BREAKING NEWS

अगले 18 घंटे में मुंबई, ठाणे और कोंकण में बहुत तेज बारिश होने की संभावना, रेड अलर्ट जारी◾देश में बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 20572 रोगी कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए, रिकवरी दर 63 % से ज्यादा : स्वास्थ्य मंत्रालय◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 1674 नए मामले, अब तक 3487 लोगों की मौत◾कोविड - 19 : महाराष्ट्र में संक्रमण के 7,975 नए मामले और 11 हजार के करीब पहुंचा मौत का आंकड़ा ◾डीएसी बैठक में सशस्त्र बलों को हथियार खरीदने के लिए 300 करोड़ रुपये का इमरजेंसी फंड मंजूर◾कोरोना इफ़ेक्ट : एअर इंडिया कर्मचारियों को पांच साल तक के लिए बिना वेतन छुट्टी पर भेज सकता है ◾बिना नाम लिए राहुल का पायलट को सन्देश - जिसे पार्टी से जाना है वो जाएगा ही , घबराना क्यों ◾भारत- ईयू की भागीदारी आर्थिक पुनर्निमाण और मानव- केन्द्रित वैश्वीकरण की दिशा में महत्वपूर्ण : पीएम मोदी◾बातचीत के बाद बोला चीन - दोनों सेनाओं ने सैनिकों की वापसी को बढ़ावा देने की दिशा में प्रगति की◾LAC पर भारत का कड़ा रुख - सीमा प्रबंधन के लिये सहमति वाले सभी प्रोटोकॉल का पालन करे चीन◾CM गहलोत का दावा- सरकार गिराने के लिए हुई खरीद-फरोख्त, हमारे पास है प्रूफ◾रक्षा मंत्री दो दिन के दौरे पर जाएंगे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख, सेना प्रमुख भी होंगे साथ ◾CBSE Results 2020 : लाखों स्टूडेंट का इंतजार हुआ खत्म, 10वीं क्लास के एग्जाम का रिजल्ट जारी ◾World Youth Skills Day : PM मोदी बोले-कौशल के प्रति आकर्षण देता है जीने की ताकत◾भारत की वैश्विक रणनीति हो रही फेल, केंद्र सरकार की नीतियों के कारण घट रहा देश का सम्मान : राहुल◾देहरादून के चुक्खूवाला क्षेत्र में तेज बारिश से ढहा मकान, 3 लोगों की मौत, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों की संख्या 9 लाख 36 हजार के पार, 3 लाख 20 हजार एक्टिव केस◾भाजपा में नहीं जाऊंगा, उनके खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ी है : सचिन पायलट ◾भारत-EU शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे PM मोदी, कोरोना संकट पर रहेगा फोकस◾World Corona : दुनियाभर में पॉजिटिव मामलों की संख्या 1 करोड़ 33 लाख के करीब, अब तक 577843 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राफेल सौदे में FIR या CBI जांच का कोई सवाल ही नहीं है : केंद्र

केंद्र ने उच्चतम न्यायालय से कहा है कि राफेल लड़ाकू विमान सौदे में प्राथमिकी दर्ज करने या सीबीआई जांच कराने का कोई सवाल ही नहीं है क्योंकि शीर्ष न्यायालय पहले ही कह चुका है कि इस ‘‘संवेदनशील मुद्दे’’ में उसके हस्तक्षेप करने के लिए कोई वजह नहीं है। केंद्र ने कहा है कि नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) रिपोर्ट ने इन लड़ाकू विमानों की कथित ‘अत्यधिक कीमत’ के बारे में याचिकाकर्ताओं की मुख्य दलीलों को झूठा साबित कर दिया है। 

