BREAKING NEWS

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका में ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष से मुलाकात की◾कोलकाता नाइट राइडर्स ने मुंबई इंडियंस को सात विकेट से हराया◾मोदी ने की अमेरिकी सौर पैनल कंपनी प्रमुख के साथ भारत की हरित ऊर्जा योजनाओं पर चर्चा◾सेना की ताकत में होगा और इजाफा, रक्षा मंत्रालय ने 118 अर्जुन युद्धक टैंकों के लिए दिया आर्डर ◾असम के दरांग जिले में पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच में झड़प, 2 प्रदर्शनकारियों की मौत,कई अन्य घायल◾दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए घर पर ही की जाएगी टीकाकरण की सुविधा, केंद्र सरकार ने दी मंजूरी◾अमरिंदर का सवाल- कांग्रेस में गुस्सा करने वालों के लिए स्थान नहीं है तो क्या 'अपमान करने' के लिए जगह है◾तेजस्वी का तंज- 'नल जल योजना' बन गई है 'नल धन योजना', थक चुके हैं CM नीतीश ◾अमरिंदर के राहुल, प्रियंका को ‘अनुभवहीन’ बताने पर कांग्रेस ने कहा - बुजुर्ग गुस्से में काफी कुछ कहते है ◾जम्मू-कश्मीर : सेना का बड़ा ऑपरेशन, LoC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, तीन आतंकवादी ढेर◾आखिर किसने उतारा महंत नरेंद्र गिरी का शव, पुलिस के आने से पहले क्या हुआ शिष्य ने किया खुलासा ◾गैर BJP शासित राज्यों के राज्यपालों को शिवसेना ने बताया 'दुष्ट हाथी', कहा- पैरों तले कुचल रहे हैं लोकतंत्र ◾'धनबाद के जज उत्तम आनंद को जानबूझकर मारी गई थी टक्कर', CBI ने झारखंड HC को दी जानकारी◾महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत के बाद कमरे का वीडियो आया सामने, जांच के लिए प्रयागराज पहुंची CBI◾दिल्ली हाईकोर्ट में केंद्र ने कहा - पीएम केयर्स कोष सरकारी कोष नहीं है, यह पारदर्शिता से काम करता है◾अमेरिकी मीडिया में छाई पीएम मोदी और कमला हैरिस की मुलाकात, भारतीय अमेरिकियों के लिए बताया यादगार क्षण◾फोटो सेशन के लिए विदेश जाने की बजाए कोरोना मृतकों के लिए 5 लाख का मुआवजा दे PM : कांग्रेस ◾कांग्रेस में जारी है असंतुष्टि का दौर, नाराज जाखड़ पहुंचे दिल्ली, राहुल-प्रियंका समेत कई नेताओं से करेंगे मुलाकात ◾हिंदू-मुस्लिम आबादी पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने समझाया अपना 'गणित'◾अनिल विज का आरोप, भविष्य में पंजाब और PAK को नजदीक लाना चाहती है कांग्रेस◾

चीन के आक्रामक रवैये पर भारत का जवाब- जैसे को तैसा, देश ने 70 सालों में पहली बार बदला अपना रूख

भारत-चीन के बीच पिछले काफी समय से तनाव का माहौल बना हुआ है। पूर्वी लद्दाख की सीमा के विवाद को लेकर दोनों देशों ने कई दौर की राजयनिक और सैन्य वार्ता की, लेकिन किसी में भी सफलता हासिल नहीं हुई। गत पिछले दिनों भारत-चीन के मध्य जो बैठक हुई थी, उसमें दोनों देशों ने बातचीत के जरिए से ही सारे नाजुक मुद्दों को हल करने की बात कही थी। लेकिन इसके बाद भी चीन के आक्रामक रवैये ने भारत को अपनी रणनीति बदलने पर मजबूर कर दिया है। 

