BREAKING NEWS

लालू की बेटी रोहिणी को लेकर गिरिराज का ट्वीट, भर-भर कर डाली तारीफ... अगली पीढ़ी के लिए बनोगी उदहारण◾एशिया के सबसे बड़े दानवीरों की लिस्ट में गौतम अडानी समेत तीन भारतीयों के नाम हुए शामिल◾PFI case: इसरार अली और मोहम्मद समून को मिली राहत, अदालत ने दी सशर्त जमानत ◾Babri Masjid Demolition Anniversary : बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾AYODHYA ;बाबरी मस्जिद गिराए जाने के तीन दशक बाद तीर्थनगरी का माहौल कैसा?◾Yamuna Expressway: दुर्घटनाएं रोकने के लिए 15 दिसंबर से गति सीमा में होगा बदलाव, नहीं दौड़ पाएंगे तेज वाहन◾CANADA MURDER : कनाडा में भारतीय महिला के सिर पर गोली मारकर शूटर हुआ फ़रार, पुलिस कर रही तलाश ◾अधीर रंजन चौधरी ने केंद्र की नीतियों को लिया आडे़ हाथों, संसद के शीतकालीन सत्र की तारीख को लेकर कही यह बात◾MCD चुनाव 2022: तारीख, समय और परिणाम◾इंडोनेशिया में नया कानून, प्री-मैरिटल सेक्स बैन, अपराध श्रेणी में Live-in-relationship◾मार्केट में 500 रुपये के नकली नोट होने की खबर, RBI ने दी जानकारी...जानें किसे बताया जा रहा जाली ◾6 दिसंबर का दिन हमारी पीढ़ी कभी नहीं भूलेगी.... लोकतंत्र का काला दिन, बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾बिहार पुलिस में बंपर बहाली, 62 हजार नए पदों पर मिलेगी नौकरी, महिलाओं को भी दिया जाएगा 35% आरक्षण◾भारत के मिसाइल परीक्षण से कांप रहा चीन, डर के कारण ओसियन क्षेत्र में भेजा जासूसी पोत◾नोएडा में तेज रफ़्तार का कहर, जगुआर कार की टक्कर से स्कूटी सवार युवती की मौत◾लालू यादव की किडनी ट्रांसप्लांट सफल, ऑपरेशन के बाद बाप-बेटी दोनों स्वस्थ, मीसा भारती ने शेयर की वीडियो◾Mahakal temple: 20 दिसंबर से मंदिर में मोबाइल ले जाने पर प्रतिबन्ध, प्रसादी भी हुई महंगी◾दिल्ली HC ने दी 8 माह से अधिक के गर्भ को गिराने की अनुमति, कहा- मां का फैसला ही सर्वोपरि◾राहुल गांधी के थमते ही कमान संभालेंगी प्रियंका, 26 जनवरी को श्रीनगर पहुंचकर फहरा सकते तिरंगा !◾गुजरात, हिमाचल के विधानसभा और दिल्ली के MCD में समझिए पार्टियों का गणित, Exit Poll के बाद इस पार्टी पर लगा ग्रहण ◾

ICAR ने मखाना उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए प्रौद्योगिकी विकसित की: कृषि मंत्री

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मंगलवार को कहा कि देश के प्रमुख कृषि-अनुसंधान निकाय आईसीएआर ने मखाना की मांग में वृद्धि के बीच इसके उत्पादन को बढ़ाने के लिए एक तकनीक विकसित की है। तोमर ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, ‘‘पिछले कुछ वर्षों के दौरान विभिन्न खाद्य सामग्रियों में मखाना का उपयोग भी बढ़ रहा है।’’

उन्होंने कहा कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने फसल प्रणाली प्रारूप में मखाने की खेती के लिए प्रौद्योगिकी विकसित की है और उत्पादकता में सुधार के लिए जल अधिशेष पारिस्थितिकी के लिए मखाना आधारित एकीकृत कृषि प्रणाली विकसित की गई है।उन्होंने कहा कि वर्तमान में, मखाना की व्यावसायिक खेती मुख्य रूप से बिहार तक ही सीमित है। वर्ष 2020-21 के दौरान इसका उत्पादन 56,194.59 टन रहा तथा उत्पादन का राज्य-वार आंकड़ा उपलब्ध नहीं है।

मंत्री ने कहा कि बिहार सरकार ने भी एक राज्य प्रायोजित योजना - मखाना विकास योजना तैयार की है, जो राज्य में मखाना के समग्र विकास के लिए, विशेष रूप से उत्पादन बढ़ाने पर जोर देती है।इसके अलावा, बिहार में राज्य बागवानी उत्पाद विकास योजना के माध्यम से मखाना उत्पादकों का समर्थन किया जाता है। उन्होंने कहा कि स्वर्ण वैदेही और सबौर मखाना-वन जैसी अधिक उपज वाली किस्मों के कारण उत्पादकता 16 टन प्रति हेक्टेयर से बढ़कर 28 टन प्रति हेक्टेयर हो गई है।