BREAKING NEWS

दिल्ली : CM केजरीवाल ने सरकारी खेल केंद्रों को रात 10 बजे तक खुला रखने का दिया निर्देश, जानिए क्यों लिया यह फैसला ◾Delhi Lieutenant Governor: विनय कुमार सक्सेना ने दिल्ली के नए उपराज्यपाल के रूप में शपथ ली◾पूरे हुए मोदी सरकार के 8 साल... जानें किन अहम बदलावों के लिए किया जाएगा प्रधानमंत्री को याद!◾UP Budget 2022 : योगी सरकार ने महिला सुरक्षा, रोजगार और मेट्रो के लिए की घोषणा, जानिए खास बातें ◾J&K : शूटिंग पर जाने से मना किया तो टीवी कलाकार को मारी गोली, आतंकियों की तलाश में जारी है सर्च ऑपेरशन◾डिंपल यादव नहीं... जयंत चौधरी होंगे राज्यसभा जाने वाले तीसरे उम्मीदवार, SP-RLD के संयुक्त प्रत्याशी ◾महाराष्ट्र : परिवहन मंत्री अनिल परब के घर ED ने मारा छापा, सौमेया बोले- कैबिनेट के तीसरे मंत्री जेल...... ◾World Corona: 52.7 करोड़ नए मामलों की हुई पुष्टि, जानें अब तक कितने लोगों ने गंवाई जान ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾अभ्यास बाद में करें खिलाड़ी, IAS अफसर को ट्रैक पर टहलाना है कुत्ता, जानिए क्या है मामला ◾योगी सरकार आज पेश करेगी अपने 2.O कार्यकाल का बजट, संकल्प पत्र में किए गए वादों पर रहेगा जोर ◾अफगानिस्तान : दो अलग-अलग विस्फोट में हुई 14 लोगों की मौत, ISIS ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾J&K: कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने ढेर किए LET के 3 आतंकी, 24 घंटे में 6 का हुआ सफाया ◾Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾

भारत ने गेहूं के निर्यात पर लगाई रोक, रूस-यूक्रेन युद्ध के समय बढ़ी थी मांग

भारत ने घरेलू स्तर पर बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के उपायों के तहत गेहूं के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है। आधिकारिक अधिसूचना से यह जानकारी मिली है। हालांकि, विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने 13 मई को जारी अधिसूचना में कहा, इस अधिसूचना की तारीख या उससे पहले जिस खेप के लिए अपरिवर्तनीय ऋण पत्र (एलओसी) जारी किए गए हैं, उसके निर्यात की अनुमति होगी। डीजीएफटी ने कहा, गेहूं की निर्यात नीति पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगाया जाता है। उसने यह भी स्पष्ट किया कि भारत सरकार द्वारा अन्य देशों को उनकी खाद्य सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए और उनकी सरकारों के अनुरोध के आधार पर दी गई अनुमति के आधार पर गेहूं के निर्यात की अनुमति दी जाएगी। एक अलग अधिसूचना में डीजीएफटी ने प्याज के बीज के लिए निर्यात शर्तों को आसान बनाने की घोषणा की।

अप्रैल में खुदरा मुद्रास्फीति आठ साल के उच्च स्तर पर पहुंच गई है
डीजीएफटी ने कहा, प्याज के बीज की निर्यात नीति को तत्काल प्रभाव से सीमित श्रेणी के तहत रखा जाता है। पहले प्याज के बीज का निर्यात प्रतिबंधित था। इस सप्ताह जारी आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि ईंधन और खाद्य पदार्थों की ऊंची कीमतों के कारण अप्रैल में खुदरा मुद्रास्फीति आठ साल के उच्च स्तर पर पहुंच गई। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध के कारण गेहूं की वैश्विक आपूर्ति में व्यवधान के मद्देनजर निर्यात पर प्रतिबंध लगाया गया है। रूस और यूक्रेन गेहूं के प्रमुख निर्यातक रहे हैं। मजबूत वैश्विक मांग के कारण 2021-22 में भारत का गेहूं निर्यात बढ़कर 70 लाख टन यानी 2.05 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया। डीजीएफटी के आंकड़ों के अनुसार, पिछले वित्त वर्ष में कुल गेहूं निर्यात में से लगभग 50 प्रतिशत खेप बांग्लादेश भेजी गई थी। पिछले साल इसी अवधि में 1,30,000 टन के मुकाबले देश ने इस साल लगभग 9,63,000 टन गेहूं का निर्यात किया।

44 प्रतिशत घटकर 1.62 लाख टन रह गई है गेहूं खरीद
बता दें कि, देश को 2022-23 में एक करोड़ टन गेहूं का निर्यात करने की उम्मीद थी। वाणिज्य मंत्रालय ने हाल ही में कहा था कि भारत गेहूं के निर्यात की खेप को बढ़ावा देने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए नौ देशों-मोरक्को, ट्यूनीशिया, इंडोनेशिया, फिलीपींस, थाईलैंड, वियतनाम, तुर्की, अल्जीरिया और लेबनान में व्यापार प्रतिनिधिमंडल भेजेगा। निजी व्यापारियों द्वारा भारी उठान और पंजाब-हरियाणा में कम आवक के कारण मौजूदा रबी विपणन सत्र में एक मई तक भारत की गेहूं खरीद भी 44 प्रतिशत घटकर 1.62 लाख टन रह गई है। सरकार ने एक साल पहले की अवधि में 2.88 लाख टन गेहूं की खरीद की थी। रबी विपणन सत्र अप्रैल से मार्च तक चलता है।
केंद्र ने 4.44 लाख टन गेहूं की खरीद का रखा है लक्ष्य
निर्यात के लिए अनाज की बढ़ती मांग के बीच निजी कंपनियों ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से अधिक कीमत पर गेहूं खरीदा है। केंद्र ने विपणन वर्ष 2022-23 में रिकॉर्ड 4.44 लाख टन गेहूं की खरीद का लक्ष्य रखा है, जबकि पिछले विपणन वर्ष में यह 4.33 लाख टन था। केंद्रीय पूल के लिए कम खरीद के बीच केंद्र ने थोक उपभोक्ताओं को मुक्त बाजार बिक्री योजना (ओएमएसएस) के तहत गेहूं की बिक्री रोक दी है और उन्हें अनाज खरीदने के लिए योजना के शुरू होने की प्रतीक्षा नहीं करने को कहा है। कृषि मंत्रालय के दूसरे अग्रिम अनुमान के मुताबिक, फसल वर्ष 2021-22 (जुलाई-जून) में गेहूं का रिकॉर्ड 11.13 लाख टन उत्पादन होने का अनुमान है।