BREAKING NEWS

आतंकी मॉड्यूल : ISI प्रशिक्षित आतंकवादी भारत में पुलों, रेलवे पटरियों को उड़ाने वाले थे - आधिकारिक सूत्र◾केशव प्रसाद मौर्य ने सपा पर साधा निशाना , कहा - रोजा-इफ्तार पार्टी करने वाले अब मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं◾RSS पर विवादित बयान देने पर राहुल पर प्राथमिकी दर्ज करने पर विचार कर रहे हैं नरोत्तम मिश्रा◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुणे के दगडूशेठ हलवाई गणपति ट्रस्ट की सराहना की◾SC, ST, OBC , अल्पसंख्यक, महिलाओं के लिए योजनाओं को लेकर केंद्र ने GoM का किया गठन◾केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ शिरोमणि अकाली दल शुक्रवार को दिल्ली में करेगा प्रदर्शन ◾कोविड-19 टीकाकरण को लेकर गोवावासियों को संबोधित करेंगे PM मोदी◾भारत ने अमेरिका में खालिस्तानी अलगाववादी समूहों की गतिविधियों पर चिंता व्यक्त की◾कोविड-19 की बूस्टर खुराक फिलहाल केंद्रीय विषय नहीं : केंद्र◾गुजरात : CM भूपेंद्र पटेल ने अपने पास रखे कई मंत्रालय, कनुभाई देसाई को वित्त विभाग की जिम्मेदारी सौंपी◾वित्त मंत्री सीतारमण बोली- कोरोना महामारी के समय जनधन-आधार-मोबाइल की तिगड़ी पासा पलटने वाली साबित हुई◾विराट कोहली ने किया बड़ा ऐलान, विश्व कप के बाद छोड़ेंगे टी-20 प्रारूप की कप्तानी◾एक समय था जब गुजरात को कहा जाता था कर्फ्यू राजधानी, BJP सरकार ने मजबूत की कानून-व्यवस्था : शाह◾कांग्रेस ने ICMR पर कोरोना से जुड़े तथ्य छिपाने का लगाया आरोप, आपराधिक जांच की मांग की ◾BJP ने राहुल को बताया 'इच्छाधारी हिंदू', कहा- जब व्यक्ति का ‘मूल पिंड’ विदेशी हो, तो रहती है ये विसंगती ◾PM मोदी के जन्मदिन पर दिव्यांगों को मिलेगी सौगात, गुजरात में शुरू होगी ‘मोबाइल वैन’ सेवा◾अमेरिकी दूत का दावा- असरफ गनी के अचानक बाहर निकलने से तालिबान का सत्ता बंटवारा समझौता ठप◾गुजरात की नई कैबिनेट में पटेल समुदाय का दबदबा, कुल 24 मंत्रियों ने ली शपथ◾UP में सरकार बनने पर हर घर को 300 यूनिट बिजली मुफ्त देगी AAP पार्टी, मनीष सिसोदिया ने की घोषणा◾हैदराबाद रेप-मर्डर : रेलवे ट्रैक पर मिली आरोपी की लाश, 6 साल की बच्ची के साथ किया था दुष्कर्म◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

IMA की PM मोदी से अपील, बिना किसी भय के चिकित्सा पेशेवरों के लिए सुनिश्चित करें उचित माहौल

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की कि वह काउंसिल की लंबे समय से लंबित याचिकाओं को हल करने के लिए हस्तक्षेप करें और मानसिक और शारीरिक भय के बिना चिकित्सा पेशेवरों के लिए उचित माहौल सुनिश्चित करें।

मेडिकल काउंसिल ने आईसीएमआर और कोविड के मार्गदर्शन के साथ ही मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी किए गए टीकों और आधुनिक चिकित्सा के साक्ष्य आधारित वैज्ञानिक प्रोटोकॉल के संबंध में अविश्वास और गलत सूचना फैलाने के कुछ लोगों के निरंतर प्रयासों पर नाराजगी व्यक्त की।

डॉक्टरों और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के खिलाफ शारीरिक हिंसा की बढ़ती घटनाओं को उठाते हुए, आईएमए ने कहा कि असम में एक युवा डॉक्टर पर क्रूर हमला और देश भर में महिला डॉक्टरों और यहां तक कि अनुभवी चिकित्सकों पर हमले से चिकित्सक मानसिक आघात का सामना कर रहे हैं। हजारों लोगों की समर्पित सेवा के कारण कई युवा डॉक्टरों ने भी अपनी जान गंवाई है, जिसने न केवल डॉक्टरों को बल्कि उनके कई करीबी परिवार के सदस्यों को भी प्रभावित किया है।

ऐसे मामले हैं जहां पति और पत्नी दोनों डॉक्टर थे और कोरोना से उनके निधन के बाद उनके बच्चे अनाथ हो गए। '' हमारे डॉक्टरों पर निरंतर और चल रहे शारीरिक और मानसिक हमले के साथ-साथ निहित स्वार्थ वाले कुछ लोगों द्वारा आधुनिक चिकित्सा और टीकाकरण के खिलाफ गलत सूचना का उद्देश्यपूर्ण प्रसार कर रहे हैं। ''

आईएमए ने कहा, '' हम एक बार फिर से आपसे (प्रधान मंत्री से) व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप करने और हमारी लंबे समय से लंबित याचिकाओं को हल करने के लिए अपील करने के लिए विवश है।'' आईएमए ने उल्लेख किया कि पूरी चिकित्सा बिरादरी कोविड -19 के खिलाफ युद्ध में अग्रिम मोर्चे पर जूझ रही है और इस युद्ध में अपने सक्रिय दिग्गजों और गतिशील युवाओं में से 1,400 लोगों की जान भी चली गई है।

आईएमए ने प्रधानमंत्री से अपील की कि वे टीकाकरण अभियान के खिलाफ गलत सूचना फैलाने वालों को कानून की जद में लगाएं ओर दंडित करें। कोविड -19 महामारी के खिलाफ युद्ध में अपनी जान गंवाने वाले डॉक्टरों को उनके बलिदान की स्वीकार्यता के साथ कोविड शहीदों के रूप में पहचाना जाना चाहिए और उनके परिवारों को सरकार द्वारा विधिवत समर्थन दिया जाना चाहिए। आईएमए ने प्रधानमंत्री से इन सभी पीड़ितों की पहचान और सत्यापन के लिए एक प्रभावी तंत्र बनाने का भी अनुरोध किया।