गौरतलब है कि शीर्ष न्यायालय के पिछले साल 14 दिसंबर के उस फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग करने वाली याचिकाओं को केंद्र ने खारिज करने की मांग की है, जिसमें (फैसले में) फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट से 36 लड़ाकू विमानों की खरीद पर सरकार को क्लिन चिट दी गई थी। शीर्ष न्यायालय में दाखिल 39 पृष्ठों की अपनी लिखित दलील में केंद्र ने कहा है कि याचिकाकर्ताओं और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, अरूण शौरी तथा अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने ऐसा कोई ठोस आधार नहीं पेश किया जो 14 दिसंबर के फैसले पर पुनर्विचार को न्यायोचित ठहरा सके। 

सरकार ने कहा कि खासतौर पर तब, जब यह न्यायालय इस निष्कर्ष पर पहुंच गया कि सभी तीन पहलुओं पर - जो निर्णय लेने की प्रक्रिया, मूल्य निर्धारण और भारतीय ऑफसेट पार्टनर हैं - भारत सरकार द्वारा 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद के संवदेनशील मुद्दे पर इस अदालत के हस्तक्षेप करने की कोई वजह नहीं है। साथ ही, कोई प्राथमिकी दर्ज करने या सीबीआई से जांच कराने का कोई सवाल ही नहीं है। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ ने राफेल मामले में 14 दिसंबर के फैसले पर पुनर्विचार करने की याचिकाओं पर 10 मई को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। 

सिन्हा, शौरी और भूषण के अलावा ‘आप’ के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह और अधिवक्ता विनीत ढांढा ने भी पुनर्विचार याचिकाएं दायर की हैं। अपनी लिखित दलील में केंद्र ने कहा है कि फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की आड़ में और प्रेस में आई कुछ खबरों तथा कुछ अधूरी आंतरिक फाइल नोटिंग पर निर्भर करते हुए याचिकाकर्ता समूचे विषय को फिर से खोलने की मांग नहीं कर सकते क्योंकि पुनर्विचार याचिका की गुंजाइश अत्यधिक सीमित है। 

दलील में कहा गया है कि फाइल नोटिंग की ये प्रतियां अनधिकृत रूप से और अवैध तरीके से हासिल की गई थी। केंद्र ने यह भी कहा कि याचिकाकर्ताओं ने पुनर्विचार याचिका में कोई नया साक्ष्य नहीं दिया है, सिवाय इसके कि उन्होंने अपना केस अब कुछ उन दस्तावेजों पर बनाया है जिनकी प्रतियां रक्षा मंत्रालय की गोपनीय फाइलों से अनधिकृत रूप से हासिल की गई थी। 

केंद्र ने कहा कि कैग को फाइल और दस्तावेज उपलब्ध कराए गए और इसका अध्ययन करने तथा अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप देने में करीब दो साल लगा। केंद्र ने कहा कि कैग की रिपोर्ट में याचिकाकर्ताओं की इस मुख्य दलील का समर्थन नहीं किया गया है कि विमानों की कीमत एएमआरसी बोली से अत्यधिक है। परियोजना का क्रियान्वयन अपने तय कार्यक्रम से हो रहा है और दोनों देशों की सरकारें इसकी करीबी निगरानी कर रही है। 

सरकार ने यह भी कहा कि भारतीय ऑफसेट साझेदार के चयन में सरकार की कोई भूमिका नहीं रही। केंद्र ने कहा कि इस सौदे की प्रक्रिया की प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा निगरानी को हस्तक्षेप या समानांतर बातचीत के रूप में नहीं देखा सकता। सरकार ने कहा कि भारतीय वायु सेना के कर्मियों का प्रशिक्षण फ्रांस में जारी है।

 इस खरीद को बाधित करने की कोई भी कोशिश परियोजना को क्रियान्वित करने में देर कर सकती है और इससे वायुसेना की संचालन तैयारियां प्रभावित होंगी। उल्लेखनीय है कि सिन्हा, शौरी और भूषण ने शीर्ष न्यायालय में आरोप लगाया था कि केंद्र ने राफेल विमानों की खरीद में शीर्ष न्यायालय को जानबूझ कर गुमराह किया है और यह एक बड़ा फर्जीवाड़ा है।