BREAKING NEWS

खून की नदियां' जैसे बयान से किसे चुनौती दे रहा विपक्ष : अमित शाह◾Top 20 News 22-May : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत ने किया रिसैट-2बी का प्रक्षेपण, घने बादलों के बावजूद भी ले सकेगा पृथ्वी की तस्वीरें◾न्यायालय ने बैरकपुर सीट से भाजपा प्रत्याशी को 28 तक गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान किया◾विपक्ष हारा हुआ है, वीवीपैट मुद्दे पर हताशा उनकी हार का संकेत : पासवान◾हेलीकॉप्टर घोटाला : ईडी ने कथित रक्षा एजेंट के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र किया दायर◾वीवीपैट पर्चियों की गिनती की मांग किस आधार पर खारिज की गई : कांग्रेस◾नये सांसदों को आते ही मिलेगा स्थायी पहचान पत्र◾लोकसभा चुनाव 2019 : प्रज्ञा ठाकुर, आजम खान और मुनमुन सेन जैसे नेता अपने बयानों से सुर्खियों में छाये रहे◾VVPAT मिलान की प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं होगा : चुनाव आयोग◾लोकसभा चुनाव में 724 महिला उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला कल !◾एग्जिट पोल शेयर बाजार में तेजी लाने और विपक्षी दलों की एकता तोड़ने के लिए : मोइली◾ईवीएम को लेकर उदित राज का विवादास्पद बयान, बोले- क्या सुप्रीम कोर्ट भी धांधली में शामिल है◾परिवार का रंग नहीं जमने पर विपक्ष साध रहा EVM पर निशाना : नकवी◾राहुल ने कार्यकर्ताओं से कहा- फर्जी एग्जिट पोल से निराश न हों, रहें सतर्क◾लोकसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने की 150 सभाएं और रोड शो◾PM मोदी पर राहुल ने की थी विवादित टिप्‍पणी, FIR दर्ज हो या नहीं, अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा◾...तो कांग्रेस और राहुल गांधी के लिए सहज स्थिति हो सकती है सीटों का शतक !◾लोकसभा चुनाव की मतगणना कल, परिणामों में विलंब की संभावना◾भाजपा उम्मीदवार की गिरफ्तारी से बचने संबंधी याचिका पर सुनवाई करने पर सहमत SC◾

राष्ट्रीय सुरक्षा, आतंकवाद जैसे अति महत्वपूर्ण मुद्दों का सामना कर रहा है भारत : जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को विपक्ष के इस तर्क को खारिज कर दिया कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर चुनाव नहीं लड़ा जाना चाहिए। सुरक्षा और आतंकवाद दीर्घकाल में सर्वाधिक महत्वपूर्ण मुद्दे हैं जबकि अन्य सभी चुनौतियों का शीघ्र समाधान हो सकता है। उन्होंने कहा भारत के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती जम्मू कश्मीर का मुद्दा है क्योंकि यह राष्ट्र की संप्रुभता की चिंता से जुड़ा हुआ है।

जेटली ने ‘क्यों जम्मू-कश्मीर, और आतंकवाद के लिए नया दृष्टिकोण एक प्रमुख राजनीतिक मुद्दा बना रहेगा’ शीर्षक से अपनी एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘भारत के विपक्ष का तर्क है कि चुनाव ‘वास्तविक मुद्दों’ पर लड़ना होगा और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर चुनाव नहीं लड़ा जाना चाहिए। मेरा तर्क है कि राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवाद दीर्घकाल में सर्वाधिक महत्वपूर्ण मुद्दे हैं। अन्य सभी चुनौतियों का जल्द समाधान किया जा सकता है।’’

विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पुलवामा में सीआरपीएफ के 40 जवानों की शहादत और पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना के जवाबी हमले को लेकर राजनीति कर रहे हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवाद को चुनावी बहस का विषय बनाने का कारण देते हुए जेटली ने कहा, ‘‘यह देश की संप्रभुता, अखंडता और सुरक्षा से संबंधित है।’’

 उन्होंने आरोप लगाया कि दो क्षेत्रीय दल (पीडीपी और नेकां) ने निराशाजनक भूमिका निभाई है और विपक्षी पार्टियों के मौजूदा नेतृत्व के पास शायद ही कोई रोडमैप है, सिवाय विनाश के रास्ते पर चलने के अलावा। जेटली ने आरोप लगाया कि चुनाव प्रचार के दौरान, जब भी पुलवामा में आतंकवादी हमले और बालाकोट में हवाई हमले से संबंधित मुद्दों को उठाया जाता है तो भारत का विपक्ष बैकफुट पर आ जाता है। उन्होंने कहा, ‘‘एक मजबूत सरकार और स्पष्टता वाला एक अकेला नेता कश्मीर मुद्दे को सुलझाने में सक्षम है। इसके लिए अतीत की ऐतिहासिक भूलों को सुधारने की जरूरत होगी।’’