BREAKING NEWS

महबूबा ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- यहां गोडसे का कश्मीर बन रहा◾अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾

भारत और फ्रांस तीसरे संयुक्त उपग्रह मिशन पर कर रहे है काम : इसरो

भारत और फ्रांस तीसरे संयुक्त उपग्रह मिशन पर काम कर रहे हैं और दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय अंतरिक्ष सहयोग मानव अंतरिक्ष उड़ान समेत कई क्षेत्रों में प्रवेश कर रहा है। इसरो अध्यक्ष के. सिवन ने शनिवार को कहा कि सरकार ने अंतरिक्ष क्षेत्र में हाल में सुधार करके जो अवसर पैदा किए हैं, कई फ्रांसीसी कंपनियां उन अवसरों का इस्तेमाल करना चाहती हैं। उन्होंने राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार हेतु राष्ट्रीय परिषद (एनसीएसटीसी) और ‘विज्ञान प्रसार’ द्वारा आयोजित डिजिटल कार्यक्रम में कहा, ‘‘फ्रांस अंतरिक्ष में भारत का सबसे बड़ा साझेदार है।’’ ‘भू-स्थानिक डेटा और मानचित्रण में भारत की अंतरिक्ष संबंधी क्षमताओं को बढ़ाने’ के विषय पर डीएसटी (विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग) स्वर्ण जयंती संवाद के दौरान सिवन ने यह बात कही। इसरो अधिकारियों के अनुसार, इसरो और फ्रांस की अंतरिक्ष एजेंसी सीएनईएस ने दो संयुक्त मिशन किए है। पहले मिशन के तहत ‘मेघा-ट्रॉपिक्स’ को 2011 में और दूसरे मिशन के तहत ‘सरल अल्तिका’ को 2013 में प्रक्षेपित किया गया था। सिवन ने कहा, ‘‘इस समय हम तीसरे मिशन पर काम कर रहे हैं।’’ अधिकारियों ने बताया कि इसरो और सीएनईएस ने ‘थर्मल इन्फ्रारेड (अवरक्त) इमेजर’ ‘तृष्णा’ (प्राकृतिक संसाधन आकलन के लिए हाई रेजोल्यूशन (उच्च गुणवत्ता) वाले थर्मल इंफ्रारेड इमेजिंग सैटेलाइट) के जरिए पृथ्वी का अवलोकन करने वाले उपग्रह मिशन की व्यवहार्यता का अध्ययन कर लिया है।

सिवन ने कहा कि भारत फ्रांस के साथ मिलकर अंतरिक्ष मिशनों में वैज्ञानिक यंत्रों के समायोजन एवं संयुक्त प्रयोगों पर भी काम कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘अंतरिक्ष संबंधी खोज एवं मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम समेत कई क्षेत्रों में भारत और फ्रांस के बीच अंतरिक्ष में सहयोग बढ़ रहा है।’’

इसरो अधिकारियों ने बताया कि दोनों अंतरिक्ष एजेंसियों ने सीएनईएस के ‘अर्गोस’ उपकरण के इसरो के ओशेनसैट-3 उपग्रह में समायोजन के लिए सभी इंटरफेस नियंत्रण दस्तावेजों को भी अंतिम रूप दे दिया है।

उन्होंने कहा, ‘‘ ‘नाविक’ (भारतीय क्षेत्रीय मार्गनिर्देशन उपग्रह तंत्र) का फ्रांस में स्टेशन बनाने और भारत में सीएनईएस के ‘सिंटिलेशन’ रिसीवर की स्थापना पर वार्ता चल रही है।’’ सिवन ने कहा कि अंतरिक्ष के क्षेत्र में हाल में सरकार के किए सुधारों के कारण उद्योगों, शिक्षा क्षेत्र और अनुसंधान संस्थानों समेत अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत और फ्रांस के बीच सहयोग और बढ़ने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि कई फ्रांसीसी कंपनियां क्षेत्र में सुधारों का ‘‘लाभ उठाना चाहती’’ हैं। सिवन ने कहा कि सुधारों के कारण केवल सरकारों के स्तर पर ही अंतरिक्ष क्षेत्र में सुधार नहीं होगा, बल्कि बदले माहौल में उद्योगों के बीच भी आपसी संवाद को ‘‘नया रूप’’ मिलने वाला है।