BREAKING NEWS

TOP - 5 NEWS 03 MARCH : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾आज का राशिफल (03 मार्च 2021)◾आपातकाल एक गलती थी : राहुल गांधी◾यूएई में पहली बार ‘एक्सरसाइज डेजर्ट फ्लैग-6’ युद्धाभ्यास में भाग लेगी भारतीय वायु सेना ◾असम में पहले चरण के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी ◾देश में कोविड-19 टीके की अब तक 1.54 करोड़ खुराक दी गई : सरकार◾कांग्रेस को गुजरात निकाय चुनाव में लगा झटका, हारने वालों में एक विधायक समेत सात नेताओं के बेटे भी शामिल ◾चुनाव से पहले ममता बनर्जी को एक और बड़ा झटका, TMC नेता जितेंद्र तिवारी भाजपा में हुए शामिल ◾निजी क्षेत्र की नौकरियों में हरियाणा वासियों को मिलेगा 75 फीसदी कोटा, सरकार जल्द जारी करेगी नोटिफिकेशन◾संयुक्त किसान मोर्चा का ऐलान, चुनाव वाले राज्यों में टीमें भेजकर लोगों से भाजपा को हराने की करेंगे अपील◾कंगना रनौत का तीखा तंज : मेरे खिलाफ वारंट जारी करवाने में जावेद चाचा ने ली सरकार की मदद ◾असम चुनाव में कांग्रेस नीत महागठबंधन भाजपा का करेगा अंतिम संस्कार : बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट ◾प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर हमला - केंद्र की नीतियां सिर्फ अमीर लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए है◾UNHRC में भारत ने फिर पाकिस्तान को किया बेनकाब, आतंकवादी बनाने का अड्डा करार दिया ◾मालदा रैली में बोले योगी-घुसपैठियों को बाहर करने की बात पर तिलमिला जाती है बंगाल सरकार◾असम में बोलीं प्रियंका-सत्ता में आने पर रद्द करेंगे CAA, सरकारी नौकरी तथा मुफ्त बिजली का भी वादा◾मोदी सरकार ने बिना सोचे समझे लिए फैसले, इस वजह से भारत में बेरोजगारी चरम पर है : मनमोहन सिंह ◾गुजरात निकाय चुनावों के शुरूआती नतीजों में BJP बनी हुई है सबसे बड़ी पार्टी◾कांग्रेस vs कांग्रेस : ISF के साथ गठबंधन पर आनंद शर्मा के सवालों पर अधीर रंजन का 'पलटवार'◾पीएम मोदी की तारीफ करने पर गुलाम नबी आजाद के खिलाफ कांग्रेस में मचा घमासान, फूंका पुतला◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

विदेश मंत्री एस जयशंकर बोले- भारत और चीन अभूतपूर्व स्थिति से गुजर रहे हैं

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद के संदर्भ में बृहस्पतिवार को कहा कि दोनों देश अभूतपूर्व स्थिति से गुजर रहे हैं। विश्व आर्थिक मंच के ऑनलाइन सम्मेलन को संबोधित करते हुए जयशंकर ने कहा कि भारत और चीन अपनी वृद्धि के साथ-साथ ही कैसे एक-दूसरे के साथ तालमेल बैठाते हैं, यह एक बड़ा मुद्दा है, जिसका एक हिस्सा सीमा विवाद है।

रूस की राजधानी मास्को में शंघाई सहयोग संगठन की बैठक से इतर 10 सितंबर को चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ बातचीत के बाद, साढ़े चार महीने से चल रहे सीमा विवाद पर जयशंकर की यह पहली टिप्पणी है। एशिया के दो बड़े देशों के बीच रिश्ते कैसे आगे बढ़ेंगे, इस सवाल पर जयशंकर ने कहा कि भारत और चीन के लिए यह जरूरी है कि वे एक-दूसरे के विकास को समायोजित करने की जरूरत को समझें।

विदेश मंत्री ने कहा, हम एक तरह से अभूतपूर्व स्थिति से गुजर रहे हैं। लेकिन अगर कोई इसे व्यापक तौर पर देखता है तो मैं कहता हूं कि यह बड़े घटनाक्रम का एक पहलू है जिसके लिए भारत और चीन को बैठकर हल खोजना होगा। उन्होंने कहा कि दोनों देशों की कूटनीति के लिए बड़ी चुनौती यह है कि वे कैसे एक-दूसरे की वृद्धि को समायोजित करते हैं।

गौरतलब है कि सोमवार को भारत और चीन के कोर कमांडरों की अहम वार्ता हुई थी, जिसके बाद दोनों पक्षों ने कई फैसलों की घोषणा की जिनमें सीमा पर अधिक सैनिकों को भेजना बंद करना और ऐसी किसी कार्रवाई से बचना जिससे मामला और जटिल होता हो, शामिल हैं। जयशंकर ने विश्व आर्थिक मंच पर दुनिया के कुछ अहम मसलों पर अपनी राय रखी। उन्होंने कहा कि वैश्वीकरण को लेकर हमें अपनी सोच में बदलाव करने की जरूरत है।