BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : राष्ट्रवादी व सांस्कृतिक नारों के साथ स्पीकर ने गृहण किया पदभार◾President Election: द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में विपक्ष एकजुट? लगातार बढ़ रही यशवंत सिन्हा की मुश्किलें ◾ न्यायपालिका की स्थिति पर बोले सांसद कपिल सिब्बल - मेरा सिर शर्म से झुक जाता हैं ◾महाराष्ट्र : दोनों सदनों में ससुर -दामाद ही पीठासीन, ससुर विधानपरिषद के चैयरमैन व दामाद बनें विधानसभा अध्यक्ष ◾अपने ही गढ़ में मिली करारी हार के बाद अखिलेश का बड़ा फैसला, राष्ट्रीय कार्यकारिणी समेत सभी संगठन भंग ◾ नई विदेश नीति लाने की तैयारी में वाणिज्य मंत्रालय, सितंबर से पहले उठाया जा सकता हैं कदम ◾Maharashtra Assembly Speaker: BJP विधायक राहुल नार्वेकर ने मारी बाजी, 164 वोटों के साथ जीता चुनाव ◾एकनाथ शिंदे : ऑटो वाले से महाराष्ट्र के CM की कुर्सी तक का सफर, सब्र का नहीं बगावत का फल निकला मीठा◾महाठग सुकेश ने तिहाड़ प्रशासन को फिर दिखाया ठेंगा, सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लगाकर किया यह 'कारनामा' ◾कुर्सी बचाने के लिए मुगलों की नीति पर चल रहे हैं अखिलेश, सपा बन चुकी है ‘समाप्तवादी पार्टी’ : निरहुआ◾लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को ग्रामीणों ने दबोचा, प्रशासन ने दिया 2 लाख का नकद इनाम ◾'उल्टी गिनती शुरू.. अगला नंबर तेरा', Ex रोडीज निहारिका को मिली धमकी, उदयपुर हत्यकांड पर की थी निंदा ◾पर्यटक कृपया ध्यान दें, उत्तराखंड में भारी बारिश को लेकर चेतावनी, राजधानी समेत इन जिलों में अलर्ट जारी ◾असम बाढ़ से जिंदगी मुहाल, 22.17 लाख से अधिक अब भी फंसे, मरने वालों की संख्या बढ़कर 174◾India Corona Update: देश में कोरोना के 16,103 नए मामलों की हुई पुष्टि, जानें कितने लोगों ने गंवाई जान ◾शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुटविधायक दल के कार्यालय को किया सील, श्वेत पत्र चिपकाया ◾आज का राशिफल ( 03 जुलाई 2022)◾BJP कर रही है ‘रचनात्मक’ राजनीति, विपक्षी दलों की भूमिका ‘विनाशकारी’ : जे पी नड्डा◾महाराष्ट्र : शिंदे का समर्थन कर रहे शिवसेना के बागी विधायक गोवा से मुंबई लौट , विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव रविवार को◾PM मोदी की अगवानी ना कर KCR ने व्यक्ति नहीं संस्था का किया अपमान : BJP◾

देश में बीते 10 साल में असुक्षित यौन संबंध के कारण 17 लाख लोग HIV से संक्रमित हुए

देश में बीते 10 साल में असुरक्षित यौन संबंध के कारण 17 लाख से अधिक लोग एचआईवी से संक्रमित हुए हैं। यह जानकारी राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन ने एक आरटीआई आवेदन के जवाब में उपलब्ध कराई है। हालांकि ‘ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस’ (एचआईवी) से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या पिछले 10 साल में काफी कम हुई है। 2011-12 में असुरक्षित यौन संबंध के कारण एचआईवी से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 2.4 लाख थी जबकि 2020-21 में यह घटकर 85,268 रह गई।  

