BREAKING NEWS

गुजरात में चक्रवात तौकते का खतरा बरकरार, डेढ़ लाख लोगों को निचले तटीय क्षेत्रों में किया गया स्थानांतरित◾कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी खुराक के लिए पहले से लिया गया अप्वाइंटमेंट रहेगा वैध : केंद्र ◾CM केजरीवाल बोले- केंद्र एवं वैक्सीन निर्माताओं को लिखा पत्र, लेकिन दिल्ली को अभी टीका मिलने की कोई उम्मीद नहीं◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण दर में आई गिरावट, 24 घंटे में 6456 नए केस और 262 की मौत◾देश में कोविड के 36,18,458 इलाजरत मरीज, संक्रमण दर 16.98 फीसदी: केंद्र सरकार◾केंद्र सरकार ने ग्रामीण एवं शहरों से सटे इलाकों में कोविड प्रबंधन पर जारी किए नए दिशा-निर्देश ◾हरियाणा में लॉकडाउन 24 मई तक बढ़ा, गृह मंत्री अनिल विज ने ट्वीट कर दी जानकारी◾राहुल का केंद्र पर वार- बच्चों की वैक्सीन क्यों भेज दी विदेश, अब मुझे भी करो गिरफ्तार ◾चक्रवाती तूफान के तेज होने की संभावना, कल शाम गुजरात के तट से टकराएगा तौकते, भारी बारिश की चेतावनी◾PM मोदी ने UP सहित चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों से की बात, कोविड प्रबंधन पर हुई चर्चा◾दिल्ली में एक हफ्ते के लिए बढ़ाया गया लॉकडाउन, अब 24 मई सुबह 5 बजे तक रहेंगी पाबंदियां◾चक्रवाती तूफान ''तौकते'' गोवा के तटीय क्षेत्र से टकराया, शाह ने की मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक ◾कोरोना को मात देने के लिए अब बनेगी स्पूतनिक v की सिंगल-डोज वैक्सीन, भारत में जल्द आएगा टीके का लाइट वर्जन◾हैदराबाद पहुंचा रुसी वैक्सीन SPUTNIK V का दूसरा जत्था, कोरोना महामारी के नए वेरिएंट पर भी प्रभावी◾देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में गिरावट, पिछले 24 घंटे में 3.11 लाख केस, 4077 मरीजों ने तोड़ा दम◾कोरोना से ठीक होने के बाद कांग्रेस MP राजीव सातव का निधन, सुरजेवाला बोले- अलविदा मेरे दोस्त◾इजराइल और फिलिस्तीन के बीच संघर्ष जारी, गाजा में हमास नेता के घर बमबारी की◾कोरोना को रोकने के लिए कई राज्यों ने किया प्रतिबंधों में विस्तार, जानिए भारत में क्या है लॉकडाउन का हाल◾विश्व में कोरोना संक्रमितों से मरने वालों का आंकड़ा 33.6 लाख हुआ, US, ब्राजील समेत इटली प्रभावित◾पश्चिम बंगाल में कोरोना को काबू करने के लिए आज से लॉकडाउन जारी, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, मॉल और बार रहेंगे बंद ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

लॉकडाउन के वक्त कितने प्रवासी मजदूरों की जान गई? केंद्र सरकार ने संसद में दिया ये जवाब

कोरोना संकट के बीच आज से संसद के मानसून सत्र की शुरुआत हो चुकी है, सत्र के पहले दिन केंद्र सरकार का सामना विपक्ष के तीखे सवालों से हुआ। विपक्ष ने लॉकडाउन और कोरोना वायरस को लेकर केंद्र से कई सवाल किए। इन्ही सवालों में से केंद्र से एक सवाल लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की मौत को लेकर किया गया, जिसके जवाब में केंद्र ने कहा कि उनके पास इससे जुड़ा कोई डाटा नहीं।

लोकसभा में सवाल किया गया था कि क्या सरकार इस बात से अवगत है कि घरों को लौटते हुए कई मजदूरों की रास्ते में मौत हो गई और क्या राज्यवार मृतकों की संख्या उपलब्ध है? यह भी पूछा गया कि क्या पीड़ितों को सरकार ने कोई मुआवजा या आर्थिक सहायता दी?

भाजपा के सदस्य जगदम्बिका ने लोकसभा में राजस्थानी,  भोंटी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग की

इसके जवाब में कहा कि मृतकों की संख्या को लेकर कोई डेटा उपलब्ध नहीं है। केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय ने कहा कि चूंकि इस तरह का डेटा नहीं जुटाया गया था इसलिए पीड़ितों या उनके परिवारों को मुआवजे का सवाल नहीं उठता। एक अन्य सवाल प्रवासी श्रमिकों को हुई परेशानी का अनुमान लगाने में सरकार की विफलता को लेकर पूछा गया था। इसके अलावा लिखित सवाल में कोरोना संकट के दौरान सरकार द्वारा उठाए गए अन्य कदमों की जानकारी मांगी गई।

गौरतलब है की देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान कामकाज ठप होने की वजह से प्रवासी मजदूरों की आजीविका खतरे में पड़ गई। जिसके कारन शहरी इलाकों में रह रहे मजदूरों ने अपने स्थानीय आवासों का रुख कर लिया। लेकिन वाहन सेवा ठप होने के चलते प्रवासी पैदल ही घर जाने लगे थे, इस दौरान कई मजदूरों की एक्सीडेंट, भूख-प्यास और तबीयत खराब होने के कारण मरने की खबरें भी आई थी।