BREAKING NEWS

'भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, BECA पर करेंगे साइन◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾जेपी नड्डा का RJD पर तंज- नौकरी छीनने वाले आज कर रहे हैं नौकरी देने की बात ◾अनुराग कश्यप पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष अठावले की पार्टी में हुईं शामिल ◾IPL-13 : KXIP vs KKR, प्लेऑफ की दौड़ में पंजाब को बने रहने के लिए बनानी होगी जीत में निरंतरता ◾पंजाब में पीएम मोदी का पुतला जलाने पर भड़के नड्डा, कहा- राहुल गांधी निर्देशित है यह ड्रामा◾महबूबा के बयान के खिलाफ लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश, हिरासत में लिए गए BJP कार्यकर्ता◾कृषि बिल पर राहुल गांधी की नसीहत- गुस्साए किसानों की बात सुनें पीएम मोदी◾बिहार चुनाव में आलू और प्याज की एंट्री, 60 घोटालों के आरोप में तेजस्वी ने CM नीतीश को घेरा ◾Bihar Election : एक बार फिर नीतीश के खिलाफ हुए चिराग, बोले- CM हो या कोई अधिकारी, जेल भेजा जाएगा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सीलबंद लिफाफे की सामग्री के आधार पर निष्कर्ष निकालना अनुचित : SC

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जांच एजेंसी द्वारा एक सील कवर में सामग्री प्रस्तुत करना संभावित रूप से आरोपी के पूर्व ट्रायल को रोक सकता है। अदालत ने यह टिप्पणी आईएनएक्स मीडिया घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा दर्ज एक मनी लॉन्ड्रिंग केस में वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम को जमानत देते समय की। सुनवाई के अंतिम दिन ईडी की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मामले से जुड़ी जानकारी वाले तीन सीलबंद लिफाफे सौंपे थे। 

न्यायमूर्ति आर. भानुमति की अध्यक्षता वाली पीठ में उनके अलावा न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय ने कहा कि दिल्ली हाईकोर्ट, जिसने पिछले महीने चिदंबरम को जमानत देने से इनकार कर दिया था, को एक सीलबंद लिफाफे में मौजूद सामग्री के आधार पर रिकॉर्ड दर्ज नहीं करना चाहिए था। 

शीर्ष अदालत ने कहा, अगर हर मामले में अभियोजन पक्ष एक सीलबंद लिफाफे में दस्तावेज प्रस्तुत करता है और उसी पर निष्कर्ष दर्ज किए जाएं कि अपराध किया गया और इसे जमानत देने या अस्वीकार करने का आधार माना जाए तो यह निष्पक्ष सुनवाई की अवधारणा के खिलाफ होगा। 

शीर्ष अदालत ने पाया कि वर्तमान परिस्थितियों में वह सीलबंद लिफाफे को खोलने की इच्छुक नहीं है। अदालत ने हालांकि कहा कि दिल्ली हाईकोर्ट ने सीलबंद लिफाफे में दस्तावेज को स्वीकार किया और खास निष्कर्ष पर पहुंच गया और इसलिए वह आदेश चुनौती देने लायक है। अदालत ने कहा, हमारे लिए यह भी आवश्यक है कि हम सील किए गए कवर को खोल दें और सामग्री को पढ़ें, ताकि खुद को संतुष्ट कर सकें। चिदंबरम को जमानत देते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि भले ही आरोप गंभीर आर्थिक अपराध में से एक है, मगर यह कोई नियम नहीं है कि जमानत को हर मामले में खारिज कर दिया जाना चाहिए।