2011-2021 के बीच का आंकड़ा  

मध्य प्रदेश के निवासी आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ के आवेदन के जवाब में राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (एनएसीओ) ने बताया कि 2011-2021 के बीच भारत में असुरक्षित यौन संबंध के कारण 17,08,777 लोग एचआईवी से संक्रमित हुए। आंध्र प्रदेश में एचआईवी संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए जहां 3,18,814 लोग इस विषाणु की चपेट में आए। इसके बाद महाराष्ट्र में 2,84,577, कर्नाटक में 2,12,982, तमिलनाडु में 1,16,536, उत्तर प्रदेश में 1,10,911 और गुजरात में 87,400 मामले दर्ज किए गए। 

जांच संबंधी आंकड़ों के मुताबिक, 2011-12 से 2020-21 के बीच रक्त और रक्त उत्पाद के जरिए 15,782 लोग एचआईवी से पीड़ित हुए जबकि मांओं के जरिए 4,423 बच्चों को यह बीमारी फैली। आंकड़ों के अनुसार, सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में एचआईवी संक्रमण के मामलों में कमी देखी गई है। देश में 2020 तक 81,430 बच्चों सहित एचआईवी पीड़ित लोगों की संख्या 23,18,737 थी। जवाब के मुताबिक, जांच के दौरान संक्रमित व्यक्तियों ने परामर्शदाताओं को बताया कि वे किस वजह से एचआईवी से संक्रमित हुए हैं और इसी पर यह सूचना आधारित है।  

अगर एचआईवी का इलाज नहीं कराया जाए तो  

एचआईवी शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करता है। अगर एचआईवी का इलाज नहीं कराया जाए तो यह एड्स (एक्वायर्ड इम्युनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम) बन जाता है। यह विषाणु असुरक्षित यौन संबंध के अलावा, संक्रमित व्यक्ति के रक्त के संपर्क में आने से भी हो सकता है। एचआईवी से संक्रमित होने के चंद हफ्तों के अंदर ही प्रभावित व्यक्ति को फ्लू जैसे लक्षण हो सकते हैं जैसे कि बुखार, गला खराब होना और कमजोरी होना।  

ये होते है इसके लक्षण 

इसके बाद बीमारी के तब तक कोई लक्षण नहीं होते हैं जब तक कि यह एड्स नहीं बन जाए। एड्स के लक्षणों में वज़न घटना, बुखार या रात में पसीना आना, कमजोरी और बार-बार संक्रमण होना शामिल है। एचआईवी का कोई प्रभावी उपचार नहीं है, लेकिन इस तरह की दवाइयां हैं जिससे इसे प्रंबधित किया जा सकता है। गुरुग्राम स्थित फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टिट्यूट में इंटरनल मेडिसिन के निदेशक सतीश कौल ने बताया कि भारत में एचआईवी की स्थिति पिछले एक दशक में स्थिर हुई है। उन्होंने कहा, “भारत में एनएसीए का एक बहुत अच्छा नेटवर्क है, जो एचआईवी रोगियों के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है।  

तो एचआईवी के मामलों की संख्या में इज़ाफा हो सकता है 

‘हाइली एक्टिव एंटी रेट्रोवायरल’ उपचार (एचएएआरटी) आसानी से उपलब्ध है। वास्तव में वर्ष 2000 से एचआईवी संक्रमित रोगियों की संख्या में गिरावट देखी जा रही है।” द्वारका स्थित आकाश हेल्थकेयर में इंटरनल मेडिसिन के वरिष्ठ परामर्शदाता प्रभात रंजन सिन्हा ने कहा कि कोविड-19 महामारी संबंधी प्रतिबंधों के चलते बीते दो साल से देश में एचआईवी के मामले कम पता चल रहे हैं। उन्होंने कहा, “अब कोविड खत्म हो रहा है तो एचआईवी के मामलों की संख्या में इज़ाफा हो सकता है। अगर कोई व्यक्ति एचआईवी से संक्रमित पाया जाता है तो उसे जल्द से जल्द एंटी रेट्रोवायरल थेरेपी (एआरटी) दी जानी चाहिए।”