BREAKING NEWS

गाइड के कहने पर ताजमहल में पत्नी मेलानिया का हाथ थामकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने की चहलकदमी◾कोर्ट ने उपमुख्यमंत्री सिसोदिया को क्लीनचिट देने वाली एटीआर की खारिज, नयी रिपोर्ट दाखिल करने के दिए निर्देश ◾राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सम्मान में आयोजित भोज में शामिल नहीं होंगे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने बांग्लादेश को 18 रन से हराया, लगातार दूसरी जीत दर्ज की ◾TOP 20 NEWS 24 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ताजमहल का दीदार करके दिल्ली पहुंचे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप◾महाराष्ट्र : मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बोले- गठबंधन के भागीदारों के बीच कोई मतभेद नहीं◾जाफराबाद में CAA को लेकर पथराव, गाड़ियों में लगाई गई आग, एक पुलिसकर्मी की मौत◾मोटेरा स्टेडियम में दिखी ट्रंप और मोदी की दोस्ती, दोनों दिग्गज ने एक-दूसरे की तारीफ में पढ़ें कसीदे ◾दिल्ली के मौजपुर में लगातार दूसरे दिन CAA समर्थक एवं विरोधी समूहों के बीच झड़प ◾CM केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने दिल्ली विधानसभा की सदस्यता की शपथ ली◾ट्रम्प के स्वागत में अहमदाबाद तैयार, छाए भारत-अमेरिकी संबंधों वाले इश्तेहार◾दिल्ली और झारखंड में BJP विधानमंडल दल के नेता का आज होगा ऐलान ◾जाफराबाद में CAA को लेकर हुई पत्थरबाजी के बाद इलाके में तनाव, मेट्रो स्टेशन बंद◾Modi सरकार ने पद्म सम्मान के लिये ‘गुमनाम’ चेहरे खोजे : केंद्रीय मंत्री◾अब कुछ ही घंटो में भारत यात्रा के लिए अहमदाबाद पहुंचेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति Trump , मोदी को बताया दोस्त◾मेलानिया का स्वागत करके खुशी होती, हमने अमेरिकी दूतावास की चिंताओं का किया सम्मान : मनीष सिसोदिया◾Trump की भारत यात्रा से किसी महत्वपूर्ण परिणाम के सकारात्मक संकेत नहीं हैं : कांग्रेस◾US राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत के लिए रवाना, कल सुबह 11.55 बजे पहुंचेंगे अहमदाबाद, जानिए ! पूरा कार्यक्रम◾अमेरिकी दूतावास की सफाई - स्कूल में मेलानिया के साथ CM केजरीवाल की मौजूदगी से कोई आपत्ति नहीं◾

मोदी सरकार में मैं वित्त मंत्री होता तो इस्तीफा दे देता : चिदंबरम

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने अर्थव्यवस्था की मौजूदा स्थिति को ‘चिंताजनक’ करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि अगर नरेंद्र मोदी सरकार में वह वित्त मंत्री होते तो अब तक इस्तीफा दे चुके होते। उन्होंने यह भी कहा कि लेखानुदान/अंतरिम बजट में सरकार आगामी आम चुनाव के मद्देनजर लोकलुभावन घोषणाएं कर सकती है, लेकिन इसका असर नहीं होगा क्योंकि लोग समझते हैं कि इस सरकार ने पिछले साढ़े चार साल में कुछ नहीं किया।

पूर्व वित्त मंत्री ने एक सवाल के जवाब में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम इस सरकार से कुछ उम्मीद नहीं करते हैं। चुनाव नजदीक है। 60 दिनों में यह सरकार कुछ ऐसा नहीं कर सकती जिससे अर्थव्यवस्था की स्थिति में सुधार हो। अर्थव्यवस्था की स्थिति बहुत खराब है। हर सूचकांक चिंता में डालने वाला है। हमें अब अगली सरकार में विश्वास करना होगा।’’ उन्होंने कहा कि उनका अनुमान यह है कि पिछले कुछ वर्षों की तरह इस बार भी सरकार वित्तीय घाटे को कम करने के लक्ष्य तक पहुंचने में विफल रहेगी।

चिदंबरम ने दावा किया कि नोटबंदी के रूप में ‘भयावह’ निर्णय तथा जीएसटी को गलत ढंग से लागू करने के अलावा पिछले पांच साल में इस सरकार ने अर्थव्यस्था के मोर्चे पर ऐसा कुछ नहीं किया जिसका उल्लेख किया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर वो चुनाव जीतने के लिए कुछ घोषणाएं करते हैं तो मुझे नहीं लगता कि इसका कोई असर होगा। लोग बेवकूफ नहीं है। लोग समझते हैं कि जब साढ़े चार साल में कुछ नहीं किया तो अब क्या हो सकता है।’’

यह पूछे जाने पर कि अगर वह इस सरकार में वित्त मंत्री होते तो क्या कदम उठाते तो चिदंबरम ने कहा, ‘‘अगर राजग सरकार में मैं वित्त मंत्री होता तो इस्तीफा दे देता।’’ इस सवाल पर कि क्या सरकार चुनाव को देखते हुए बड़ी घोषणाएं कर सकती तो चिदंबरम ने तंज कसते हुए कहा, ‘‘चुनाव से ठीक पहले अतीत में एक या दो छोटे बदलाव अथवा घोषणा होती रही हैं। लेकिन कोई बड़ी घोषणाएं नहीं होती हैं। देखिए ये लोग क्या करते हैं। मुझे नहीं लगता कि यह सरकार किसी परिपाटी में विश्वास करती है। यह खुद की परिपाटी बनाती है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘संप्रग की पहली सरकार के समय जीडीपी की विकास दर आजाद भारत या इससे पहले किसी भी पांच साल के मुकाबले सबसे ज्यादा थी।’’