BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका में ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष से मुलाकात की◾कोलकाता नाइट राइडर्स ने मुंबई इंडियंस को सात विकेट से हराया◾मोदी ने की अमेरिकी सौर पैनल कंपनी प्रमुख के साथ भारत की हरित ऊर्जा योजनाओं पर चर्चा◾सेना की ताकत में होगा और इजाफा, रक्षा मंत्रालय ने 118 अर्जुन युद्धक टैंकों के लिए दिया आर्डर ◾असम के दरांग जिले में पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच में झड़प, 2 प्रदर्शनकारियों की मौत,कई अन्य घायल◾दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए घर पर ही की जाएगी टीकाकरण की सुविधा, केंद्र सरकार ने दी मंजूरी◾अमरिंदर का सवाल- कांग्रेस में गुस्सा करने वालों के लिए स्थान नहीं है तो क्या 'अपमान करने' के लिए जगह है◾तेजस्वी का तंज- 'नल जल योजना' बन गई है 'नल धन योजना', थक चुके हैं CM नीतीश ◾अमरिंदर के राहुल, प्रियंका को ‘अनुभवहीन’ बताने पर कांग्रेस ने कहा - बुजुर्ग गुस्से में काफी कुछ कहते है ◾जम्मू-कश्मीर : सेना का बड़ा ऑपरेशन, LoC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, तीन आतंकवादी ढेर◾आखिर किसने उतारा महंत नरेंद्र गिरी का शव, पुलिस के आने से पहले क्या हुआ शिष्य ने किया खुलासा ◾गैर BJP शासित राज्यों के राज्यपालों को शिवसेना ने बताया 'दुष्ट हाथी', कहा- पैरों तले कुचल रहे हैं लोकतंत्र ◾'धनबाद के जज उत्तम आनंद को जानबूझकर मारी गई थी टक्कर', CBI ने झारखंड HC को दी जानकारी◾महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत के बाद कमरे का वीडियो आया सामने, जांच के लिए प्रयागराज पहुंची CBI◾दिल्ली हाईकोर्ट में केंद्र ने कहा - पीएम केयर्स कोष सरकारी कोष नहीं है, यह पारदर्शिता से काम करता है◾अमेरिकी मीडिया में छाई पीएम मोदी और कमला हैरिस की मुलाकात, भारतीय अमेरिकियों के लिए बताया यादगार क्षण◾फोटो सेशन के लिए विदेश जाने की बजाए कोरोना मृतकों के लिए 5 लाख का मुआवजा दे PM : कांग्रेस ◾कांग्रेस में जारी है असंतुष्टि का दौर, नाराज जाखड़ पहुंचे दिल्ली, राहुल-प्रियंका समेत कई नेताओं से करेंगे मुलाकात ◾हिंदू-मुस्लिम आबादी पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने समझाया अपना 'गणित'◾अनिल विज का आरोप, भविष्य में पंजाब और PAK को नजदीक लाना चाहती है कांग्रेस◾

गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन के दौरान सभी जरूरी और गैर जरूरी वस्तुओं के परिवहन की दी अनुमति

लॉकडाउन के बीच देश के नागरिकों को किसी तरह की वस्तुओं का अभाव न हो उसका केंद्र सरकार खासा ध्यान रख रही है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन के दौरान अलग-अलग राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों एवं बेघरों को आश्रय मुहैया कराने के लिए राज्य आपदा राहत कोष (एसडीआरएफ) के इस्तेमाल और देश में सभी जरूरी एवं गैर-जरूरी वस्तुओं की ढुलाई की अनुमति दी है। 

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर यह आदेश दिया है। पत्र में मुख्य सचिवों को प्रवासी श्रमिकों समेत बेघर लोगों को आश्रय एवं भोजन मुहैया कराने के लिए राहत शिविर स्थापित करने के लिए कहा गया है। 

पत्र में कहा गया है, ‘‘मैं यह सूचित करना चाहता हूं कि देश में कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू बंद के कारण फंसे प्रवासी मजदूरों समेत बेघर लोगों और राहत शिविरों एवं अन्य स्थानों में शरण लेने वाले लोगों को भोजन मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार ने एसडीआरएफ के इस्तेमाल की अनुमति दे दी है।’’ 

इसमें कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन कानून लागू करने के लिए पहले ही आदेश दे दिया है जिसके तहत जिला प्राधिकारियों को प्रवासी श्रमिकों का आवागमन रोकने के लिए अतिरिक्त कदम सख्ती से लागू करने और उन्हें पृथक रहने की सुविधाएं, आश्रय एवं भोजन मुहैया कराने तथा यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि उनके वेतन का भुगतान किया जाए और उनके मकान-मालिक उन्हें घरों से नहीं निकालें। 

गृह सचिव ने एक पत्र में कहा, ‘‘इसका सख्ती से क्रियान्वयन सुनिश्चित किए जाने की आवश्यकता है।’’ पत्र में यह स्पष्ट किया गया कि सभी जरूरी और गैर जरूरी वस्तुओं में भेद किए बिना सभी सामान की ढुलाई की अनुमति दी गई है। गृह सचिव ने स्पष्ट किया कि प्रिंट मीडिया के लिए छूट के तहत अखबार आपूर्ति की व्यवस्था को भी इजाजत दी गयी है। 

लॉकडाउन उल्लंघन पर केंद्र सख्त, दिल्ली और नोएडा में बेवजह बाहर निकलने पर होगी FIR

भल्ला ने कहा कि बंद की अवधि के दौरान पैकेटबंद सामग्री सहित दुग्ध संग्रहण और वितरण की आपूर्ति श्रृंखला को भी अनुमति दी गयी है। उन्होंने बताया कि हैंडवाश, साबुन, मुंह धोने वाली सामग्री जैसे साफ-सफाई के सामान, बैटरी और चार्जर की भी अनुमति दी गयी है। 

इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी की सेवाओं को राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की व्यवस्था में शामिल किया गया है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन को भी छूट दी गई और कम से कम कर्मियों के साथ काम करने को कहा गया है। कोरोना वायरस (कोविड-19) को काबू करने के लिए  केंद्र सरकार द्वारा 21 दिनों का लॉकडाउन लगाया गया है। लॉकडाउन का उल्लंघन होने पर केंद्र ने राज्यों सरकारों से राज्यों को सीमाएं सील करने का निर्देश दिया है। हालांकि इस दौरान जरुरी सामानों को लाने ले जाने वाले वाहनों पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया जाएगा।