70 वर्षों में पहली बार भारत ने चीन के प्रति अपना रुख बदला है, अपने पिछले रक्षात्मक दृष्टिकोण के विपरीत, जिसने चीनी आक्रमण को रोकने के लिए एक प्रीमियम रखा था, भारत अब वापस हमला करने के लिए सैन्य विकल्पों को पूरा कर रहा है और उसके अनुसार अपनी सेना को पुनर्निर्देशित किया। भारत ने लगभग 50,000 सैनिकों को पुनर्निर्देशित किया है जिनका मुख्य फोकस चीन के साथ विवादित सीमा पर होगा।

सूत्रों ने कहा कि मथुरा स्थित 1 स्ट्राइक कॉर्प, जिसे पहले पश्चिमी सीमाओं को पाकिस्तान में पार करने का काम सौंपा गया था, को चीन के साथ विवादित सीमा क्षेत्रों में अपनी स्थिति से फिर से बदल दिया गया है। इसके अलावा मध्य क्षेत्र में - हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड से नेपाल तक चलने वाली सीमा के सबसे कम विवादित हिस्से में भी कम से कम डिवीजन स्तर के सैनिकों के साथ तैनाती को मजबूत किया गया है। भारतीय सेना के एक डिवीजन में कम से कम 10,000 सैनिक होते हैं।

पानागढ़ स्थित माउंटेन स्ट्राइक कोर को सीमा के पूर्वी सेक्टर को सौंपा गया है। एक्सवीआईआई माउंटेन स्ट्राइक कॉर्प्स, जिसे ब्रह्मास्त्र कॉर्प्स भी कहा जाता है, को जरूरत पड़ने पर पूर्वी क्षेत्र के साथ-साथ वापस हिट करने के लिए सौंपा गया है। माउंटेन स्ट्राइक कोर को केंद्र ने करीब एक दशक पहले मंजूरी दे दी थी, लेकिन अब तक इससे सिर्फ एक ही डिवीजन जुड़ा था। सरकार माउंटेन स्ट्राइक कोर को मजबूत करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है।

सैनिकों का यह पुनर्विन्यास केवल पाकिस्तान को समर्पित सैनिकों को कम करेगा, लेकिन साथ ही ज्यादा अभ्यस्त सैनिक जो उत्तरी सीमा से पाकिस्तान के साथ पश्चिमी सीमा पर स्थानांतरित हो सकते हैं, भारतीय सैन्य योजनाकारों के लिए उपलब्ध होंगे। यह भारतीय रक्षा प्रतिष्ठान को अपने पड़ोसियों की तुलना में उच्च स्तर की गतिशीलता और लचीलापन देता है।

सूत्रों ने कहा कि पुनर्विन्यास तब आता है जब चीन तिब्बती पठार में अपने मौजूदा हवाई क्षेत्रों का नवीनीकरण कर रहा है जो दो इंजन वाले लड़ाकू विमानों को तैनात करने की अनुमति देगा। इसके अलावा, चीन ने तिब्बत सैन्य क्षेत्र से शिनजियांग क्षेत्र में भी सैनिकों को लाया है - जो काफी हद तक काराकोरम र्दे से लेकर दक्षिण उत्तराखंड तक फैला हुआ है। इसके अलावा, उन्होंने बड़ी संख्या में लंबी दूरी के तोपखाने तैनात किए हैं और तिब्बती पठार में तेजी से बुनियादी ढांचे का निर्माण कर रहे हैं।

सीमा विवाद को सुलझाने के लिए अब तक 11 दौर की कूटनीतिक और सैन्य स्तर की बातचीत हो चुकी है। हालांकि, पैंगोंग त्सो में डी-एस्केलेशन के अलावा - 14000 फीट पर एक ग्लेशियर - पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स, डेमचोक और देपसांग में विवादित क्षेत्रों जैसे अन्य घर्षण बिंदुओं पर सीमा विवाद बना हुआ है।