BREAKING NEWS

PM मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप के बीच फोन पर हुई बात, ट्रंप ने मोदी को G-7 सम्मेलन में शामिल होने का दिया न्योता◾चक्रवात निसर्ग : राहुल गांधी बोले- महाराष्ट्र और गुजरात के लोगों के साथ पूरा देश खड़ा है ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,287 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 72 हजार के पार ◾वित्त मंत्रालय में कोरोना वायरस ने दी दस्तक, मंत्रालय के 4 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव ◾कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच, सरकार ने कहा- भारत महामारी से लड़ाई के मामले में अन्य देशों से बेहतर स्थिति में ◾जेसिका लाल हत्याकांड : उपराज्यपाल की अनुमति पर समय से पहले रिहा हुआ आरोपी मनु शर्मा ◾बाढ़ से घिरे असम के 3 जिलों में भूस्खलन, 20 लोगों की मौत, कई अन्य हुए घायल◾दिल्ली BJP अध्यक्ष पद से मनोज तिवारी का हुआ पत्ता साफ, आदेश गुप्ता को सौंपा गया कार्यभार◾दिल्ली हिंसा मामले में ताहिर हुसैन समेत 15 के खिलाफ दायर हुई चार्जशीट◾Covid-19 : अब घर बैठे मिलेगी अस्पतालों में खाली बेड की जानकारी, CM केजरीवाल ने लॉन्च किया ऐप◾कारोबारियों से बोले PM मोदी-देश को आत्मनिर्भर बनाने का लें संकल्प, सरकार आपके साथ खड़ी है◾ ‘बीएए3’ रेटिंग को लेकर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा-अभी तो स्थिति ज्यादा खराब होगी ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर तंज, कहा- 6 साल का बदलाव, मूडीज का डाउनग्रेड अब कहां गए मोदी जी?◾महाराष्ट्र और गुजरात में 'निसर्ग' चक्रवात का खतरा, राज्यों में जारी किया गया अलर्ट, NDRF की टीमें तैनात◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से 5598 लोगों ने गंवाई जान, पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 लाख के करीब ◾Covid-19 : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, मरीजों की संख्या 62 लाख के पार पहुंची ◾डॉक्टर ने की जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या की पुष्टि, कहा- गर्दन पर दबाव बनाने के कारण रुकी दिल की गति◾अमेरिका में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी जारी, मरीजों की आंकड़ा 18 लाख के पार हुआ ◾भारत में कोविड-19 से ठीक होने की दर पहुंची 48.19 प्रतिशत,अब तक 91,818 लोग हुए स्वस्थ : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,361 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 70 हजार के पार, अकेले मुंबई में 40 हजार से ज्यादा केस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की पहली लिस्ट, कालेधन के खिलाफ लड़ाई में मिलेगी मदद

भारत को सूचनाओं के स्वत: आदान-प्रदान की नई व्यवस्था के तहत स्विट्जरलैंड के बैंकों में भारतीय नागरिकों के खातों के ब्योरे की पहली सूची प्राप्त हो गई है। दोनों देशों के बीच सूचनाओं के स्वत: आदान प्रदान की इस व्यवस्था से भारत को विदेशी में अपने नागरिकों द्वारा जमा कराए गए कालेधन के खिलाफ लड़ाई में काफी मदद मिलेगी। 

स्विट्जरलैंड के संघीय कर प्रशासन (एफटीए) ने 75 देशों को एईओआई के वैश्विक मानदंडों के तहत वित्तीय खातों के ब्योरे का आदान-प्रदान किया है। भारत भी इनमें शामिल है। एफटीए के प्रवक्ता ने कहा कि भारत को पहली बार एईओआई ढांचे के तहत खातों के बारे में जानकारी प्रदान की गई है। 

PMC घोटाले के लिए मनजिंदर सिंह सिरसा ने RBI को ठहराया जिम्मेदार

इसमें उन खातों की सूचना दी जाएगी जो अभी सक्रिय है। इसके अलावा उन खातों का ब्योरा भी उपलब्ध कराया जाएगा जो 2018 में बंद किए जा चुके हैं। स्विट्जरलैंड में दुनिया के 75 देशों के करीब 31 लाख खाते हैं जो रडार पर हैं, इनमें भारत के कई खाते भी शामिल हैं। प्रवक्ता ने कहा कि इस व्यवस्था के तहत अगली सूचना सितंबर, 2020 में साझा की जाएगी। 

