्ला, जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव बी.वी. आर सुब्रह्मण्यम और जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह शामिल थे। 

सूत्रों ने कहा कि उप राज्यपाल जी.सी. मुर्मू को भी बैठक में भाग लेना था, लेकिन वह बैठक में नहीं भाग ले सके। 31 अक्टूबर को केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद से जम्मू-कश्मीर पर गृहमंत्री द्वारा आयोजित यह पहली विस्तृत बैठक थी।