स्विट्जरलैंड की सरकार से जानकारी मिलने के बाद भारत सरकार के सूत्रों का कहना है कि जो जानकारी मिली है उसमें सभी खाते गैरकानूनी नहीं हैं। सरकारी एजेंसियां अब इस मामले में जांच शुरू करेंगी, जिसमें खाताधारकों के नाम, उनके खाते की जानकारी को इकट्ठा कर कानून के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी। 

साझा की गई सूचना के तहत पहचान, खाता और वित्तीय सूचना शामिल है। इनमें निवासी के देश, नाम, पते और कर पहचान नंबर के साथ वित्तीय संस्थान, खाते में शेष और पूंजीगत आय का ब्योरा दिया गया है। स्विट्जरलैंड सरकार ने अलग से बयान में कहा कि इस साल एईओआई के तहत 75 देशों के साथ सूचना का आदान-प्रदान किया गया है। 

इनमें से 63 देशों के साथ यह परस्पर आदान-प्रदान है। करीब 12 देश ऐसे हैं जिनसे स्विट्जरलैंड को सूचना तो प्राप्त हुई है लेकिन उसने उनको कोई सूचना नहीं भेजी है क्योंकि ये देश गोपनीयता और डेटा सुरक्षा पर अंतरराष्ट्रीय अनिवार्यताओं को पूरा नहीं कर पाए हैं। इन देशों में बेलीज, बुल्गारिया, कोस्टा रिका, कुरासाओ, मोंटेसेराट, रोमानिया, सेंट विन्सेंट, ग्रेनेडाइंस और साइप्रस शामिल हैं। 

इसके अलावा बरमूडा, ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड, केमैन आइलैंड, तुर्क्स एंड कैकोज आइलैंड आदि देशों ने सूचना नहीं मांगी है, इसलिए उन्हें खातों का ब्योरा साझा नहीं किया गया है। एफटीए ने बैंकों, न्यासों और बीमा कंपनियों सहित करीब 7,500 संस्थानों से ये आंकड़े जुटाए हैं। पिछले साल की तरह इस बार भी सबसे अधिक सूचनाओं का आदान-प्रदान जर्मनी को किया गया है। 

बयान में कहा गया है कि एफटीए वित्तीय संपत्तियों के बारे में कोई सूचना नहीं देता है। भारत के नागरिकों के बारे मे साझा की गई सूचनाओं के बाबत एफटीए प्रवक्ता ने कहा कि सांख्यिकी आंकड़े भी गोपनीयता के प्रावधान के तहत आते हैं। एफटीए ने कहा कि अगले साल इस व्यवस्था के तहत 90 देशों के साथ सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाएगा। 

स्विट्जरलैंड में एईओआई को कानूनी आधार पर पहली बार एक जनवरी, 2017 को क्रियान्वित किया गया थाा। आदान-प्रदान के जरिये हासिल सूचनाओं के जरिये कर अधिकारी इस बात का पता लगा सकते हैं कि क्या करदाता ने अपने कर रिटर्न में विदेशों में अपने वित्तीय खाते का सही ब्योरा दिया है। 

इस व्यवस्था के तहत पहली बार सूचना का आदान-प्रदान सितंबर, 2018 में 36 देशों के साथ किया गया था। आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन का वैश्विक मंच एईआईओ के क्रियान्वयन की समीक्षा करता है। विशेषज्ञों का कहना है कि इन सूचनाओं के आधार पर भारत बेहिसाबी धन रखने वाले लोगों के खिलाफ अभियोजन का ठोस मामला बना सकता है। 

कई अधिकारियों ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि इस सूची में ज्यादातर उद्योगपतियों के नाम है। इनमें प्रवासी भारतीय (एनआरआई) भी शामिल हैं जो दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों, अमेरिका और ब्रिटेन के साथ कुछ अफ्रीकी और दक्षिण अमेरिकी देशों में बस चुके हैं।